पतंजलि की दवा को आयुष मंत्रालय ने दी अनुमति, लेकिन इन शर्तों के साथ बेच सकते हैं दवा

नई दिल्ली

योग गुरु बाबा रामदेव की पतंजलि योग पीठ में तैयार की गई कोरोनावायरस का नाश करने वाली दवा कोरोनिल को बेचने के लिए भारत सरकार के आयुष मंत्रालय ने अनुमति दे दी है।

हालांकि इसके साथ ही आयुष मंत्रालय ने कहा है कि स्टेट ड्रग अथॉरिटी के द्वारा लाइसेंस लेकर इस को बेचा जा सकेगा। साथ ही यह भी कहा है कि इस दवा के ऊपर कोरोना का कहीं पर कोई जिक्र नहीं होगा।

आपको बता दें कि 22 जून को जब बाबा रामदेव आचार्य बालकृष्ण के द्वारा इस दवा को लांच किया गया था, उसी दिन शाम को क्लिनिकल ट्रायल नहीं किए जाने और कागजात की पूर्ति नहीं किए जाने को लेकर आयुष मंत्रालय ने इसके प्रचार पर रोक लगा दी थी।

आयुष मंत्रालय ने मंगलवार को इस को बेचने की अनुमति देने के साथ ही यह भी कहा है कि बाबा रामदेव के पतंजलि योगपीठ में कोरोनावायरस के लिए क्लिनिकल ट्रायल जारी रखा जा सकता है।

आपको बता दें कि आयुष मंत्रालय के द्वारा इस दवा के प्रचार पर प्रतिबंध लगाए जाने के बाद उत्तराखंड सरकार के द्वारा भी बाबा के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर दिया गया था और राजस्थान में भी सरकार ने इसके बेचने पर प्रतिबंध लगा दिया था।

बाबा रामदेव ने दावा किया था कि उनके द्वारा 280 लोगों पर इस दवा का क्लिनिकल ट्रायल किया गया था, जिसके 100% नतीजे सकारात्मक आए थे और उन्होंने यह भी कहा था कि केवल 7 दिन के भीतर यह दवा कोरोनावायरस के गंभीर से गंभीर मरीज को भी ठीक कर सकती है।

यह भी पढ़ें :  राजस्थान यूनिवर्सिटी समेत सभी विश्वविद्यालयों की परीक्षाएं स्थगित, 15 जून के बाद होंगी परीक्षाएं

बाद में आयुष मंत्रालय के द्वारा इसके प्रचार पर रोक लगाए जाने के बाद सोशल मीडिया पर बाबा रामदेव और इसकी खिलाफत करने वालों के बीच जबरदस्त जंग छिड़ गई थी। बाबा रामदेव अब कोरोनिल और श्वासर वटी बेच सकते हैं