30 C
Jaipur
रविवार, जुलाई 5, 2020

चीन के चंगुल से नेपाल बाहर नहीं आया तो तिब्बत जैसे हालात होंगे : आरएसएस सूत्र

- Advertisement -
- Advertisement -

नई दिल्ली, 29 जून (आईएएनएस)। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) का मानना है कि अगर चीन के चंगुल से नेपाल जल्द बाहर नहीं निकला तो फिर उसकी स्थिति भी तिब्बत जैसी हो जाएगी। आरएसएस सूत्रों ने नेपाल की वर्तमान सरकार को चीन की विस्तारवादी नीतियों से सतर्क रहने को कहा है।
सांस्कृतिक समानताओं, मित्र राष्ट्र और सर्वाधिक हिंदू आबादी होने के कारण नेपाल के प्रति आरएसएस की हमेशा से रुचि रही है। राजशाही के दौरान साल 2008 तक नेपाल घोषित तौर पर हिंदू राष्ट्र हुआ करता था। हालांकि, 2008 में ही राजशाही खत्म होने के बाद नेपाल को तत्कालीन सरकार ने एक धर्मनिरपेक्ष देश घोषित कर दिया था। फिर भी आरएसएस, नेपाल को हिंदू राष्ट्र के तौर पर ही देखता है।

नए नक्शे को लेकर भारत और नेपाल के बीच पैदा हुए विवाद पर आरएसएस की लगातार नजर बनी हुई है। आरएसएस के एक वरिष्ठ पदाधिकारी ने नाम न छापने की शर्त पर नेपाल और भारत के रिश्ते को लेकर आईएएनएस से अपना विचार साझा किया।

वरिष्ठ पदाधिकारी ने कहा, नेपाल में ओली की कम्युनिस्ट सरकार चीन के हाथों में खेल रही है। नेपाल के राष्ट्रवादी लोग ओली सरकार का विरोध भी कर रहे हैं। ओली के नेतृत्व में नेपाल ने चीन के आगे पूरी तरह सरेंडर कर दिया है। अगर चीन के चंगुल से नेपाल बाहर नहीं आया तो फिर उसकी स्थिति तिब्बत की तरह होगी।

दरअसल, आरएसएस हमेशा शीर्ष पदाधिकारियों की बैठक के बाद ही किसी ज्वलंत मामले पर आधिकारिक बयान जारी करता है। ऐसे में संघ के वरिष्ठ पदाधिकारी ने अनाधिकारिक तौर पर इस मुद्दे पर अपनी राय दी।

आरएसएस पदाधिकारी ने आगे कहा, नेपाल को चीन के प्रभाव से बाहर आना ही होगा। नहीं तो उसकी संप्रभुता ही खतरे में पड़ जाएगी। क्योंकि चीन की विस्तारवादी नीतियों की दुनिया गवाह है। पड़ोसी देशों की जमीन पर उसकी निगाह हमेशा रहती है। नेपाल की जमीन पर भी उसने कब्जा शुरू कर दिया है। मित्र राष्ट्र नेपाल को चीन की चाल से होशियार रहना होगा।

नक्शा विवाद के बीच आरएसएस ने केंद्र सरकार और भारतीय मीडिया दोनों को नेपाल को मित्र देश के तौर पर ही देखने की सलाह दी है। आरएसएस का मानना है कि चीन और पाकिस्तान दोनों दुश्मन देश हैं, उनसे कड़ाई बरतनी जरूरी है, लेकिन नेपाल के साथ ऐसा बिल्कुल नहीं है। क्योंकि नेपाल की सरकार भले इस वक्त भारत के साथ असहयोगात्मक रवैया अपनाए हुए है, लेकिन वहां की जनता और कई दलों के लोग भारत के साथ खड़े हैं। नेपाल में प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली की सरकार की नीतियों का राष्ट्रवादी नेताओं और आम जनता ने विरोध करना शुरू किया है।

आरएसएस ने भारतीय मीडिया को विवाद की स्थिति में नेपाल के लिए कठोर शब्दों से बचने की सलाह दी है।

संघ पदाधिकारी ने आईएएनएस से कहा, भारत और नेपाल के बीच सैंकड़ों वर्षों के संबंध हैं। नेपाल हमारा सांस्कृतिक साथी है। दोनों भाई-भाई हैं। दोनों देशों में बहुत समानताएं हैं। ऐसे में जो भी विवाद हैं उन्हें शांत माहौल में नरमी के साथ सरकार को सुलझाना होगा। चीन और पाकिस्तान वाली पॉलिसी नेपाल के मामले में लागू नहीं हो सकती। नेपाल के मामले में नरम मगर कारगर रणनीति अपनानी होगी। मीडिया ऐसे शब्दों का इस्तेमाल न करे, जिससे नेपाल की जनता को किसी तरह की तकलीफ हो।

–आईएएनएस

National Dunia से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर लाइक और Twitter, YouTube पर फॉलो करें.

- Advertisement -
चीन के चंगुल से नेपाल बाहर नहीं आया तो तिब्बत जैसे हालात होंगे : आरएसएस सूत्र 2
Ram Gopal Jathttps://nationaldunia.com
नेशनल दुनिआ संपादक .

Latest news

बिहार विधान परिषद के सभापति कोरोना संक्रमित, सुमो का भी लिया गया नमूना

पटना, 4 जुलाई (आईएएनएस) बिहार विधान परिषद के सभापति अवधेश नारायाण सिंह भी कोरोना संक्रमित पाए गए हैं। उन्हें पटना एम्स में इलाज के...
- Advertisement -

प्रधानमंत्री राजधर्म का पालन करें, चीनी घुसपैठ के बारे में सच बताएं : कांग्रेस

नई दिल्ली, 4 जुलाई (आईएएनएस)। कांग्रेस ने शनिवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को राजधर्म की याद दिलाते हुए कहा कि वह चीनी घुसपैठ के...

रेमो डिसूजा को सेट की याद सता रही

मुंबई, 4 जुलाई (आईएएनएस)। कोरियोग्राफर-फिल्मकार रेमो डिसूजा को सेट पर रहने की याद सता रही है और वह यह सोच रहे हैं कि उन्हें...

चंबल एक्सप्रेस-वे से बीहड़ में बहेगी विकास की बयार, भारतमाला मे शामिल होगी परियोजना

नई दिल्ली, 4 जुलाई (आईएएनएस)। मध्यप्रदेश, राजस्थान व उत्तरप्रदेश के बीहड़-क्षेत्र में विकास की बयार लाने वाली बहुप्रीक्षित परियोजना चंबल एक्सप्रेस-वे को अमलीजामा पहनाने...

Related news

3 माह से वेतन नहीं, सैंकड़ों कर्मचारियों की कोरोनाकाल में भूखे मरने की नौबत आई

-वेतन नहीं मिला तो कर्मचारी पहुंचे न्यायालय की शरणजयपुर। कोरोना संक्रमण काल के दौरान भी काम कर रहे...

2 साल 2 माह के मुख्य सचिव डीबी गुप्ता को राजस्थान सरकार ने आधी रात क्यों हटाया?

जयपुर राजस्थान सरकार ने गुरुवार आधी रात राज्य की ब्यूरोक्रेसी में बड़ा बदलाव करते हुए भारतीय प्रशासनिक सेवा के...

थानाधिकारी सुसाइड मामले में आरोपित की गईं राजस्थान के एक विधायक को मुख्यमंत्री से भी बड़ी सुरक्षा प्रदान की गई है

जयपुर पिछले दिनों चूरू में सादुलपुर थाना अधिकारी विष्णु दत्त विश्नोई के सुसाइड मामले में विपक्षियों द्वारा जिस विधायक...

वसुंधरा से दूरियां, डॉ. सतीश पूनियां से नजदीकियां, आखिर क्या मंत्र है राठौड़ का?

जयपुर।राजस्थान विधानसभा में उप नेता प्रतिपक्ष और पिछली वसुंधरा राजे सरकार में पंचायती राज मंत्री रहे चूरू के विधायक राजेंद्र सिंह राठौड़...
- Advertisement -