29 C
Jaipur
सोमवार, जुलाई 13, 2020

भारत एलएसी पर किसी भी तरह के अतिक्रमण का करारा जवाब देगा : पीएमओ (लीड-1)

- Advertisement -
- Advertisement -

नई दिल्ली, 20 जून (आईएएनएस)। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को हुई सर्वदलीय बैठक में चीन से हुए टकराव पर कहा था कि न तो किसी ने हमारी सीमा में प्रवेश किया है, न ही किसी भी पोस्ट पर कब्जा किया गया है। इस बयान पर कांग्रेस और विपक्ष ने सवाल उठाते हुए कहा था कि तो फिर 20 जवान कैसे शहीद हुए। अब प्रधानमंत्री कार्यालय ने बैठक के एक दिन बाद शनिवार को कहा है कि कुछ लोग प्रधानमंत्री मोदी के बयान की शरारतपूर्ण व्याख्या कर रहे हैं।
पीएमओ ने स्पष्ट किया है कि भारत का क्षेत्र नक्शे में स्पष्ट है, सीमाओं की रक्षा को लेकर सरकार प्रतिबद्ध है। देश की सीमाओं पर किसी तरह का कोई अतिक्रमण नहीं हुआ है। 15 जून को वास्तविक नियंत्रण रेखा का चीन की ओर से किए जा रहे उल्लंघन को रोकते हुए जवान शहीद हुए थे।

पीएमओ की तरफ से यह स्पष्टीकरण पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के उस आरोप के बाद आया है कि जिसमें कहा गया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने चीन के समक्ष भारतीय क्षेत्र को सरेंडर कर दिया।

राहुल ने सर्वदलीय बैठक के एक दिन बाद शनिवार को ट्वीट कर कहा, प्रधानमंत्री ने चीनी आक्रमकता के समक्ष भारतीय क्षेत्र को सरेंडर कर दिया। अगर वह क्षेत्र चीन में था तो 1. हमारे जवान क्यों मारे गए? 2. वे कहां मारे गए थे?

पीएमओ ने यह भी कहा कि विपक्षी नेताओं को यह भी सूचित किया गया था कि चीनी सेना इसबार एलएसी के पास बड़ी संख्याबल में आ गए और भारतीय बलों की ओर से प्रतिक्रिया इसी के अनुरूप थी।

बयान में कहा गया है कि सर्वदलीय बैठक में प्रधानमंत्री ने स्पष्ट कहा था कि 15 जून को गलवान घाटी में हिंसा इसलिए हुई थी, क्योंकि चीन की तरफ से एलएसी के पास संरचना खड़ी करने की कोशिश की जा रही थी। चीन ने संरचना निर्माण रोकने से इन्कार कर दिया था।

पीएमओ ने कहा है कि सर्वदलीय बैठक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बयान का पूरा फोकस 15 जून को गलवान घाटी में हुई घटना को लेकर था, जिसमें 20 भारतीय सैनिक शहीद हुए थे। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जवानों की वीरता की प्रशंसा करते हुए कहा था कि उन्होंने चीन की चाल कामयाब नहीं होने दी।

प्रधानमंत्री ने इस बात पर जोर दिया था कि सशस्त्र बलों की बहादुरी के कारण ही वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) का चीन उल्लंघन नहीं कर सका। बिहार रेजीमेंट के सैनिकों के बलिदान ने सीमा पर संरचनाओं को खड़ा करने के चीन के प्रयासों को विफल कर दिया। उस दिन(15 जून) को एलएसी पर अतिक्रमण के प्रयास को भी विफल कर दिया।

प्रधानमंत्री मोदी ने मीटिंग में यह भी कहा था कि हमारे 20 बहादुर जवानों ने लद्दाख में राष्ट्र के लिए अपना सर्वोच्च बलिदान दिया है, लेकिन उन्होंने उन लोगों को सबक भी सिखाया जिन्होंने हमारी मातृभूमि की ओर देखने का दुस्साहस किया। राष्ट्र उनके साहस और बलिदान को हमेशा याद रखेगा। सीमा को लेकर उठे विवाद के बीच पीएमओ ने कहा है कि भारतीय क्षेत्र क्या है, यह भारत के नक्शे में स्पष्ट है। सीमाओं की सुरक्षा को लेकर सरकार दृढ़ और संकल्पबद्ध है।

सर्वदलीय बैठक में चीन के कुछ अवैध कब्जे की जानकारी भी दी गई है। पीएम मोदी ने बताया कि पिछले 60 वर्षों में 43 हजार वर्ग किमी की जमीन किस हालत में है, इससे पूरा देश वाकिफ है। यह भी स्पष्ट किया गया कि यह सरकार एलएसी के एकतरफा परिवर्तन की अनुमति नहीं देगी।

पीएमओ ने कहा कि ऐसे समय में जब हमारे बहादुर सैनिक हमारी सीमाओं की रक्षा कर रहे हैं, यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि उनका मनोबल कम करने के लिए अनावश्यक विवाद खड़ा किया जा रहा है। हमें विश्वास है कि प्रोपोगैंडा के जरिए भारतीयों की एकता को कम नहीं किया जा सकता है।

–आईएएनएस

National Dunia से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर लाइक और Twitter, YouTube पर फॉलो करें.

- Advertisement -
भारत एलएसी पर किसी भी तरह के अतिक्रमण का करारा जवाब देगा : पीएमओ (लीड-1) 2
Ram Gopal Jathttps://nationaldunia.com
नेशनल दुनिआ संपादक .

Latest news

अब तो ट्रम्प ने भी समझा मास्क का महत्व!

बीजिंग, 12 जुलाई (आईएएनएस)। कोरोना काल के दौरान अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप पहली बार इस शनिवार को मास्क पहने हुए नजर आए। जी...
- Advertisement -

कोरोना रोगियों को दिया जा रहा हल्दी वाला दूध और आयुर्वेदिक काढ़ा

नई दिल्ली, 12 जुलाई (आईएएनएस)। कोरोना से संक्रमित रोगियों की इम्युनिटी बढ़ाने के लिए उन्हें हल्दी वाला दूध और आयुर्वेदिक मिश्रणों का विशेष काढ़ा...

मप्र में मास्क के लिए रोको-टोको कार्यक्रम

भोपाल, 12 जुलाई (आईएएनएस)। मध्य प्रदेश सरकार ने सर्वाजनिक स्थलों पर मास्क के प्रयोग को अनिवार्य कर दिया है। अब मास्क न पहनने वाले...

चीन के थांगशानम में भूकंप, कोई हताहत नहीं

बीजिंग, 12 जुलाई (आईएएनएस)। चीनी भूकंप नेटवर्क के सर्वेक्षण के अनुसार रविवार सुबह हपेई प्रांत के थांगशान शहर में रिक्टर पैमाने पर 5.1 तीव्रता...

Related news

राजस्थान : 2 नोटिस की कहानी, जिस कारण पायलट विद्रोह पर आमादा

नई दिल्ली, 12 जुलाई (आईएएनएस)। राजस्थान में कांग्रेस की सरकार गिराने कथित रूप से विधायकों को रिश्वत देने के मामले में स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप...

SOG के नोटिस पर अशोक गहलोत ने मीडिया पर उड़ेला मामला

जयपुर। राजस्थान में राजनीतिक जोड़-तोड़ का कार्यक्रम तेजी से आगे बढ़ रहा है। राज्य के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के द्वारा एक दिन...

हर 100 साल में आती है महामारी, 1720, 1820, 1920 और अब 2020 में भयानक Covid-19

रामगोपाल जाट कोरोना वायरस की चपेट में अब पूरी दुनिया आ चुकी है। सबसे ज्यादा करीब 5500 मौतें चीन में हुई है। चीन के एक...

विश्लेषण: पानी के बाहर मछली की तरह छटपटाती वसुंधरा और वजूद ढूंढ़ते उनके खेमे के नेता!

रामगोपाल जाट "मछली जल की रानी है, जीवन उसका पानी है, हाथ लगाओ डर जाएगी, बाहर निकालो मर जाएगी......"
- Advertisement -