29 C
Jaipur
सोमवार, जुलाई 13, 2020

ओवैसी ने प्रधानमंत्री को पत्र लिखा, लद्दाख संकट के लिए जिम्मेदार ठहराया

- Advertisement -
- Advertisement -

हैदराबाद, 19 जून (आईएएनएस)। एआईएमआईएम प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने शुक्रवार को सीमा पर चीन के साथ पैदा हुए संकट के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को जिम्मेदार ठहराया, जिसमें भारत ने अपने 20 जवानों को खो दिया है।
ओवैसी की पार्टी ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) को लद्दाख तनाव पर प्रधानमंत्री द्वारा बुलाई गई सर्वदलीय बैठक में आमंत्रित नहीं किया गया। इसके बाद ओवैसी ने प्रधानमंत्री को एक पत्र लिखा।

हैदराबाद के सांसद ने लिखा, इस संकट का दोष केवल आपके राजनीतिक, रणनीतिक और सैन्य नेतृत्व पर है। यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि आप चीनी इरादों से निपटने में असफल रहे।

ओवैसी ने कहा कि शहीद हुए जवानों का बलिदान व्यर्थ नहीं जाना चाहिए और उनका बदला लेने का सबसे अच्छा तरीका यह है कि किसी भी तरह से गलवान घाटी और पैंगॉन्ग झील क्षेत्रों में भारतीय क्षेत्र को चीनी कब्जे से छुड़ाकर उसे फिर से प्राप्त किया जाए।

उन्होंने मांग की कि सरकार देश के साथ चीनी अतिक्रमण की हद, भारत (सरकार) की ओर से निर्णय लेने में चूक और भारतीय क्षेत्र पर चीनी कब्जे के परिणाम के बारे में तथ्यों को साझा करे।

ओवैसी ने भारतीय जवानों के शहीद होने और क्षेत्र में हुई घुसपैठ जैसी घटनाओं के अनुक्रम को देखने के लिए एक स्वतंत्र समीक्षा समिति की भी मांग की।

उन्होंने पत्र में कहा, सरकार को समिति के निष्कर्षों को एक श्वेत पत्र में प्रकाशित करना चाहिए और इसे जनता के लिए सुलभ बनाना चाहिए।

उन्होंने कहा कि श्वेत पत्र में मई 2014 के बाद से चीनी कब्जे में भारतीय क्षेत्र जैसे सवालों पर स्पष्टता प्रदान की जानी चाहिए। इसके अलावा कितने जवान चीनी घुसपैठ या आमने-सामने संघर्ष होने के कारण अपनी जान गंवा बैठे, चीन के साथ कितने दौर की वार्ता हुई, वार्ता की स्थिति आदि के बारे में स्पष्ट किया जाना चाहिए।

ओवैसी ने यह भी मांग की कि संसद जल्द से जल्द बुलाई जाए, ताकि विपक्षी दल, सत्ता पक्ष से जवाब मांग सकें और सरकार भारतीय क्षेत्र पर कब्जे के बारे में प्रतिनिधियों के सवालों के जवाब देने के लिए बाध्य हो।

ओवेसी ने सर्वदलीय बैठक में आमंत्रित नहीं किए जाने पर अपनी निराशा व्यक्त की।

उन्होंने कहा, ऐसे समय में जब राष्ट्रीय आम सहमति और एक एकीकृत प्रतिक्रिया आवश्यक है, यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि एआईएमआईएम को बैठक के लिए आमंत्रित नहीं किया गया।

–आईएएनएस

National Dunia से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर लाइक और Twitter, YouTube पर फॉलो करें.

- Advertisement -
ओवैसी ने प्रधानमंत्री को पत्र लिखा, लद्दाख संकट के लिए जिम्मेदार ठहराया 2
Ram Gopal Jathttps://nationaldunia.com
नेशनल दुनिआ संपादक .

Latest news

कोविड : दिल्ली में करीब 90 हजार लोग हुए स्वस्थ, 3371 लोगों की मौत

नई दिल्ली, 12 जुलाई (आईएएनएस)। दिल्ली में कोरोना वायरस से संक्रमित हुए करीब 90 हजार व्यक्ति स्वस्थ हो चुके हैं। हालांकि इसी के साथ...
- Advertisement -

चीनी सामान पर कसेगा शिकंजा, पैकेट पर देश का नाम नहीं लिखने पर मिलेगी सजा

नई दिल्ली, 12 जुलाई (आईएएनएस)। देश में चीनी उत्पादों के बहिष्कार को लेकर आवाज पहले से ही तेज है और अब वस्तुओं के साथ...

माधुरी दीक्षित ने देवदास में सरोज खान संग काम को याद किया

मुंबई, 12 जुलाई (आईएएनएस)। फिल्म देवदास की रिलीज के 18 साल पूरे होने के मौके पर अभिनेत्री माधुरी दीक्षित नेने ने याद किया कि...

दिल्ली : कोविड उपचार का निरीक्षण करने एलएनजेपी पहुंचे उपमुख्यमंत्री

नई दिल्ली, 12 जुलाई (आईएएनएस)। दिल्ली के उपमुख्यमंत्री एवं स्वास्थ्य मंत्रालय संभाल रहे मनीष सिसोदिया ने रविवार को लोकनायक जयप्रकाश अस्पताल (एलएनजेपी) का निरीक्षण...

Related news

राजस्थान : 2 नोटिस की कहानी, जिस कारण पायलट विद्रोह पर आमादा

नई दिल्ली, 12 जुलाई (आईएएनएस)। राजस्थान में कांग्रेस की सरकार गिराने कथित रूप से विधायकों को रिश्वत देने के मामले में स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप...

SOG के नोटिस पर अशोक गहलोत ने मीडिया पर उड़ेला मामला

जयपुर। राजस्थान में राजनीतिक जोड़-तोड़ का कार्यक्रम तेजी से आगे बढ़ रहा है। राज्य के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के द्वारा एक दिन...

हर 100 साल में आती है महामारी, 1720, 1820, 1920 और अब 2020 में भयानक Covid-19

रामगोपाल जाट कोरोना वायरस की चपेट में अब पूरी दुनिया आ चुकी है। सबसे ज्यादा करीब 5500 मौतें चीन में हुई है। चीन के एक...

विश्लेषण: पानी के बाहर मछली की तरह छटपटाती वसुंधरा और वजूद ढूंढ़ते उनके खेमे के नेता!

रामगोपाल जाट "मछली जल की रानी है, जीवन उसका पानी है, हाथ लगाओ डर जाएगी, बाहर निकालो मर जाएगी......"
- Advertisement -