Big breaking: सीआरपीएफ ने पुलवामा जैसा प्लान नेस्तनाबूद किया, कश्मीर के बांदीपोरा में आईईडी लगा सिलेंडर पकड़ा

जम्मू कश्मीर।

-एक महीने में यह दूसरा मौका है, जब सीआरपीएफ के द्वारा पाकिस्तान समर्थित आतंकवादियों की तरफ से आईईडी लगाया गया है और उसको पकड़ कर आतंकी मंसूबों को नेस्तनाबूद किया गया है।

केंद्रीय रिजर्व पुलिस फोर्स यानी सीआरपीएफ ने जम्मू कश्मीर में बड़ी कामयाबी हासिल करते हुए आतंकी मंसूबों को नेस्तनाबूद कर दिया है।

सीआरपीएफ की तरफ से पाकिस्तान समर्थित आतंकवादियों के द्वारा आईईडी लगाकर सेना, अर्दसैनिक बलों के आवागमन को विस्फोट से उड़ाने की साजिश का पर्दाफाश किया है।

कश्मीर के बांदीपोरा डिस्ट्रिक्ट में सीआरपीएफ के द्वारा आज सुबह एक ऑपरेशन के दौरान गैस के सिलेंडर पर लगाया गया आईईडी पकड़ा। जिसे बाद में सीआरपीएफ के द्वारा ब्लास्ट कर नष्ट किया गया है।

जानकारी के मुताबिक 14 किलो के घरेलू गैस सिलेंडर के ऊपर आईईडी बांधा गया है, उसमें टाइमर भी लगाया गया है, जिससे सेना, और सीआरपीएफ की गतिविधि के समय विस्फोट किया जा सके।

सेना के सूत्रों के मुताबिक यह विस्फोटक आतंकवादियों द्वारा सुरक्षाबलों के आवागमन को पुलवामा हमले की तरह ब्लास्ट कर सुरक्षाबलों का आवागमन बाधित करने का था।

आपको बता दें कि इसी महीने के शुरुआत में भी सेना के द्वारा पुलवामा जिले में एक कार को पकड़ा था, जिसमें भी भारी मात्रा में आईईडी प्लान किया गया था।

सुरक्षाबलों ने उस विस्फोटक को मौके पर ही ब्लास्ट कर दिया था। हालांकि तब मौके पर कोई आतंकवादी पकड़ में नहीं आया था।

उल्लेखनीय है कि 14 फरवरी 2019 को पुलवामा में आतंकवादियों के द्वारा एक कार में 350 किलोग्राम आईईडी प्लान करके सीआरपीएफ के काफिले में घुसा दिया गया था, जिसमें 45 से ज्यादा सैनिक शहीद हुए थे।

यह भी पढ़ें :  मुस्लिम महिलाएं धरने पर बैठ के संविधान दिखाती हैं और मुस्लिम मर्द सड़क पर उतर के दंगा फैलाते हैं

जम्मू कश्मीर राज्य का गठन करके अलग से जम्मू कश्मीर केंद्र शासित प्रदेश बनाए जाने के बाद से आतंकवादियों का सूपड़ा साफ करने के भारतीय सेना और सीआरपीएफ फुलफॉर्म में नजर आ रही है।

कश्मीर में आतंकवादियों को चुन-चुनकर मौत के घाट उतारा जा रहा है। अब तक सैकड़ों आतंकी मारे जा चुके हैं।

सीआरपीएफ के सूत्रों के मुताबिक पकड़े गए इस आईईडी को भी सीआरपीएफ के द्वारा ब्लास्ट कर नष्ट कर दिया गया। सीआरपीएफ की 3rd बटालियन ने इस कार्य को अंजाम दिया है। हालांकि, अभी तक इस मामले में किसी आतंकवादी के पकड़े जाने की जानकारी सामने नहीं आई है।