12 साल पहले 100 वाहनों के द्वारा उनपर हमला किया गया था, आज हैं सबसे बड़े राज्य का सबसे ताकतवर मुख्यमंत्री

नेशनल दुनिया, नई दिल्ली।

7 सितंबर 2008 की बात है, जब 100 से अधिक वाहनों के द्वारा हमलावरों ने हमला किया और हजारों लोगों की भीड़ ने उनको घेर लिया। फिर भी आखिरकार वह बच गया और इसके बाद जो हुआ, वह इतिहास में दर्ज हो गया। वही व्यक्ति आज देश के सबसे बड़े राज्य का सबसे ताकतवर मुख्यमंत्री है।

आज उस मुख्यमंत्री का 48 वां जन्मदिन है। पूरे देश भर में खासतौर से राष्ट्रवादी और हिंदूवादी लोगों के द्वारा धूमधाम से उनका जन्मदिन मनाया जा रहा है। उन्होंने खुद भी वृक्षारोपण कर अपना जन्मदिन मनाया है।

हम बात कर रहे हैं, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की, जो 1998 से 2017 तक, लगातार 4 बार सांसद रहे और उसके बाद 18 सितंबर 2017 देश के सबसे बड़े राज्य उत्तर प्रदेश के प्रचंड बहुमत के साथ 21वें मुख्यमंत्री बने।

योगी आदित्यनाथ (जिनका मूल नाम अजय सिंह बिष्ट है, उनका जन्म 5 जून 1972 हुआ था) गोरखपुर के प्रसिद्ध गोरखनाथ मन्दिर के महन्त तथा राजनेता हैं। योगी आदित्यनाथ वर्तमान में उत्तर प्रदेश के मुख्यमन्त्री हैं।

इन्होंने 19 मार्च 2017 को प्रदेश के विधान सभा चुनावों में भारतीय जनता पार्टी की बड़ी जीत के बाद 23 करोड़ जनसंख्या वाले यूपी राज्य के 21वें मुख्यमन्त्री पद की शपथ ली। 

योगी आदित्यनाथ वर्ष 1998 से 2017 तक भारतीय जनता पार्टी के टिकट पर गोरखपुर लोकसभा क्षेत्र का 4 बार सांसद रहते हुए प्रतिनिधित्व किया। वे साल 2014 लोकसभा चुनाव में भी यहीं से सांसद चुने गए थे।

आदित्यनाथ गोरखनाथ मन्दिर के पूर्व महन्त अवैद्यनाथ के उत्तराधिकारी हैं। ये हिन्दू युवाओं के सामाजिक, सांस्कृतिक और राष्ट्रवादी समूह हिन्दू युवा वाहिनी के संस्थापक भी हैं, तथा इनकी छवि एक प्रखर राष्ट्ररवादी नेता की है।

यह भी पढ़ें :  सचिन पायलट कांग्रेस के टॉप 30 में, अशोक गहलोत कहां पर हैं?

राज्य में जिस तरह से प्रशासनिक अधिकारियों की सक्रियता है, वह योगी आदित्यनाथ की ही देन है। रामपुर के सांसद आज़म खान, जो कभी यहां के ताकतवर राजनेता थे, उनको भी योगीराज में जेल जाना पड़ा है।

बसपा, सपा, कांग्रेस समेत सभी राजनीतिक दलों के द्वारा पिछले करीब 3 साल में खूब नौटंकी की गई, लेकिन योगी आदित्यनाथ ने किसी की परवाह किये बिना राज्य में शांति स्थापित की और दिखा दिया कि एक योगी भी राज का काज कर सकता है।

चाणक्य ने कहा था कि राजा को वंशहीन होना चाहिए और ऐसा राजा ही जनता की भलाई कर सकता है, जिसके पीछे पत्नी, बच्चे और परिवार की जिम्मेदारी नहीं होती है। इस मामले में योगी आदित्यनाथ खरे उतरते हैं।

योगी आदित्यनाथ खुद के ऊपर हमले के बाद 2008 में संसद में बोलते हुए रो पड़े थे। 2017 में मुख्यमंत्री बने, तब उन्होंने बहुत ही सधे हुए शब्दों में कहा कि वह अखिलेश यादव से 1 साल बड़े हैं और राहुल गांधी से 1 साल छोटे हैं, तब संसद में खूब हंसी छूट पड़ी थी।

हाल ही में एक मैगजीन के द्वारा देशभर में करवाए हुए सर्वे में लोगों ने 97% वोटों के साथ योगी आदित्यनाथ को नरेंद्र मोदी के बाद देश में दूसरे नंबर का ताकतवर नेता करार दिया था।