29 C
Jaipur
बुधवार, जून 3, 2020

वोल्फजोवेल, मैवकॉम ग्रुप ने रेलवे को समर्पित हैशटैग थैंक्यू इंडियन रेलवेज पहल शुरू की

- Advertisement -
- Advertisement -

नई दिल्ली , 23 मई (आईएएनएस)। भारतीय रेलवे ने राष्ट्रव्यापी बंद के दौरान विभिन्न राज्यों में फंसे हुए लाखों प्रवासियों को उनके घरों तक पहुंचाने में मदद की है। रेलवे द्वारा किए गए इस सराहनीय काम के प्रति एकजुटता दिखाने के लिए कंसल्टेंट फर्म वोल्फजोवेल ने मैवकॉम ग्रुप के साथ मिलकर एक नई हैशटैग थैंक्यू इंडियन रेलवेज पहल शुरू की है।
इन कंपनियों ने अपने बयान में कहा कि उनका उद्देश्य कोविड-19 की इस विपदा के समय में सकारात्मकता का प्रकाश फैलाने में योगदान देना है।

भारतीय रेलवे द्वारा कोविड-19 महामारी के दौरान किए जा रहे अथक परिश्रम को उजागर करने के लिए हैशटैग थैंक्यू इंडियन रेलवेज पहल शुरू की है।

वोल्फजोवेल ने भारतीय रेलवे को समर्पित छुक-छुक रेल गाड़ी गाने के साथ यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर जैसे विभिन्न सोशल मीडिया प्लेटफार्मों पर एक मिनट 45 सेकंड लंबा हैशटैग थैंक्यू इंडियन रेलवेज वीडियो जारी किया है।

वोल्फजोवेल स्ट्रेटेजिक इंस्टीगेशंस के मुख्य रणनीतिकार और संस्थापक कल्याण राम चेलपल्ली ने कहा, कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई में भारतीय रेलवे की उपलब्धियों का जश्न मनाना एक राष्ट्र के रूप में हमारी अपनी प्रतिभा का उत्सव है।

वहीं मैवकॉम ग्रुप के सह-संस्थापक एवं प्रबंध निदेशक आनंद महेश तलारी ने कहा कि कोविड-19 की स्थिति में हर समय लोगों और राष्ट्र की सेवा करने में भारतीय रेलवे द्वारा निभाई जाने वाली तारकीय भूमिका की प्रशंसा को व्यक्त करने वाले इस अभियान के साथ जुड़ना एक सम्मान की बात है।

–आईएएनएस

National Dunia से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर लाइक और Twitter, YouTube पर फॉलो करें.

- Advertisement -
Ram Gopal Jathttps://nationaldunia.com
नेशनल दुनिया संपादक .

Latest news

महात्मा गांधी अस्पताल द्वारा कोरोनावायरस की टेस्टिंग के साथ इतना खिलवाड़ क्यों हो रहा है?

- टेस्ट ही मुख्य आधार है कोरोनावायरस के उपचार का और अगर टेस्टिंग का सैंपल कलेक्शन ही गलत है तो रिपोर्ट कैसे...
- Advertisement -

महात्मा गांधी अस्पताल द्वारा कोरोनावायरस की टेस्टिंग के साथ इतना खिलवाड़ क्यों हो रहा है?

- टेस्ट ही मुख्य आधार है कोरोनावायरस के उपचार का और अगर टेस्टिंग का सैंपल कलेक्शन ही गलत है तो रिपोर्ट कैसे...

महात्मा गांधी अस्पताल द्वारा कोरोनावायरस की टेस्टिंग के साथ इतना खिलवाड़ क्यों हो रहा है?

- टेस्ट ही मुख्य आधार है कोरोनावायरस के उपचार का और अगर टेस्टिंग का सैंपल कलेक्शन ही गलत है तो रिपोर्ट कैसे...

महात्मा गांधी अस्पताल द्वारा किया जा रहा है खेल: जिन डायग्नोस्टिक लैब्स को सैंपल कलेक्ट करने का अधिकार नहीं, वो कोरोनावायरस की टेस्टिंग कर...

- जिन लैब कर्मचारियों को टेस्टिंग का अनुभव नहीं, वह कोरोनावायरस की टेस्ट रिपोर्ट अपने हस्ताक्षर से जारी कर रहे हैं

Related news

महात्मा गांधी अस्पताल द्वारा कोरोनावायरस की टेस्टिंग के साथ इतना खिलवाड़ क्यों हो रहा है?

- टेस्ट ही मुख्य आधार है कोरोनावायरस के उपचार का और अगर टेस्टिंग का सैंपल कलेक्शन ही गलत है तो रिपोर्ट कैसे...

महात्मा गांधी अस्पताल द्वारा कोरोनावायरस की टेस्टिंग के साथ इतना खिलवाड़ क्यों हो रहा है?

- टेस्ट ही मुख्य आधार है कोरोनावायरस के उपचार का और अगर टेस्टिंग का सैंपल कलेक्शन ही गलत है तो रिपोर्ट कैसे...

महात्मा गांधी अस्पताल द्वारा कोरोनावायरस की टेस्टिंग के साथ इतना खिलवाड़ क्यों हो रहा है?

- टेस्ट ही मुख्य आधार है कोरोनावायरस के उपचार का और अगर टेस्टिंग का सैंपल कलेक्शन ही गलत है तो रिपोर्ट कैसे...

महात्मा गांधी अस्पताल द्वारा किया जा रहा है खेल: जिन डायग्नोस्टिक लैब्स को सैंपल कलेक्ट करने का अधिकार नहीं, वो कोरोनावायरस की टेस्टिंग कर...

- जिन लैब कर्मचारियों को टेस्टिंग का अनुभव नहीं, वह कोरोनावायरस की टेस्ट रिपोर्ट अपने हस्ताक्षर से जारी कर रहे हैं
- Advertisement -