26 C
Jaipur
शुक्रवार, जून 5, 2020

राजस्थान के बाद मध्य प्रदेश में टिड्डी दल का कहर, फसलों को भारी नुकसान

- Advertisement -
- Advertisement -

भोपाल।

मध्यप्रदेश के कई हिस्सों में राजस्थान से होते हुए टिड्डी झुंडों ने अपनी अपनी आमद दर्ज करा दी है, जिससे फसलों के नुकसान की आशंका बढ़ गई है।

वहीं प्रशासन द्वारा मुनादी कराकर किसानों को आपदा के प्रकोप से निपटने के लिए सर्तक किया जा रहा है।

कृषि विभाग से मिली जानकारी के अनुसार, टिड्डी के झुंड राजस्थान से होता हुआ नीमच, मंदसौर, आगर मालवा व झाबुआ पहुंच रहा है।

टिड्डियों का कारवां कई किलोमीटर लंबा है। ये खेतों में उतरकर फसलों को नुकसान पहुंचा सकता है। आगर मालवा जिले के कृषि विभाग के उपसंचालक आर.पी. कनेरिया ने कहा है कि टिड्डी के झुंड लगभग 15 किलोमीटर तक छाए हुए हैं, इसलिए किसानों को सलाह दी गई है कि वे सतर्क रहें।

जैसे ही टिड्डियों का कोई झुंड पास आता है तो वे शोर करें, झुंड भाग जाएगा।

जिन जिलों में टिड्डियों के झुंड के आने का खतरा है, वहां के किसानों को मुनादी कराने के साथ सतर्क किया जा रहा है।

उनसे कहा गया है कि टिड्डियों को भगाने के लिए ध्वनि-विस्तार यंत्र, जैसे- मांदल, ढोलक, डीजे, ट्रैक्टर का साइलेंसर निकालकर आवाज करना, खाली टीन के डिब्बे, थाली इत्यादि स्थानीय स्तर पर तैयार रखें, सामूहिक प्रयास से ध्वनि-विस्तारक यंत्र का उपयोग करें।

ऐसा करने से टिड्डी झुंड नीचे नहीं आकर, फसल या वनस्पति पर न बैठते हुए आगे चला जाएगा।

कृषि विशेषज्ञों का कहना है कि टिड्डियों का आगमन शाम को लगभग छह से आठ बजे के बीच होता है तथा सुबह साढ़े सात बजे तक दूसरे स्थान के लिए प्रस्थान करने लगता है।

ऐसी स्थिति में टिड्डी का प्रकोप होने पर तत्काल बचाव के लिए उसी रात की सुबह तीन बजे से लेकर साढ़े सात बजे तक रासायनिक दवाओं का छिड़काव कर टिड्डी झुंड पर नियंत्रण पाया जा सकता है।

बताया गया है कि टिड्डी झुंड खेतों या पेड़ों, हरियाली में बैठते हैं एवं पूर्ण फसलों को नष्ट करता है।

इस आपदा पर प्रभावी नियंत्रण के लिए अनुविभाग स्तर एवं जिला स्तर व राज्य स्तर पर कंट्रोल रूम स्थापित किए गए हैं।

National Dunia से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर लाइक और Twitter, YouTube पर फॉलो करें.

- Advertisement -
Ram Gopal Jathttps://nationaldunia.com
नेशनल दुनिया संपादक .

Latest news

मुख्यमंत्री गहलोत भाजपा आपको क्यों अस्थिर करेगी, झगड़ा तो आपके घर में है: डॉ. सतीश पूनियां

-दिव्यांग विद्यार्थियों को विशेष शिक्षक उपलब्ध कराने की मांग को लेकर भाजपा प्रदेश अध्यक्ष ने मुख्यमंत्री को लिखा पत्र
- Advertisement -

प्रदेश के सभी 46,543 गांवों की आबादी का ड्रोन सर्वे से तैयार होगा रिकॉर्ड एवं मानचित्र

नेशनल दुनिया, जयपुर। राजस्थान प्रदेश के समस्त 46,543 गांवों की आबादी का ड्रोन के माध्यम से सर्वे...

विष्णुदत्त विश्नोई आत्महत्या मामले की होगी सीबीआई जांच, अशोक गहलोत सरकार ने लगाई मुहर

नेशनल दुनिया, जयपुर। राजस्थान के अशोक गहलोत सरकार ने आखिरकार चूरू के राजगढ़ थाना अधिकारी विष्णुदत्त विश्नोई आत्महत्या मामले...

मैंने आत्महत्या करने की सोच लिया था, लगा बालकॉनी से कूद जाऊंगा : उथप्पा

नई दिल्ली। टी-20 विश्व कप जीतने वाली भारतीय क्रिकेट टीम के हिस्सा रहे विकेटकीपर बल्लेबाज रोबिन उथप्पा ने खुलासा किया है कि साल 2009 से...

Related news

मुख्यमंत्री गहलोत भाजपा आपको क्यों अस्थिर करेगी, झगड़ा तो आपके घर में है: डॉ. सतीश पूनियां

-दिव्यांग विद्यार्थियों को विशेष शिक्षक उपलब्ध कराने की मांग को लेकर भाजपा प्रदेश अध्यक्ष ने मुख्यमंत्री को लिखा पत्र

प्रदेश के सभी 46,543 गांवों की आबादी का ड्रोन सर्वे से तैयार होगा रिकॉर्ड एवं मानचित्र

नेशनल दुनिया, जयपुर। राजस्थान प्रदेश के समस्त 46,543 गांवों की आबादी का ड्रोन के माध्यम से सर्वे...

विष्णुदत्त विश्नोई आत्महत्या मामले की होगी सीबीआई जांच, अशोक गहलोत सरकार ने लगाई मुहर

नेशनल दुनिया, जयपुर। राजस्थान के अशोक गहलोत सरकार ने आखिरकार चूरू के राजगढ़ थाना अधिकारी विष्णुदत्त विश्नोई आत्महत्या मामले...

मैंने आत्महत्या करने की सोच लिया था, लगा बालकॉनी से कूद जाऊंगा : उथप्पा

नई दिल्ली। टी-20 विश्व कप जीतने वाली भारतीय क्रिकेट टीम के हिस्सा रहे विकेटकीपर बल्लेबाज रोबिन उथप्पा ने खुलासा किया है कि साल 2009 से...
- Advertisement -