भारत के आत्मनिर्भर मिशन के बाद अमेरिका ने दिया चीन को झटका, अरबों डॉलर का निवेश लिया वापस

नेशनल दुनिया, नई दिल्ली।

भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के द्वारा आत्मनिर्भर भारत मिशन के बाद चीन को बड़ा झटका लगा। चीन को दूसरा झटका दिया है महाशक्ति अमेरिका ने। अमेरिका ने चीन में निवेशक और अरबों डॉलर को वापस लेने का फैसला किया है।

अमेरिका ने चीन पर आरोप लगाया है कि उसने इंटेलेक्चुअल प्रॉपर्टी और रिसर्च वर्क की चोरी की है। चीन में निवास निवेश वापसी को लेकर पूछे गए सवाल पर अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा है कि फॉक्स बिजनेस से बातचीत में अरबों डॉलर वापस लेने का फैसला किया गया है।

न्यूयॉर्क स्टॉक एक्सचेंज और नैस्डैक में सूचीबद्ध होने की शर्त पूरा करने का दबाव चीन में काम करने वाली अमेरिकी कंपनियों पर डालेंगे। उन्होंने कहा कि अमेरिका बहुत गंभीर स्थिति को देख रहा है, यह हैरान करने वाला है। उन्होंने कहा कि अमेरिकी कंपनियों को लंदन या फिर कहीं जाएगा।

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा कि वह बहुत ही सख्त इंसान हैं, और चीन से सूचीबद्ध कंपनियों को बाहर कर या तो लंदन, हांगकांग या फिर भारत में शिफ्ट कर दिया जाएगा। उन्होंने कहा है कि चीन में काम कर रही कंपनियों को अमेरिका दूसरे शेयर बाजारों में सूचीबद्ध करेगा।

अमेरिकी सांसदों पर चीन ने भी कार्रवाई करने पर विचार करना शुरू कर दिया है। चीन के द्वारा कहा जा रहा है कि जिन सीनेट के सदस्यों ने कोरोनावायरस से संबंधित मुद्दों पर पेइचिंग के खिलाफ प्रतिबंध का प्रस्ताव पेश किया है। उन सभी से सीनेटर्स पर कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने कहा है कि गलत जानकारी देने के चलते अमेरिका और चीन के रिश्ते खराब हुए हैं।

यह भी पढ़ें :  राजस्थान का पहला ऑर्गेनिक फ्रेश फार्मर मार्केट खुला

गौरतलब है कि चीन का सबसे ज्यादा निर्यात भारत को किया जाता है। भारत सरकार ने आत्मनिर्भर भारत मिशन शुरू किया है, जिसके तहत भारत के लोगों को भारत में बनी हुई चीजें ही काम में लेने के लिए प्रोत्साहित किया जा रहा है। इसके साथ ही भारत के उद्योग धंधों के लिए भी एक बड़ा निवेश पैकेज सरकार ने जारी किया है।