कोविड-19 के बढ़ते खतरे को देखते हुए भारत में 84% लोग चाहते हैं लॉक डाउन की अवधि और बड़े

मोदी-ने-मुख्यमंत्रियों-से-कहा,-मैं-चौबीसों-घंटे-उपलब्ध-हूं

भारत में कोरोनावायरस के पॉजिटिव मरीजों की संख्या आठ हजार के करीब हो चुकी है, जबकि मृतकों की तादाद भी तेजी से बढ़ रही है। भारत में अभी तक ढाई सौ से ज्यादा लोग होना वायरस की चपेट में आकर मौत की नींद सो चुके हैं।

भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को सभी प्रदेशों के मुख्यमंत्रियों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए सभी प्रदेशों में कोरोनावायरस को लेकर की जा रही तैयारियों और मरीजों के बढ़ते प्रभाव की समीक्षा की।ट्विटर पर किए गए ऑनलाइन सर्वे में 84% लोगों ने लॉक डाउन बढ़ाने की अपील की है

सूत्रों की मानें तो प्रधानमंत्री ने सभी राज्यों को अपने अपने हिसाब से लॉक डाउन की अवधि बढ़ाए जाने की छूट दे दी है। इसके तुरंत बाद दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल, पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने अपने-अपने राज्य में लॉक डाउन की अवधि बढ़ाकर 1 मई कर दी है।

पश्चिम बंगाल, महाराष्ट्र और दिल्ली से पहले उड़ीसा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक और पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह भी लॉक डाउन की अवधि को बढ़ाकर 1 मई कर चुके हैं। इस बीच देश के 84% नागरिक यह चाहते हैं कि पूरे देश में लॉक डाउन की अवधि बढ़नी चाहिए।

एक ऑनलाइन सर्वे में 100000 लोगों में से 84000 लोगों ने देश में कोरोनावायरस को रोकने के लिए लॉक डाउन की अवधि को बढ़ाए जाने की सिफारिश की है। इसके साथ साथ ही 12% लोग चाहते हैं कि लोग डाउन की अवधि खत्म होनी चाहिए, जबकि 4% लोग अपनी कोई राय नहीं दे पाए।

विश्व की बात की जाए तो कोविड-19 के चलते पॉजिटिव मरीजों में से मरने वालों की तादात अमेरिका में सर्वाधिक हो चुकी है। अमेरिका ने मौत के मामले में इटली को पीछे छोड़ दिया है। इटली के अलावा जर्मनी, स्पेन, ब्रिटेन, फ्रांस जैसे देश भी कोविड-19 की वैश्विक महामारी से भयंकर जूझ रहे हैं।

यह भी पढ़ें :  शिवराज सिंह या ज्योतिरादित्य सिंधिया, कौन बनेगा मुख्यमंत्री? पढ़िए इंडिफ्थ स्टोरी