29 C
Jaipur
बुधवार, जून 3, 2020

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत लॉकडाउन हटाने की तैयारी में, देखिये किस लिए

- Advertisement -
- Advertisement -

नई दिल्ली, 7 अप्रैल (आईएएनएस)। तेलंगाना के मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव ने लॉकडाउन को जारी रखने की बात कही तो अगले दिन राजस्थान के मुख्यमंत्री ने इसके चरणबद्ध तरीके से वापस लेने की बात कही।
अशोक गहलोत ने मंगलवार को जीवन और आजीविका दोनों को महत्वपूर्ण बताते हुए कहा, पीएम के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंस करने के बाद, मैंने दो टास्क फोर्स का गठन किया है। जाहिर है, जीवन महत्वपूर्ण है। लॉकडाउन की स्थिति को संभालने के लिए एक टास्क फोर्स और दूसरी टास्क फोर्स चरणबद्ध तरीके से लॉकडाउन से बाहर आने के लिए।

जीवन और आजीविका का यह संतुलन सभी मुख्यमंत्रियों के लिए केंद्रीय बिंदु बन गया है, जिनमें से कई लॉकडाउन की चरणबद्ध वापसी के पक्ष में हैं।

इसके विपरीत, हाल ही में राव ने लॉकडाउन की वकालत करते हुए कहा, केंद्र और अन्य सभी राज्य सरकारों को लॉकडाउन के कारण राजस्व का नुकसान हुआ है। लेकिन बस इसका एक अच्छा फायदा यही है कि इसके कारण हम अपने लोगों की रक्षा कर पा रहे हैं।

मंगलवार को राजनाथ सिंह के आवास पर केंद्रीय मंत्रियों के समूह की एक बैठक हुई, जिसमें लॉकडाउन को समाप्त करने पर अभी तक कोई निर्णय नहीं लिया गया है। सरकार के सामने सबसे बड़ा सवाल यह है कि उसे दो विकल्पों में से किसी को चुनना है – आजीविका का नुकसान या जीवन का नुकसान। हालांकि, इस संबंध में कोई भी निर्णय पीएम मोदी द्वारा जमीनी नेताओं और प्रमुख मंत्रियों के साथ बातचीत के बाद आएगा। इसमें एक आम निकास योजना पर चर्चा की जानी है।

भारत में 21 दिनों का राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन चल रहा है और अब तक भारत में 4400 से अधिक कोरोना संक्रमित हो चुके हैं और कम से कम 114 लोगों की मौत हो गई है।

–आईएएनएस

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर लाइक और Twitter, YouTubeपर फॉलो करें.

- Advertisement -
Ram Gopal Jathttps://nationaldunia.com
नेशनल दुनिया संपादक .

Latest news

महात्मा गांधी अस्पताल द्वारा कोरोनावायरस की टेस्टिंग के साथ इतना खिलवाड़ क्यों हो रहा है?

- टेस्ट ही मुख्य आधार है कोरोनावायरस के उपचार का और अगर टेस्टिंग का सैंपल कलेक्शन ही गलत है तो रिपोर्ट कैसे...
- Advertisement -

महात्मा गांधी अस्पताल द्वारा कोरोनावायरस की टेस्टिंग के साथ इतना खिलवाड़ क्यों हो रहा है?

- टेस्ट ही मुख्य आधार है कोरोनावायरस के उपचार का और अगर टेस्टिंग का सैंपल कलेक्शन ही गलत है तो रिपोर्ट कैसे...

महात्मा गांधी अस्पताल द्वारा कोरोनावायरस की टेस्टिंग के साथ इतना खिलवाड़ क्यों हो रहा है?

- टेस्ट ही मुख्य आधार है कोरोनावायरस के उपचार का और अगर टेस्टिंग का सैंपल कलेक्शन ही गलत है तो रिपोर्ट कैसे...

महात्मा गांधी अस्पताल द्वारा किया जा रहा है खेल: जिन डायग्नोस्टिक लैब्स को सैंपल कलेक्ट करने का अधिकार नहीं, वो कोरोनावायरस की टेस्टिंग कर...

- जिन लैब कर्मचारियों को टेस्टिंग का अनुभव नहीं, वह कोरोनावायरस की टेस्ट रिपोर्ट अपने हस्ताक्षर से जारी कर रहे हैं

Related news

महात्मा गांधी अस्पताल द्वारा कोरोनावायरस की टेस्टिंग के साथ इतना खिलवाड़ क्यों हो रहा है?

- टेस्ट ही मुख्य आधार है कोरोनावायरस के उपचार का और अगर टेस्टिंग का सैंपल कलेक्शन ही गलत है तो रिपोर्ट कैसे...

महात्मा गांधी अस्पताल द्वारा कोरोनावायरस की टेस्टिंग के साथ इतना खिलवाड़ क्यों हो रहा है?

- टेस्ट ही मुख्य आधार है कोरोनावायरस के उपचार का और अगर टेस्टिंग का सैंपल कलेक्शन ही गलत है तो रिपोर्ट कैसे...

महात्मा गांधी अस्पताल द्वारा कोरोनावायरस की टेस्टिंग के साथ इतना खिलवाड़ क्यों हो रहा है?

- टेस्ट ही मुख्य आधार है कोरोनावायरस के उपचार का और अगर टेस्टिंग का सैंपल कलेक्शन ही गलत है तो रिपोर्ट कैसे...

महात्मा गांधी अस्पताल द्वारा किया जा रहा है खेल: जिन डायग्नोस्टिक लैब्स को सैंपल कलेक्ट करने का अधिकार नहीं, वो कोरोनावायरस की टेस्टिंग कर...

- जिन लैब कर्मचारियों को टेस्टिंग का अनुभव नहीं, वह कोरोनावायरस की टेस्ट रिपोर्ट अपने हस्ताक्षर से जारी कर रहे हैं
- Advertisement -