29 C
Jaipur
बुधवार, जून 3, 2020

कांग्रेस नेता राहुल गांधी के बाद अब पार्टी के अन्य नेताओं शशि थरूर और जयवीर शेरगिल ने अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के बयान की निंदा

- Advertisement -
- Advertisement -

नई दिल्ली, 7 अप्रैल (आईएएनएस)। मलेरिया की दवा हाइड्रोक्सीक्लोरोक्विन के अमेरिका निर्यात को लेकर विवाद बढ़ता ही जा रहा है। इस मुद्दे पर कांग्रेस नेता राहुल गांधी के बाद अब पार्टी के अन्य नेताओं शशि थरूर और जयवीर शेरगिल ने अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के बयान की निंदा की है।
ट्रंप ने कहा है कि अगर भारत हाइड्रोक्सीक्लोरोक्विन नाम की दवा की आपूर्ति नहीं करेगा तो अमेरिका बदले की कार्रवाई कर सकता है।

थरूर ने अपने एक ट्वीट में लिखा, वैश्विक मामलों में दशकों के अपने अनुभव में मैंने किसी राष्ट्राध्यक्ष या सरकार को दूसरे देश की सरकार को इस तरह खुलेआम धमकी देते हुए नहीं सुना। मिस्टर राष्ट्रपति, भारत में जो हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वाइन बनती है वो हमारी आपूर्ति के लिए कैसे हो गई? यह आपके लिए आपूर्ति का विषय तब बनेगी, जब भारत इस दवा को आपको बेचने का फैसला करेगा।

ट्रंप ने हाल ही में एक ब्रीफिंग के दौरान व्हाइट हाउस में कहा कि भारत, अमेरिका के साथ अच्छा कर रहा है और मुझे ऐसा कोई कारण नहीं दिखता कि भारत अमेरिका के दवा के ऑर्डर पर रोक जारी रखेगा। उन्होंने कहा, मैंने रविवार सुबह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से बात की थी और मैंने कहा था कि अगर आप हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन की आपूर्ति को मंजूरी देते हैं तो हम आपके इस कदम की सराहना करेंगे। यदि वह दवा की आपूर्ति की अनुमति नहीं देते हैं तो भी ठीक है, लेकिन हां, वे हमसे भी इसी तरह की प्रतिक्रिया की उम्मीद रखें।

यह दवा कोरोना वायरस के इलाज में उपयोगी मानी जा रही है।

राहुल गांधी ने मंगलवार को कहा कि भारत को कोरोना वायरस के खिलाफ अपनी लड़ाई में सभी देशों की मदद करनी चाहिए, लेकिन पहले भारतीय लोगों को जीवन रक्षक दवाएं उपलब्ध कराई जानी चाहिए।

इसके अलावा कांग्रेस प्रवक्ता जयवीर शेरगिल ने भी ट्रंप के बयान की आलोचना की है।

–आईएएनएस

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर लाइक और Twitter, YouTubeपर फॉलो करें.

- Advertisement -
Ram Gopal Jathttps://nationaldunia.com
नेशनल दुनिया संपादक .

Latest news

महात्मा गांधी अस्पताल द्वारा कोरोनावायरस की टेस्टिंग के साथ इतना खिलवाड़ क्यों हो रहा है?

- टेस्ट ही मुख्य आधार है कोरोनावायरस के उपचार का और अगर टेस्टिंग का सैंपल कलेक्शन ही गलत है तो रिपोर्ट कैसे...
- Advertisement -

महात्मा गांधी अस्पताल द्वारा कोरोनावायरस की टेस्टिंग के साथ इतना खिलवाड़ क्यों हो रहा है?

- टेस्ट ही मुख्य आधार है कोरोनावायरस के उपचार का और अगर टेस्टिंग का सैंपल कलेक्शन ही गलत है तो रिपोर्ट कैसे...

महात्मा गांधी अस्पताल द्वारा कोरोनावायरस की टेस्टिंग के साथ इतना खिलवाड़ क्यों हो रहा है?

- टेस्ट ही मुख्य आधार है कोरोनावायरस के उपचार का और अगर टेस्टिंग का सैंपल कलेक्शन ही गलत है तो रिपोर्ट कैसे...

महात्मा गांधी अस्पताल द्वारा किया जा रहा है खेल: जिन डायग्नोस्टिक लैब्स को सैंपल कलेक्ट करने का अधिकार नहीं, वो कोरोनावायरस की टेस्टिंग कर...

- जिन लैब कर्मचारियों को टेस्टिंग का अनुभव नहीं, वह कोरोनावायरस की टेस्ट रिपोर्ट अपने हस्ताक्षर से जारी कर रहे हैं

Related news

महात्मा गांधी अस्पताल द्वारा कोरोनावायरस की टेस्टिंग के साथ इतना खिलवाड़ क्यों हो रहा है?

- टेस्ट ही मुख्य आधार है कोरोनावायरस के उपचार का और अगर टेस्टिंग का सैंपल कलेक्शन ही गलत है तो रिपोर्ट कैसे...

महात्मा गांधी अस्पताल द्वारा कोरोनावायरस की टेस्टिंग के साथ इतना खिलवाड़ क्यों हो रहा है?

- टेस्ट ही मुख्य आधार है कोरोनावायरस के उपचार का और अगर टेस्टिंग का सैंपल कलेक्शन ही गलत है तो रिपोर्ट कैसे...

महात्मा गांधी अस्पताल द्वारा कोरोनावायरस की टेस्टिंग के साथ इतना खिलवाड़ क्यों हो रहा है?

- टेस्ट ही मुख्य आधार है कोरोनावायरस के उपचार का और अगर टेस्टिंग का सैंपल कलेक्शन ही गलत है तो रिपोर्ट कैसे...

महात्मा गांधी अस्पताल द्वारा किया जा रहा है खेल: जिन डायग्नोस्टिक लैब्स को सैंपल कलेक्ट करने का अधिकार नहीं, वो कोरोनावायरस की टेस्टिंग कर...

- जिन लैब कर्मचारियों को टेस्टिंग का अनुभव नहीं, वह कोरोनावायरस की टेस्ट रिपोर्ट अपने हस्ताक्षर से जारी कर रहे हैं
- Advertisement -