भारत में 15 मई तक लॉक डाउन की अफवाह गलत, झूठी पर मीडिया को भी मिली चेतावनी दी

नई दिल्ली

कोरोनावायरस को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के 24 मार्च के एलान के बाद समय 14 अप्रैल तक जारी रहेगा। इस बीच सोशल मीडिया में अफवाह फैली कि विश्व स्वास्थ्य संगठन की ताजा रिपोर्ट और सलाह के बाद केंद्र सरकार लॉक डाउन का समय 15 मई तक बढ़ा सकती है।

सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हुई इस अफवाह के बाद केंद्र सरकार को सामने आना पड़ा। केंद्रीय कैबिनेट सचिव राजीव गाबा ने आज पत्रकारों से बात करते हुए स्पष्ट किया कि केंद्र सरकार की इस तरह की कोई योजना नहीं है।

इसके साथी सेक्रेटरी राजीव गाबा ने बताया कि विश्व स्वास्थ्य संगठन इस मामले में अपनी रिपोर्ट समय-समय पर देता रहता है, लेकिन उसमें कहीं पर भी इस बात का जिक्र नहीं है कि भारत में लॉक डाउन का समय बढ़ाकर 15 मई किया जाना चाहिए।

इसके साथ ही राजीव गाबा ने भारत में कोरोनावायरस के पीड़ित मरीजों की संख्या मृतकों की तादाद समेत संदिग्धों के बारे में भी विस्तार से जानकारी दी। उन्होंने बताया कि केंद्र सरकार पूरी तरह से लॉक डाउन का पालन कराने के लिए प्रयास कर रही है। राज्य सरकारों को भी निर्देश दिया गया है।

एक अन्य सवाल के जवाब में केंद्रीय कैबिनेट सचिव ने बताया कि दो-तीन दिन से जिस तरह से लॉक डाउन का उल्लंघन कर हजारों की तादात में मजदूर अपने अपने घरों को लौट रहे थे, उसको लेकर राज्य सरकारों को अपनी सीमाएं सील करने के लिए निर्देश दिए गए हैं, जिसकी बीती रात से पालना शुरू हो गई है।

यह भी पढ़ें :  बजट में किसानों की चर्चा बंद करे सरकार, बजट 2020-21 किसानों के लिए है ही नहीं- रामपाल जाट

राजीव गाबा ने यह भी कहा है कि सोशल मीडिया पर किसी भी तरह की अफवाह फैलाने पर केंद्र और राज्य सरकारें नजर बनाए हुए हैं, किसी भी व्यक्ति के द्वारा गलत अफवाह फैलाने पर उसके खिलाफ सख्त एक्शन लिया जाएगा। उन्होंने कहा कि मीडिया को भी जरूरी रिपोर्ट के लिए ही निर्देशित किया गया है।