क्या है आर्टिकल 360? जिसकी आज पीएम मोदी कर सकते हैं घोषणा!

नई दिल्ली

देश में कोरोना वायरस को लेकर केंद्र और राज्य सरकारें अपने अपने हिसाब से जरूरी कदम उठा रही हैं, किन्तु फिर भी हालत बदतर होते जा रहे हैं। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने आज ही उद्योगों और आमजन को राहत देने के लिए कई आर्थिक एलान किये हैं।

बावजूद उसके ऐसा लग रहा है कि देश की अर्थव्यवस्था तलवार की धार पर खड़ी है। सेंसेक्स और निफ्टी लगातार धराशायी हो रहे हैं और कोरोना वायरस की शुरुआत के बाद देश में निवेशकों के लाखों करोड़ रुपये डूब चुके हैं।

इस बीच भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शाम को 8 बजे देश को संबोधित करने जा रहे हैं। यह पहला मौका है, जब पीएम मोदी महज 6 दिन के दौरान ही दूसरी बार देश को संबोधित करने वाले हैं।

माना जा रहा है कि मोदी इस दौरान देश की जनता के लिए कुछ बड़ी घोषणाएं कर सकते हैं। चर्चा तो यहां तक है कि गिरती अर्थव्यवस्था को सहारा देने के लिए देश में संविधान की धारा 360 का उपयोग किया जा सकता है।

धारा 360 की बात करें तो इसका तभी इस्तेमाल किया जाता है, जब आर्थिक आपातकाल लगाया जाता है। इसके बाद जनता के सारे अधिकार सरकार के हाथ में चले जाते हैं।

ऐसा भारत में कभी नहीं हुआ है। ऐसे में शंका है कि विश्वव्यापी संकट से निपटने के दौरान भारत की अर्थव्यवस्था को बड़े झटके से उबरने के लिए सरकार और जगह बात का ध्यान रखते है।

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप 4 दिन पहले ही अमेरिका में आपातकाल की घोषणा कर चुके हैं। हालांकि, वहां पर आपातकाल की स्थितियां अलग तरह की होती है और भारत में परिस्थिति दूसरी होती है।

यह भी पढ़ें :  गृह मंत्री अमित शाह को हटाने की आवाज उठने लगी है भाजपा में!

संविधान की भाषा में बात की जाए तो 3 तरह के आपातकाल की व्यवस्था की गई है। धारा 307 के तहत केंद्र की सरकार आर्थिक आपातकाल का ऐलान कर सकती है। इसके अलावा राज्य आपातकाल और राष्ट्रीय आपातकाल भी होते हैं।