कोरोना से लड़ने के लिए भारत है दुनिया में सुपर पावर

नई दिल्ली

कोरोना वायरस से लड़ने के लिए पूरी दुनिया अपने अपने हिसाब से काम कर रही है। भारत सरकार भी कोरोना वायरस पॉजिटिव मरीजों की संख्या जानने के लिए लगातार टेस्ट कर रही है।

इस दौरान भी कुछ लोगों के द्वारा सरकार की क्षमता पर सवाल खड़े किए जा रहे हैं। हालांकि, एक बात भारत के पास ऐसी है, जो दुनिया में किसी के पास नहीं है और वह है सर्वाधिक टेस्ट करने की क्षमता।

केंद्रीय कैबिनेट मंत्री पीयूष गोयल ने बताया है कि भारत सरकार के पास प्रतिशतता सरकारी स्तर पर 70000 टेस्ट करने की है, जबकि दुनिया की महाशक्ति माने जाने वाले अमेरिका के पास भी साप्ताहिक टेस्ट क्षमता केवल 26000 है।

भारत सरकार के चिकित्सा मंत्रालय के सेक्रेटरी ने इसकी जानकारी देते हुए बताया कि दुनिया के कई बड़े देशों के पास कोरोना वायरस को जांचने के लिए टेस्ट करने की क्षमता भारत से काफी कम है।

जानकारी देते हुए बलराम भार्गव।

पीयूष गोयल ने जानकारी दी है कि भारत सरकार के पास COVID19 के 70 हजार टेस्ट प्रति सप्ताह करने की क्षमता है, जबकि अन्य देशों में यह क्षमता कुछ इस तरह है:

फ्रांस: 10,000
ब्रिटेन: 16,000
अमेरिका: 26,000
जर्मनी: 42,000
इटली: 52,000
भारत: 70,000

इसके साथ ही केंद्र सरकार ने यह भी कहा है कि 70000 टेस्ट समता के अलावा प्राइवेट लैब अलग है और सरकार चाहे तो इसको जरूरत पड़ने पर अधिक बड़ा भी सकती है भारत के पास अभी 111 लैब हैं, जहां पर उच्च स्तरीय टेस्ट किए जा रहे हैं।

यह भी पढ़ें :  Video: सड़क पर मरे कुत्ते का कच्चा मांस खाते लड़के के वीडियो ने देश को हिलाकर रख दिया है