कोरोना ने बचाई 75000 से ज्यादा जान, जानिए कैसे हुआ यह कमाल?

coronavirus latest news
coronavirus latest news

—बीबीसी का दावा कोरोना से त्रस्त ईरान छुपा रहा है तबाही, जबकि हर 10 मिनट में हो रही मौत का आंकड़ा भी सवालों के घेरे में है

नई दिल्ली।
दुनिया में कोविड19 के मामलों से अब तक 11 हजार से ज्यादा लोगों को अपनी जान से हाथ धोना पड़ा है। जबकि एक रिसर्च में दावा किया गया है कि कोरोना वायरस के चलते दुनिया में इस दौरान 75000 से अधिक जान बचाने का काम भी किया है।

इस शोध में दावा किया गया है​ कि कोरोना वायरस के चलते दुनिया में पॉलुशन कम हुआ, दुर्घटनाएं नहीं हुईं, आतंकवाद लगभग बंद है, लोगों के घरों में रहने के कारण बाहरी लड़ाईयों और दंगों में भी मरने वालों की संख्या नहीं के बराबर हो गई हैं। इन्हीं सबपर आधारित शोध में 75 हजार से ज्यादा जान बचाने का श्रेय भी कोरोना वायरस को दिया गया है।

दूसरी तरफ दुनिया में कोरोना वायरस के कहर के आगे सारी दुनिया ग्लोबलाइज्ड होती हुई नजर आ रही है। जहां कुछ समय पहले दुनिया के कई देश एक दूसरे से लड़ने में व्यस्त रहते थे, वो अब सब मिलकर एक अदृश्य शक्ति से युद्ध कर रहे हैं। चीन के वुहान शहर से निकले इस घातक वायरस की चपेट में अब तक दुनिया के 183 देश आ चुके हैं।

विश्व के अधिसंख्य देश अपने अपने हिसाब से बचने की तैयारियों में लगे हुए हैं, लेकिन जिस तरह के आरोप चीन पर लगे हैं, ठीक वैसी ही रिपोर्ट बीबीसी ने ईरान को लेकर कर सबको चौंका दिया है। बीबीसी ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि ईरान में तबाही का मंजर भयानक है, किंतु वहां पर शासन के द्वारा सही आंकड़े छिपाये जा रहे हैं।

यह भी पढ़ें :  CAA के बाद कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल, वामपंथी वकील इंद्रा जयसिंह और मुस्लिम संगठन PFI ने 120 करोड़ देकर भड़काए थे दंगे

इससे पहले कई विदेशी मीडिया संस्थानों ने चीन पर भी ऐसे ही आरोप लगाए थे। जिसके बाद चीन ने न्यूयॉर्क टाइम्स, वॉशिंगटन पोस्ट जैसे कई बड़े मीडिया संस्थानों को चीन में बैन कर दिया है। हालांकि, एक दिन पहले ही अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने भी चीन पर सही तथ्य छिपाने और दुनिया को इस महामारी के मुंह में धकेलने का आरोप लगाया है।

बीबीसी ने लिखा है कि ईरान में भले ही अब तक 1433 मौतों की बात कही जा रही हो, लेकिन यह सच्चाई नहीं है, अपितु मौतों की संख्या इससे कहीं ज्यादा हैं। लिखा है कि जहां चीन ने इस घातक वायरस से खुद को महफूज कर लिया है, वहीं इस्लामिक राष्ट्र ईरान अभी भी इससे जूझ रहा है और सही आंकड़े भी दुनिया से छिपा रहा है।

इधर, अमेरिका में भी मरने वालों की तादात अब 220 से अधिक हो गई है। जबकि, सर्वाधिक मौत इटली में, 4032 हो चुकी है। वहां पर बीते 24 घंटों के दौरान 627 लोगों ने दम तोड़ा है, यही सिलसिला इटली में तीन दिन से जारी है। जर्मनी भी वायरस की चौथी स्टेज पर पहुंच चुका है।

ईरान, इटली, स्पेन और फ्रांस कोरोना वायरस की तीसरी स्टेज से चौथी स्टेज की तरफ हैं, जबकि भारत और पाकिस्तान तीसरी स्टेज के मुहाने पर खड़े हैं। अब तक फ्रांस में 372, स्पेन में 1041 और भारत में अब तक 5 लोगों की मौत हुई है। चीन ने अपने सभी 80 हजार से अधिक स्वास्थ्य कर्मियों को वुहान से वापस अपने घर भेज दिया है, जो सेवाएं दे रहे थे और उम्मीद की जा रही है कि वहां पर सबकुछ सामान्य है।

यह भी पढ़ें :  आबकारी ने बढ़ाए शराब के दाम, विदेशी शराब 35% और बीयर 45% महंगी

बीबीसी ने यह भी लिखा है कि ईरान में सरकार भले ही 19644 लोगों के पॉजिटिव होने का दावा कर रही है, लेकिन तस्वीर और भी भयावह है। इतना ही नहीं, इस मीडिया संस्थान ने ईरान के सरकार के उस दावे को भी खारिज किया है, जिसमें कहा गया है कि ईरान में हर 10 मिनट में एक मौत हो रही है। बीबीसी ने इससे अधिक मौत की आशंका जाहिर की है।

गौरतलब है कि कोरोना वायरस से दुनियाभर में शुक्रवार रात तक 275125 से ज्यादा लोग पीड़ित पाए गए हैं, जबकि इनमें से 90603 लोग ठीक भी हो चुके हैं। बीमारी से अब तक दुनिया में 11186 लोग मर चुके हैं। इनकी संख्या हर घंटे बढ़ रही है।