दिल हिंसा में मारे गए लोगों के नालों में 3 शव और बरामद हुए

नई दिल्ली।

– दिल्ली में अफवाह और तनावपूर्ण शांति, हिंसा में अब तक मरने वालों की संख्या पहुंची 45 के पार।

उत्तरी पूर्वी दिल्ली में हिंसा के बाद अब भी क्षेत्र में तनाव व्याप्त है और लोग किसी अनहोनी घटना को लेकर आशंकित हैं। रविवार को दिल्ली के नालों से पुलिस को तीन और शव बरामद हुए हैं।

इस तरह दिल्ली में हिंसा में मरने वालों की संख्या बढ़कर 45 हो चुकी है। नॉर्थ ईस्ट दिल्ली में अभी भी तनाव का माहौल है और जनजीवन बुरी तरह से प्रभावित हुआ है।

दिल्ली पुलिस के जनसंपर्क अधिकारी मनदीप सिंह रंधावा ने बताया कि यहां उत्तर पूर्वी दिल्ली में हालात पूरी तरह से नियंत्रण में हैं। पिछले 4 दिनों में किसी भी इलाके में किसी हिंसा की कोई सूचना नहीं है।

इस संबंध में अब तक 254 प्राथमिकी दर्ज की गई है, जिनमें आर्म्स एक्ट के संबंधित इस मामले में अब तक 903 लोगों से पूछताछ के लिए हिरासत में लिया गया है और कईयों को गिरफ्तार किया गया है।

जाफराबाद, गोकुलपुरी, खजूरी समेत कई अन्य क्षेत्रों में 3 दिनों तक हुए 45 लोगों की मौत हो गई है। इसमें करीब 300 घायलों को विभिन्न अस्पतालों में उपचार चल रहा है। प्रभावित गोकुलपुरी से एक शव भागीरथी विहार से 2 शव बरामद किए गए हैं।

इसके साथ ही हिंसा में मरने वालों की संख्या 45 पहुंच गई है। पुलिस मामले की जांच कर रही है कि जो शव बरामद हुए हैं, उनका संबंध दंगों से है या नहीं। पुलिस मामले की जांच कर रही है।

यह भी पढ़ें :  अपग्रेडेड वर्जन है mig21, सितंबर में वायुसेना को मिल जाएगा राफेल-एयर चीफ

इलाके में बड़ी संख्या में पुलिस बल की तैनाती की गई है। सांप्रदायिक सद्भाव बनाए रखने के लिए सुरक्षा बल नियमित रूप से स्थानीय लोगों से बातचीत कर रहे हैं।

पुलिस के एक अधिकारी ने बताया था तब नियंत्रण में है, अभी इलाकों में पर्याप्त सुरक्षा बल तैनात है स्थानीय लोगों से बातचीत की जा रही है। खुफिया विभाग के अधिकारी अंकित शर्मा का शव नाले में मिला था। नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ सड़क से हटाने के लिए भाजपा के नेता और पूर्व विधायक कपिल मिश्रा के साथ रैली निकाली और खुलेआम चेतावनी दी थी।

इसके बाद दोनों तरफ से पथराव की घटना हुई और कई इलाकों में दुकानों को भी आग के हवाले कर दिया। बताया जाता है कि इससे पहले दिल्ली विधानसभा चुनाव के दौरान प्रचार के वक्त सोनिया गांधी, राहुल गांधी और प्रियंका वाड्रा के द्वारा भाषा का उपयोग किया गया था, उससे भी कहीं न कहीं इस हिंसा का हाथ नजर आता है।

एक तरफ दिल्ली पुलिस स्थिति नियंत्रण की बात कर रही है तो दूसरी तरफ शाम को फिर हिंसा भड़कने के लोगों के बीच अफरा-तफरी मच गई। सुरक्षा कारणों से डीएमआरसी मेट्रो स्टेशन बंद कर दिए, किन्तु कुछ ही समय बाद उनको फिर सभी स्टेशनों को फिर से खोल दिया गया। दिल्ली पुलिस ने लोगों से शांति बनाए रखने की अपील है।