बिना पैसे लिए अयोध्या में भव्य राम मंदिर बनाएगी ‘L&T’, विश्व में हिंदू आस्था का सबसे बड़ा केंद्र बनेगा मंदिर

ram mandir Ram Temple
ram mandir Ram Temple

नई दिल्ली।
कोर्ट कचहरी के चलते लंबे समय से लंबित अयोध्या में बनने वाले राम मंदिर को बनाने के लिए देश प्रतिष्ठित कन्स्ट्रक्शन कंपनी, लारसन एण्ड टर्बो (L&T) सामने आई है, वो भी बिना किसी एक रुपया लिए। विश्व हिंदू परिषद उच्च पदस्थ सूत्रों ने जानकारी दी है कि जल्द ही इस मामले में फैसला कर लिया जाएगा।

विश्व हिंदू परिषद के महामंत्री और हाल ही में श्रीराम तीर्थ क्षेत्र न्यास के कोषाध्यक्ष बनाए गए चम्पल राय ने बताया कि है कि कंपनी के उच्च अधिकारियों से बातचीत चल रही है और जल्द ही इसपर निर्णय लिया जाएगा।

न्यास की अगली बैठक मार्च के पहले सप्ताह में अयोध्या में होने जा रही है, तब इसको लेकर निर्णय लिया जा सकता है। इस बैठक में ‘एल एण्ड टी’ के वरिष्ठ डिजायनर प्रजेंटेशन देंगे। कंपनी के अधिकारियों को भी इस बैठक में आमंत्रित किया गया है।

राय का कहना है कि मंदिर निर्माण का अंतिम निर्णय इसी बैठक में लिया जाएगा। साथ ही यह भी बताया जा रहा है कि राम मंदिर के निर्माण में सभी तरह की तकनीकी सहायता समेत सभी कार्य कंपनी द्वारा किए जाने की बात कही गई है।

न्यास के अनुसार राम मंदिर का निर्माण 67 एकड भूमि पर किया जाएगा। जहां पर 270 फीट उंचा भव्य मंदिर खड़ा होगा। मंदिर का निर्माण नागर शैली में किया जाएगा। इसके लिए उत्तर भारत के सबसे प्रतिभाशली आर्किटेक्टर्स को आमंत्रित किया जाएगा।

राम जन्मभूमि न्यास के वरिष्ठ महंत कमल नारायण दास का कहना है कि नागर शैली में निर्माण का निर्णय इसलिए लिया गया है, क्योंकि जब बाबर ने इस मंदिर को तोड़ा था, उससे पहले इसी शैली में इसका निर्माण किया गया था।

यह भी पढ़ें :  चीन की डिजिटल पॉवर पर मोदी सरकार की "सर्जिकल स्ट्राइक"

दो मंजिला बनने वाले इस मंदिर को इस तरह से डिजायन किया जाएगा कि इसमें केवल पत्थर ही काम में लिया जाएगा, सीमेंट और लोहे का इस्तेमाल नहीं किया जाएगा, ताकि इसकी उम्र असीमित समय तक रहे। बता दें कि राम मंदिर​ का निर्णय पिछले साल ही सुप्रीम कोर्ट द्वारा किया गया है।