सोनभद्र के 15000 करोड़ के स्वर्ण भंडार पर कुंडली मारकर बैठे हैं दुनिया के सबसे जहरीले सांप

सोनभद्र : सोने के खजाने पर जहरीले सांपों की फौज का पहरा।
सोनभद्र/उत्तर प्रदेश।
उत्तर प्रदेश के सोनभद्र जिले में 15000 करोड़ से अधिक कीमत के 3 हजार टन सोने का भंडार होने का जब से पता चला है, तब से देश ही नहीं विदेश में भी सोनभद्र जिला सुर्खियों में है। लोग यहां मिले अकूत सोने के भंडार के बारे में जानने को बेहद उत्सुक हैं।

जहां एक तरफ सोने के भंडार मिलने से उत्तर प्रदेश समेत पूरा भारत बेहद खुश है, वहीं डराने वाले बात यह है कि उस खजाने के पीछे जहरीले और खतरनाक सांपों का बसेरा है। ये सांप उस खजाने पर कुंडली मारकर बैठे हैं।

भू-वैज्ञानिकों को सोनभद्र जिले में 2 जगहों पर सोने का भंडार होने की जानकारी मिली है। अब जिस जगह सोने की खादान होने का पता चला है, वहां बड़े पैमाने पर जहरीले सांपों के होने की मौजूदगी सामने आई है।

ये सांप किसी लक्ष्मी की फौज की तरह खजाने के आसपास बहुतायत संख्या में हैं। बताया जा रहा है कि वहां दुनिया के सबसे जहरीले रसेल वाइपर समेत खतरनाक प्रजाति के 3 प्रकार के सांपों की संख्या सबसे ज्यादा पाई गई है।

सांपों की यहां मिलने वाली जहरीली प्रजाति में कोबरा, करैत और रसेल वाइपर मुख्य हैं। ये ज़हरीले सांप सबसे ज्यादा सोनभद्र के सोन पहाड़ी के दुद्धी तहसील के महोली विंढमगंज चोपन ब्लॉक में हैं।

आपको यह भी बता दें कि दुनिया के सबसे जहरीले सांप के तौर पर प्रसिद्ध रसेल वाइपर की प्रजाति पूरे भारत में सिर्फ उत्तर प्रदेश के सोनभद्र जिले में ही पाई जाती है।

यह भी पढ़ें :  राजस्थान सरकार का बजट: छोटी-छोटी घोषणाओं के बजट में क्या कुछ है, पढ़िए

सोने के भंडार के पास 3 प्रजाति के जहरीले सांपों की मौजूदगी को लेकर सोनभद्र जिले के वन विभाग के अधिकारी बताते हैं कि सोने का खजाना निकालते वक्त जब विभाग से अनापत्ति प्रमाण पत्र लिया जाएगा, उस वक्त सही आंकड़ा सामने आ पाएगा कि वहां वास्तव में जहरीले सांप की तादात कितनी है?

हालांकि, सोनभद्र के डिस्ट्रिक्ट फॉरेस्ट ऑफिसर ने बताया कि इससे पहले उस जगह, जहां स्वर्ण भंडार हैं और जहां पर आसपास से रसेल वाइपर, कोबरा और करैत जाति के कई ज़हरीले सांप मिल चुके हैं।

बता दें कि सोने के 3000 टन से अधिक बेतहाशा भंडार के सामने आने के बाद उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार ने इन दो गांवों की खदानों को लीज पर देने के लिए आवंटन प्रकिया तेज कर दी है।

खजाने के खनन की ई-निलामी से पहले जिओ टैगिंग की कार्रवाई शुरू कर दी गई है। जहां पर स्वर्ण भंडार है, उस पूरे इलाके का हवाई सर्वेक्षण कराया जा रहा है। इसके लिए योगी आदित्यनाथ की राज्य सरकार ने 2 हेलीकॉप्टरों की मदद ली है।