विश्व हिंदू परिषद ने सरकार द्वारा गठित राम मंदिर ट्रस्ट को हाईजैक किया

-महंत नृत्य गोपाल दास को ट्रस्ट का अध्यक्ष घोषित किया तथा अगली बैठक अयोध्या में कर, मंदिर निर्माण का कार्यक्रम घोषित करने की बात कही

नई दिल्ली।
सुप्रीम कोर्ट के आदेशानुसार अयोध्या में मंदिर निर्माण की देखरेख के लिए सरकार की ओर से 5 फरवरी को गठित किए गए राम मंदिर ट्रस्ट का विश्व हिंदू परिषद ने बुधवार को हाईजैक कर लिया।

विहिप ने घोषणा की कि श्रीराम जन्मभूमि न्यास के अध्यक्ष अयोध्या के बुजुर्ग संत महंत नृत्य गोपाल दास (78) राम मंदिर ट्रस्ट के अध्यक्ष होंगे, जबकि ट्रस्ट के अध्यक्ष के बतौर सरकार की ओर से पूर्व अटॉर्नी जनरल के. पारासरन (92) का नाम प्रस्तावित किया गया था।

परासरन के आवास पर यहां आयोजित बुधवार को राम मंदिर ट्रस्ट की प्रथम बैठक में ट्रस्ट के दो रिक्त स्थानों पर सदस्य के रूप में विश्व हिंदू परिषद के उपाध्यक्ष चंपत राय और महंत नृत्य गोपाल दास को मनोनीत किया गया और इस प्रकार वी.एच.पी ने इसे अपने कब्जे में ले लिया।

इसके बाद चंपत राय ने स्वयं को ट्रस्ट का महासचिव घोषित कर दिया तथा पुणे के स्वामी गोविंद देव गिर्राज महाराज को ट्रस्ट का कोषाध्यक्ष बना दिया और उसके बाद दावा किया कि महंत नृत्य गोपाल दास ट्रस्ट के अध्यक्ष बनने के लिए सही दावेदार है क्योंकि वीएचपी का अयोध्या मंदिर आंदोलन उन्हीं के नेतृत्व में चलाया गया था।

पूर्व अटॉर्नी जनरल के. पारासरन जो इस ट्रस्ट के सदस्य हैं, के निवास पर आयोजित बैठक के बाद चंपत राय ने संवाददाताओं को बताया कि नृपेंद्र मिश्रा (75) जो पिछले अगस्त तक प्रधानमंत्री मोदी के विश्वसनीय मुख्य सचिव थे, वे उत्तर प्रदेश कैडर से 1967 बैच के से सेवानिवृत्त आर. एस. एस. अधिकारी हैं, को ट्रस्ट ने मंदिर निर्माण करने वाले पैनल का अध्यक्ष मनोनीत किया हैं।

यह भी पढ़ें :  पैदा होते ही जमीन में गाढ़ दिया था, आज दुनिया मानती है लोहा

बैठक के बारे में कयास लगाए जा रहे हैं कि इसकी प्रथम बैठक में मंदिर निर्माण शुरू करने की तारीख तय की जाएगी परंतु चंपत राय ने बताया कि 15 दिन बाद ट्रस्ट की बैठक अयोध्या में पुनः आयोजित की जाएगी, जिसमें निर्माण तिथि की घोषणा किए जाने की संभावना है।

सूत्रों का कहना है कि मंदिर का निर्माण शुरु करने के लिए “मुहूर्त” की तिथि का फैसला अयोध्या में किया जाएगा।