2 सप्ताह में दूसरी बार कांग्रेस ने मुंह की खाई, इस बार राहुल गांधी ने कराई किरकिरी

नई दिल्ली।

कांग्रेस ने 2 सप्ताह में दूसरी बार सुप्रीम कोर्ट में मुंह की खाई है। एक सप्ताह पहले ही सुप्रीम कोर्ट ने अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति के पदोन्नति में आरक्षण के मामले में अहम फैसला सुनाया था, आज सेना में महिलाओं को स्थाई कमीशन के लिए सुप्रीम कोर्ट ने दूसरा फैसला सुनाया है।

सुप्रीम कोर्ट का पहला फैसला उत्तराखंड की 2012 की तत्कालीन कांग्रेस सरकार के द्वारा याचिका दायर किए जाने के खिलाफ था, जिसमें सरकार ने कहा था कि पदोन्नति में अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति के वर्ग को आरक्षण नहीं दिया जाना चाहिए।

तत्कालीन कांग्रेस सरकार की याचिका पर फैसला सुनाते हुए सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि यह राज्य सरकारों का विवेक है कि वह इन दोनों वर्गों को पदोन्नति में आरक्षण देना चाहती है या नहीं देना चाहती है।

सुप्रीम कोर्ट के उस आदेश के बाद कांग्रेस ने केंद्रीय नरेंद्र मोदी सरकार को घेरने का प्रयास किया, लेकिन असल में वह अपील कांग्रेस की सरकार के द्वारा की गई थी, जिसमें केंद्र सरकार पार्टी नहीं थी।

सोमवार को सुप्रीम कोर्ट ने हाईकोर्ट के फैसले को बरकरार रखते हुए भारतीय सेना में महिलाओं को स्थाई कमीशन देने के निर्देश दिए हैं। इसको लेकर राहुल गांधी ने केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार को एक बार फिर से सवालों के घेरे में खड़ा करने का प्रयास किया लेकिन, यहां पर भी मामला उल्टा पड़ गया।

राहुल गांधी ने ट्वीट करके कहा कि “सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में यह दलील देकर देश की हर महिला का अपमान किया है और महिला सैन्य अधिकारी कमांड पोस्ट में नियुक्ति पाने या स्थाई सेवा के हकदार नहीं है, क्योंकि वह पुरुषों के मुकाबले कमतर होती हैं। मैं भाजपा सरकार को गलत साबित करने और उनके खिलाफ खड़े होने के लिए भारत की महिलाओं को बधाई देता हूं।”

यह भी पढ़ें :  रतन टाटा के बाद अज़ीम प्रेमजी ने भी दिया पीएम फंड में दान, इतना रुपया देकर किया सहयोग

राहुल गांधी के इस ट्वीट के बाद भाजपा की नेता और सैन्य अधिकारियों के लिए सुप्रीम कोर्ट में केस लड़ रही वकील मीनाक्षी लेखी ने राहुल गांधी के बयान पर कड़ी प्रतिक्रिया दी।

उनके साथ ही हाईकोर्ट के वरिष्ठ वकील नवदीप सिंह ने भी राहुल गांधी को याद दिलाया कि हाईकोर्ट के फैसले के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट जाने वाली 2010 की कांग्रेस सरकार थी, ना कि भाजपा सरकार।

इस तरह से देखा जाए तो लगातार 2 सप्ताह तक सुप्रीम कोर्ट के 2 बड़े फैसलों के बाद कांग्रेस खुद अपनी किरकिरी करवा रही है, जिसमें राहुल गांधी मुख्य किरदार हैं।