CAA का NRC से कोई लेना देना नहीं: कर्नल जगदेव सिंह

jaipur news

भाजपा के जन जागरण अभियान के तहत सोमवार को जयपुर में बीजेपी कार्यालय में पूर्व सैनिक सम्मेलन आयोजित किया गया।

भारतीय जनता पार्टी के पूर्व सैनिक प्रकोष्ठ द्वारा आयोजित किए गए इस सम्मेलन में हर जिले से आए पूर्व सैनिकों ने भाग लिया।

नागरिकता संशोधन कानून का समर्थन और आमजन को इसके बारे में पूरी जानकारी पहुंचाना इस मुख्य उद्देश्य के चलते यह कार्यक्रम आयोजित किया गया।

इस कार्यक्रम के जरिये से यह सैनिक अपने गांव, ढाणी और तहसील में जाकर सीएए के प्रति लोगों को जागरूक करेंगे।

इस दौरान भारतीय जनता पार्टी के सैनिक प्रकोष्ठ के प्रदेश सह संयोजक कर्नल जगदेव सिंह ने बताया कि पूरे प्रदेश से पूर्व सैनिक और गौरव सेनानी आज सीएए के जन जागरण के चलते आज पार्टी कार्यालय में एकत्रित हुए हैं।

उन्होंने कहा कि जितने भी लोग आज यहां कार्यक्रम में आए हैं उन्हें इस बात से परिचित कराया जा रहा है कि सीएए अफगानिस्तान,पाकिस्तान और बांग्लादेश से धार्मिक उत्पीड़न की वजह से आए हुए हिंदु, सिख, ईसाई, पारसी, जैन और बौद्ध समाज के व्यक्तियों को नागरिकता देने के लिए है और यह एक्ट किसी की नागरिकता लेने के लिए नहीं है।

उन्होंने कहा कि भारत के जितने भी नागरिक हैं उनकी नागरिकता सुरक्षित है। सीएए का एनआरसी से कोई लेना देना नहीं है। एनआरसी सुप्रीम कोर्ट के आर्डर से केवल आसाम में लागू किया गया था और उसका पूरे देश से कोई लेना देना नहीं है।

कर्नल जगदेव सिंह ने कहा कि सीएए को लेकर कई लोग, कई राजनीतिक पार्टियां अपने वोट बैंक की पॉलिटिक्स के लिए भ्रांति फैला रहे हैं कि एनपीआर और सीएए में एक ही बात है और ये देश के मुसलमानों की नागरिकता लेने के लिए है इससे बड़ी भ्रांति कोई फैला ही नहीं सकता क्योंकि इस देश में हर 10 साल में एक बार जनगणना होती है।

यह भी पढ़ें :  97% CAA और NPR के समर्थन में, विरोधियों की निकली हवा