प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने तोड़ दी सभी धारणाएं, नहीं बनेगा कोई भी नपुंसक

नई दिल्ली। भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उन सभी धारणाओं पर पानी फेर दिया और विपक्ष के लगाए गए सभी आरोपों को सिरे से खारिज कर दिया, जिसमें कहा जा रहा था कि कोरोनावायरस का टीका लगने से लोग नपुंसक हो जाते हैं।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को सुबह 6:30 बजे दिल्ली स्थित एम्स में पहुंचकर राजनेताओं में सबसे पहले खुद के कोरोनावायरस का टीका लगवाया।

प्रधानमंत्री ने इस से दो चीजें खत्म कर दी, पहले यह जिस तरह से उन्होंने पिछले दिनों कहा था कि दूसरे चरण में देश के टॉप क्लास राजनेताओं जिनमें विधायक, सांसद, मुख्यमंत्री और खुद प्रधानमंत्री भी शामिल हैं, उनको टीका लगाया जाएगा, लेकिन इसके बावजूद विपक्ष के द्वारा कहा जा रहा था कि लाइन में लगकर पहले खुद प्रधानमंत्री टीका लगवाए।

देश में आज से टीकाकरण का दूसरा दौर शुरू हो रहा है और उसको लेकर खुद प्रधानमंत्री ने शुरुआत की है। आज देश की शिक्षण संस्थानों में भी कोरोनावायरस का टीकाकरण किया जाएगा। सरकारी स्कूलों में वायरस का टीका फ्री लगाया जाएगा, जबकि निजी विद्यालयों को अधिकतम ₹250 से ज्यादा नहीं लेने होंगे।

इसके साथ ही देश में कोरोनावायरस के खिलाफ लड़ाई लड़ने वाले फ्रंटलाइन योद्धाओं के साथ दूसरी डोज की शुरुआत हो गई है। पहला टीकाकरण उनका पूरा हो चुका है। देश ने केवल हिंदुस्तान में बल्कि विदेशों में भी इस टीके की करोड़ों डोज भेज रहा है।

यह भी पढ़ें :  CAA का कमाल: 15 साल से प्रयासरत 18 पाक विस्थापितों को मिली भारत की नागरिकता