ट्विटर के साथ भारत सरकार की तकरार, सूचना प्रसारण मंत्रालय ने देसी कू ऐप के जरिए साझा की जानकारी

नई दिल्ली। ट्विटर के साथ भारत सरकार की किसान आंदोलन को लेकर तकरार बढ़ गई है। इसके बाद से भारत सरकार के सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय ने ट्विटर के बजाए देसी माइक्रो ब्लॉगिंग ऐप कू (koo) का सहारा लिया।

भारत सरकार ने ट्विटर से कहा था कि करीब 1150 से अधिक एकाउंट्स को बंद किया जाए और इसके साथ ही जो गलत है, इस टाइम ट्रेंड कर रहा है, उसको भी नहीं दिखाया जाए। इसके एवज में ट्विटर ने 250 से ज्यादा अकाउंट से सस्पेंड किए थे, लेकिन उसके बाद कई अकाउंट को फिर से बहाल कर दिया गया।

उल्लेखनीय है कि आत्मनिर्भर भारत अभियान के तहत microblogging app देसी ऐप कू भारत सरकार ने एक करोड रुपए का नगद इनाम भी दिया था।

खास बात यह है कि भारत सरकार के तकरीबन सभी मंत्रालय अब ट्विटर के बजाय को ऐप को ज्यादा यूज करने लगे हैं। इस माइक्रो ब्लॉगिंग ऐप का निर्माण बेंगलुरु के तीन मित्रों की एक कंपनी के द्वारा किया गया है। यह पूरी तरह से आत्मनिर्भर भारत अभियान के तहत बनाया गया है।

सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय के द्वारा कू के साथ जानकारी साझा करने के कारण इस माइक्रो ब्लॉगिंग कू ऐप के ऊपर तेजी से लोग बढ़ रहे हैं। माना जा रहा है कि ट्विटर के विकल्प के रूप में कू देश में एक बड़ा प्लेटफार्म साबित हो सकता है।

यह भी पढ़ें :  Bangladesh को Coronavirus की 3 करोड़ Vaccine उपलब्ध कराएगा India