टिकैत बोले: हम प्रधानमंत्री का सिर नहीं झुकने देंगे, सरकार की किसानों के साथ बैठक 2 फरवरी को

नई दिल्ली।
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के द्वारा मन की बात (mann ki baat) कार्यक्रम में लालकिले की घटना पर दुनिया के सामने सिर झुकने और दुख होने का जिक्र किया। जिसकी प्रतिक्रिया में भारतीय किसान यूनियन के अध्यक्ष नरेश टिकैत ने कहा कि हम प्रधानमंत्री का सिर नहीं झुकने देंगे और ना ही तिरंगे का अपमान होने देंगे।

टिकैत ने कहा कि सरकार से बातचीत करने के लिये प्रधानमंत्री द्वारा उठाये गये कदमों का वह स्वागत करते हैं। अब सरकार के साथ 2 फरवरी को फिर से वार्ता होगी। साथ ही टिकैत ने कहा कि सरकार हमारे लोगों को रिहा कर वार्ता का रास्त साफ करे।

इसके अलावा किसाना नेता टिकैत ने कहा है कि सरकार हमें बतायें कि ऐसी क्या मजबूरी है कि तीनों कानून वापस नहीं लिये जा सकते, हम प्रधानमंत्री और सरकार का सिर झुकने नहीं देंगे, हम उनकी बात का मान रखेंगे।

इन बयानों से अब साफ होता हुआ नजर आ रहा है कि सरकार और किसानों के साथ सुलह की जमीन तैयार हो रही है।

इधर, गाजीपुर, सिंघु और टीकरी बॉर्डर पर किसानों का धरना कड़ी सुरक्षा के बीच जारी है। अब सबसे ज्यादा फोकस गाजीपुर बॉर्डर पर है, जहां पर राकेश टिकैत बैठे हैं।

बता दें कि 26 जनवरी को गणतंत्री दिवस के अवसर पर ट्रैक्टर परेड के पहले ही उपद्रवियों ने लालाकिले पर कूच वहां पर तिरंगे के समानांतर दो धार्मिक झंडे फहरा दिये थे, जिनमें से एक खालिस्तान समर्थकों का बताया जाता है। इस दिन पुलिस के साथ टकराव के वक्त 100 से ज्यादा पुलिसकर्मियों का चोटें आई थीं।

यह भी पढ़ें :  “बैंक डूब सकते हैं, सरकार दिवालिया हो सकती है, कुछ तो है जो नॉर्मल नहीं है”

साथ ही उपद्रव के दौरान ट्रैक्टर पलटने के कारण एक युवक की मौत भी हो गई थी। हालांकि, बाद में किसान नेताओं ने ट्रैक्टर परेड का रद्द कर दिया था।

साथ ही दो फरवरी को फिर से दिल्ली कूच का ऐलान भी कुछ लोगों ने किया था, जबकि दो किसान संगठनों ने इस आंदोलन से खुद को अलग कर लिया था।