25 C
Jaipur
गुरूवार, जनवरी 21, 2021

विश्लेषण: किसानों पर water cannon से बौछार कितनी सही, कितनी खतरनाक?

- Advertisement -
- Advertisement -

रामगोपाल जाट

केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार (pm narendra modi govt) द्वारा दो माह पहले संसद में पारित किए गए तीन कृषि कानून (three Farmer act) के खिलाफ किसानों का गुस्सा लगातार बढ़ता जा रहा है। दो दिन पहले पंजाब के किसानों ने रेल की पटरियों को छोड़कर दिल्ली कूच करने की घोषणा की थी।

- Advertisement -विश्लेषण: किसानों पर water cannon से बौछार कितनी सही, कितनी खतरनाक? 5

इसके बाद गुरुवार को किसानों पर दिल्ली कूच करने के दौरान हरियाणा सरकार द्वारा दिल्ली जाने वाला राष्ट्रीय राजमार्ग (new Delhi NCR highway) रोक दिया गया, जहां पर किसानों को रोकने के लिए पुलिस ने पानी की बौछारों (water cannon) का प्रयोग किया।

सैंकड़ों किसान इस आंदोलन में दिखाई दे रहे हैं। हालांकि, आंदोलन में शामिल किसानों, आढ़तियों और मंडी कारोबारियों का दावा है कि किसान आंदोलन में लाखों लोग दिल्ली की ओर कूच कर रहे हैं।

विश्लेषण: किसानों पर water cannon से बौछार कितनी सही, कितनी खतरनाक? 1

उल्लेखनीय है कि केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार के द्वारा 2 महीने पहले तीन कृषि विधायकों को संसद में पारित करवाकर कानून बनाया गया था। इनमें सबसे पहला कानून किसानों के लिए अपना उत्पादन मंडियों में भेजने की अनिवार्यता खत्म की गई है।

सरकार ने नए कानून में प्रावधान किए हैं कि मंडी के कारोबारी अब किसान के घर पर जाकर उसकी मांग व दोनों की बीच बनी सहमति के मूल्य पर फसलों का उत्पादन खरीद सकेंगे।

इस बिल को लेकर किसानों का कहना है कि केंद्र की सरकार कृषि मंडियों को खत्म करने का सिलसिला शुरू कर चुकी है। हालांकि, इसके खिलाफ खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी समेत केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर और भाजपा के दर्जनों नेता बयान देकर साफ कर चुके हैं कि मंडियों को खत्म करने का कोई प्रावधान नहीं है।

दूसरे कानून में बताया गया है कि कॉरपोरेट कंपनियां किसानों से सीधा संपर्क करके उनके साथ कॉन्ट्रैक्ट करें उनके उत्पादन को खरीद सकेंगी। इसके लिए किसानों और कंपनियों के बीच 11 महीने का फसल उत्पादन एग्रीमेंट होगा।

किसान आंदोलन से जुड़े हुए लोगों का कहना है कि केंद्र की सरकार इस बिल के माध्यम से किसानों की जमीन कॉर्पोरेट कंपनियों के हवाले करना चाहती है।

केंद्र सरकार के द्वारा इसको लेकर भी स्पष्ट रूप से कहा जा चुका है कि किसानों और कंपनियों के बीच कॉन्ट्रैक्ट केवल 11 महीने का होगा और वह भी फसलों के लिए होगा जमीन के लिए नहीं होगा।

तीसरे बिल में कारोबारियों के द्वारा की जाने वाली फसल उत्पादन के स्टॉक की लिमिट को खत्म कर दिया गया है। हालांकि आपातकाल की स्थिति में केंद्र और राज्य सरकारें फिर से स्टॉक लिमिट लागू कर सकती है।

तीसरे बेल के कारण किसानों के बजाय कारोबारियों में ज्यादा हड़कंप मचा हुआ है। कारोबारियों का मानना है कि इसके चलते फसल खरीद करने वाले आढ़तियों के द्वारा बड़े पैमाने पर स्टॉक किया जाएगा और इससे महंगाई बढ़ेगी।

केंद्र सरकार का कहना है कि कोल्ड स्टोरेज की कमी होने के कारण कोई भी कंपनियां अभी तक इस सेक्टर में कदम नहीं बढ़ा पा रही थी। स्टॉक लिमिट खत्म करने के कारण किसानों की फसलों के उत्पादन के कारोबारियों के द्वारा स्टोरेज की व्यवस्था ज्यादा की जाएगी।

विश्लेषण: किसानों पर water cannon से बौछार कितनी सही, कितनी खतरनाक? 2

केंद्र सरकार का यह भी कहना है कि स्टॉक लिमिट भले ही खत्म कर दी गई हो, लेकिन किसी भी तरह की आपात स्थिति में किसी भी कारोबारी को स्टॉक लिमिट का पालन करना अनिवार्य होगा इसलिए महंगाई को तुरंत काबू पाया जा सकेगा।

किसानों और केंद्र सरकार के बीच में टकराव का जो सबसे बड़ा कारण है वह मंडियों की अनिवार्यता को लेकर है। हालांकि, माना जा रहा है कि इस कानून की वजह से किसानों को कोई नुकसान नहीं होगा लेकिन मंडी में बैठकर जो आढ़तिये किसानों की फसलों को औने-पौने दामों पर खरीदते हैं, उनके लिए अब किसान के घर पर जाकर फसल खरीदने की मजबूरी हो जाएगी।

केंद्र सरकार का कहना है कि अगर फसल खरीद से संबंधित कारोबारी किसान के पास घर पर जाकर उत्पादन को खरीदने लगेंगे तो इसके चलते कारोबारियों के बजाय किसान अपनी फसलों का मूल्य तय करने लगेंगे और इससे किसान को निश्चित रूप से फायदा होगा।

इस पूरे मामले में जिस एक प्रावधान को लेकर किसानों में सबसे ज्यादा रोष है वह मंडियों को लेकर ही है। केंद्र सरकार का कहना है कि मंडी खत्म करने का कोई प्रावधान नहीं किया गया है, जबकि किसान आंदोलन से जुड़े हुए किसानों और किसानों के नेताओं का कहना है कि केंद्र सरकार धीरे-धीरे मंडी को खत्म कर देगी।

- Advertisement -
विश्लेषण: किसानों पर water cannon से बौछार कितनी सही, कितनी खतरनाक? 6
Ram Gopal Jathttps://nationaldunia.com
नेशनल दुनिआ संपादक .

Latest news

जयपुर गौरी माहेश्वरी बनी विश्व की सबसे कम उम्र में कैलीग्राफी टीचर

-हाल ही में एशिया बुक ऑफ रिकॉर्ड से नवाजी गई गौरी। जयपुर। देखने में सुन्दर शब्दों को लिखने की कला को कैलीग्राफी कहा जाता...
- Advertisement -

ईशान कोण का शमशान लील रहा है विधायकों की जान, विधानसभा में भूत है?

जयपुर। बीते 20 बरस से राजस्थान विधानसभा में ऐसा अवसर केवल दिसंबर 2018 से लेकर अक्टूबर 2020 तक ही आया है, जब सभी 200...

पत्रकार भगवान चौधरी पर हिस्ट्रीशीटर ने किया जानलेवा हमला, पत्रकारों में गहरा रोष

जयपुर। राजधानी जयपुर से प्रकाशित होने वाले प्रमुख अखबार पंजाब केसरी की रिपोर्टर भगवान चौधरी पर कार्यालय जाते वक्त सुबह करीब 11 बजे स्थानीय...

पायलट कैम्प को झटका, विधायक गजेंद्र शक्तावत का आकस्मिक निधन

जयपुर। पूर्व उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट कैंप को एक और झटका लगा है। पायलट के बेहद करीबी उदयपुर जिले की वल्लभनगर विधानसभा सीट से...

Related news

मनीषा डूडी के साथ क्या लव जिहाद हुआ है?

बीकानेर/जयपुर। बीकानेर जिले की कोलायत तहसील के बांगड़सर गांव की 18 वर्ष की मनीषा डूडी ने पिछले दिनों कोलायत के एक गांव के रहने...

ईशान कोण का शमशान लील रहा है विधायकों की जान, विधानसभा में भूत है?

जयपुर। बीते 20 बरस से राजस्थान विधानसभा में ऐसा अवसर केवल दिसंबर 2018 से लेकर अक्टूबर 2020 तक ही आया है, जब सभी 200...

पत्रकार भगवान चौधरी पर हिस्ट्रीशीटर ने किया जानलेवा हमला, पत्रकारों में गहरा रोष

जयपुर। राजधानी जयपुर से प्रकाशित होने वाले प्रमुख अखबार पंजाब केसरी की रिपोर्टर भगवान चौधरी पर कार्यालय जाते वक्त सुबह करीब 11 बजे स्थानीय...

पायलट कैम्प को झटका, विधायक गजेंद्र शक्तावत का आकस्मिक निधन

जयपुर। पूर्व उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट कैंप को एक और झटका लगा है। पायलट के बेहद करीबी उदयपुर जिले की वल्लभनगर विधानसभा सीट से...
- Advertisement -