22 C
Jaipur
शुक्रवार, नवम्बर 27, 2020

बिहार चुनाव : अंतिम चरण की बढ़त, सत्ता की राह करेगी आसान!

- Advertisement -
- Advertisement -

पूर्णिया (बिहार), 6 नवंबर (आईएएनएस)। बिहार विधानसभा चुनाव के तीसरे और अंतिम चरण में राज्य के 15 जिलों के 78 विधानसभा सीटों के लिए शनिवार को वोट डाले जाएंगे। माना जा रहा है कि इस चरण में जिस गठबंधन को बढ़त मिलेगी, राज्य में अगली सरकार बनाने में उसकी राह आसान होगी। यही कारण है कि सभी राजनीतिक दल इस चरण की अधिक से अधिक सीटें हासिल करने के लिए जी-तोड़ मेहनत की है।
इस चरण में सत्ताधरी राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन की ओर से जनता दल (युनाइटेड) ने 37, भाजपा ने 35, विकासशील इंसान पार्टी (वीआईपी) ने पांच और हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा ने एक प्रत्याशी चुनावी मैदान में उतारे हैं वहीं विरोधी दलों के महागठबंधन में राष्ट्रीय जनता दल (राजद) ने सबसे अधिक 46, कांग्रेस ने 25, तथा सीपीआई एम एल ने 5, सीपीआई ने 2 प्रत्याशी चुनाव मैदान में उतारे हैं। इसके अलावा लोक जनशक्ति पार्टी (लोजपा) ने भी 42 प्रत्याशी उतारे हैं।

राष्ट्रीय लोक समता पार्टी (रालोसपा) ने एआईएमआईएम और कई अन्य दलों से गठबंधन कर सभी सीटों पर प्रत्याशी उतारे हैं। पप्पू यादव की पार्टी जन अधिकार पार्टी का गठबंधन भी इस चरण में चुनावी मैदान में ताल ठोंक रहा है।

- Advertisement -बिहार चुनाव : अंतिम चरण की बढ़त, सत्ता की राह करेगी आसान! 2

राजनीति के जानकार और वरिष्ठ पत्रकार गिरिन्द्र नाथ झा कहते हैं कि इस चुनाव में

वोटों का बिखराव माना जा रहा है। उन्होंने कहा कि सीमांचल के क्षेत्र में एआईएमआईएम के उतर जाने और कई दलों द्वारा मुस्लिम उम्मीदवारों के उतारे जाने के बाद मुस्लिम मतदाताओं में भी बिखराव तय है।

झा के अनुसार, मधेपुरा के पूर्व सांसद पप्पू यादव और ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) कुछ क्षेत्रों में दोनों गठबंधनों को प्रभावित करते नजर आ रहे हैं, लेकिन ऐसा नहीं कि कोई भी पार्टी किसी खास जाति के मतदाता पर अपना दावा कर सके।

झा का मानना है कि मुख्य मुकाबला दोनों गठबंधनों में ही है परंतु मधेपुरा समेत यादव बहुल क्षेत्रों में जन अधिकार पार्टी तो कुछ इलाकों में लोजपा और रालोसपा मुकाबले को त्रिकोणात्मक या बहुकोणीय बना रहा है।

पिछले विधानसभा चुनाव में इस क्षेत्र से सबसे अधिक 24 सीटें जदयू के खाते में गई थीं। पिछले चुनाव में जदयू, राजद के साथ थी। इस बार जदयू, भाजपा के साथ है। पिछले चुनाव में भाजपा 19 और राजद को 20 सीट तथा कांग्रेस के 10 प्रत्याशी विजयी पताका फहराया था। इसके अलावा सीपीआईएमएल को एक और चार अन्य के हिस्से आई थीं।

राजनीति के जानकार रामेश्वर प्रसाद की राय अलग है। उन्होंने दावा किया है कि जिन 78 सीटों पर मतदान होना है वहां मतदाताओं के ध्रुवीकरण का भी प्रयास किया गया है। उन्होंने कहा कि भाजपा और जदयू के साथ रहने के बावजूद भी जदयू को मुस्लिम मतदाताओं का वोट मिलता रहा है।

प्रसाद कहते हैं, इस चरण में मिथिलांचल का इलाका है तो कोसी और सीमांचल का भी इलाका है। मिथिलांचल में भाजपा मजबूत रही है, तो सीमांचल में मुस्लिम मतदाता चुनाव परिणाम तय करते हैं। एआईएमआईएम के मैदान में आने के बाद तथा मुस्लिम लीग और कई राजनीतिक दलों द्वारा मुस्लिम प्रत्याशी उतारे जाने से महागठबंधन को नुकसान हो सकता है, जबकि जदयू प्रत्याशी के सामने लोजपा के प्रत्याशी उतारे जाने से राजग को नुकसान उठाना पड़ सकता है।

उल्लेखनीय है कि इस चरण के मतदान के लिए कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के अलावा कई केन्द्रीय मंत्री मतदाताओं को आकर्षित करने के लिए चुनावी सभा कर चुके हैं जबकि राजद के लिए तेजस्वी यादव ने कड़ी मेहनत की है। एआईएमआईएम के प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी भी कई सभा कर चुके हैं।

–आईएएनएस

एमएनपी/एएनएम

National Dunia से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर लाइक और Twitter, YouTube पर फॉलो करें.

- Advertisement -
बिहार चुनाव : अंतिम चरण की बढ़त, सत्ता की राह करेगी आसान! 3
Ram Gopal Jathttps://nationaldunia.com
नेशनल दुनिआ संपादक .

Latest news

अशोक गहलोत बतायें कि सरकार बचाने के लिए विधायकों को क्या-क्या प्रलोभन दिये: डाॅ. पूनियां

-हर मोर्चे पर विफल साबित हुई गहलोत सरकार अपने बोझ और कर्मों से ही गिरेगी। मुख्यमंत्री गहलोत द्वारा कोरोना प्रबन्धन, अपराधों पर...
- Advertisement -

अशोक गहलोत बतायें कि सरकार बचाने के लिए विधायकों को क्या-क्या प्रलोभन दिये: डाॅ. पूनियां

-हर मोर्चे पर विफल साबित हुई गहलोत सरकार अपने बोझ और कर्मों से ही गिरेगी। मुख्यमंत्री गहलोत द्वारा कोरोना प्रबन्धन, अपराधों पर...

राजस्थान के मंत्रियों के सामने “नो मास्क- नो एंट्री” मात्र एक स्लोगन

-भाजपा मुख्य प्रवक्ता रामलाल शर्मा ने सरकार से कोविड-19 में लापरवाही से हो रही मौतों पर अंकुश लगाने की मांग

Video: 10-10 करोड़ में बिके BTP के विधायक, गहलोत के खास विधायक ने लगाये आरोप

Jaipur. जुलाई और अगस्त के महीने में जब मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और तत्कालीन उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट के बीच राजनीतिक युद्ध शुरू...

Related news

Video: 10-10 करोड़ में बिके BTP के विधायक, गहलोत के खास विधायक ने लगाये आरोप

Jaipur. जुलाई और अगस्त के महीने में जब मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और तत्कालीन उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट के बीच राजनीतिक युद्ध शुरू...

विश्लेषण: किसानों पर water cannon से बौछार कितनी सही, कितनी खतरनाक?

रामगोपाल जाट केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार (pm narendra modi govt) द्वारा दो माह पहले संसद में पारित किए...

आशादीप बिल्डर की ठगी के शिकार किंग्सकोर्ट निवासी लामबंद हुए

- RERA में ढेरों शिकायतें दर्ज, कुछ कंजूमर कोर्ट की शरण में - बिल्डर को बचाने में जुटे कई रिटायर्ड ब्यूरोक्रेट्स, एक ब्यूरोक्रेट ने...

Love jihaad के खिलाफ अध्यादेश और अयोध्या का हवाईअड्डा भगवान राम के नाम पर

लखनऊ। योगी आदित्यनाथ सरकार (Yogi adityanath) ने लव जिहाद (Love jihaad) के खिलाफ सख्ती करने का कानून बनाने का निर्णय लिया है। योगी कैबिनेट...
- Advertisement -