30 C
Jaipur
शुक्रवार, अक्टूबर 30, 2020

दोबारा इंफेक्शन वाले मामलों का गलत वर्गीकरण हुआ : हर्षवर्धन

- Advertisement -
- Advertisement -

नई दिल्ली, 11 अक्टूबर (आईएएनएस)। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने रविवार को कहा कि कोविड-19 के री-इंफेक्शन मामलों का गलत तरीके से वर्गीकरण किया गया है और भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) ऐसी घटनाओं की सच्चाई जानने के लिए अध्ययन कर रही है।
अपने साप्ताहिक वेबिनार संडे संवाद में सोशल मीडिया श्रोताओं से मुखातिब हुए मंत्री ने कहा, वास्तविक मामलों और गलत मामलों के बीच अंतर करना बेहद जरूरी है।

मंत्री ने आगे कहा, भले ही विभिन्न राज्यों में री-इंफेक्शन के छिटपुट मामले की रिपोर्टे आई हैं लेकिन आईसीएमआर डेटाबेस के सावधानीपूर्वक विश्लेषण से पता चलता है कि इनमें से कई मामलों को वास्तव में री-इन्फेक्शन के रूप में गलत तरीके से वर्गीकृत किया गया है।

- Advertisement -satish poonia

उन्होंने कहा कि सार्स-कोव-2 का डायग्नोसिस मुख्य तौर पर आरटी-पीसीआर से किया जाता है, जो मृत वायरस को भी डिटेक्ट कर लेता है। यह मृत वायरस कई बार शरीर के अंगों में हफ्तों और महीनों तक रह सकता है, जबकि वह रोगी गैर-संक्रामक होता है।

वर्धन ने यह भी तर्क दिया कि मृत वायरस का पता लगा लेने की भी आरटी-पीसीआर परीक्षण इस विशेषता के कारण पॉजिटिव रिपोर्ट आने के कुछ समय तक बाद-बाद रुककर टेस्ट किए जाते हैं। इसमें कई बार रिपोर्ट पॉजिटिव के बाद निगेटिव आती है और फिर से पॉजिटिव आ जाती है।

वर्धन ने कहा, जबकि वास्तविक पुनर्निरीक्षण का मतलब है कि एक पूरी तरह से ठीक हो चुके व्यक्ति के शरीर में फिर से वायरस का आना।

इसके अलावा, उन्होंने यह भी बताया कि आईसीएमआर पुन: संक्रमित हुए मामलों की सही संख्या समझने के लिए एक अध्ययन शुरू कर रहा है। इसके परिणाम कुछ हफ्तों में साझा किए जाएंगे।

बता दें कि आईएएनएस ने पहले ही बताया था कि सार्स-कोव -2 संक्रमित व्यक्ति के ठीक होने के बाद भी उसके शरीर में तीन महीने बाद तक भी वायरस रह सकता है। हालांकि, इंफेक्शन का स्तर काफी कम हो जाता है और व्यक्ति गैर-संक्रामक हो जाता है।

कोलंबिया एशिया अस्पताल में संक्रामक रोग विशेषज्ञ डॉ. महेश लंगा ने कहा, अगर मरीज ठीक हो गया है, तब भी शरीर में अवशिष्ट विषाणु रहते हैं और पीसीआर टेस्ट को वे पॉजिटिव दिखा सकते हैं। लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि मरीज के शरीर में फिर से संक्रमण हुआ है।

–आईएएनएस

एसडीजे/एसजीके

National Dunia से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर लाइक और Twitter, YouTube पर फॉलो करें.

- Advertisement -
दोबारा इंफेक्शन वाले मामलों का गलत वर्गीकरण हुआ : हर्षवर्धन 2
Ram Gopal Jathttps://nationaldunia.com
नेशनल दुनिआ संपादक .

Latest news

अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव में टेक्सस के एशियाई-अमेरिकी की अहम भूमिका

न्यूयॉर्क, 30 अक्टूबर (आईएएनएस)। रिपब्लिकन गढ़ टेक्सस इस बार अमेरिकी चुनाव में काफी अहम भूमिका में है जो अमेरिका के चुनावी नक्शे पर किंग...
- Advertisement -

तेलंगाना में कोविड-19 के मामलों की कुल संख्या 2.37 लाख

हैदराबाद, 30 अक्टूबर (आईएएनएस)। तेलंगाना में कोरोनावायरस महामारी के मामलों में अचानक उछाल देखने को मिल रही है। यहां दर्ज 1,531 नए मामलों के...

ब्रिटेन में दर्ज कोविड-19 के 23,056 नए मामले, 280 मौतें

लंदन, 30 अक्टूबर (आईएएनएस)। ब्रिटेन में बीते 24 घंटे में कोरोनावायरस के 23,056 नए मामले दर्ज किए गए हैं और इस दौरान 280 मौतें...

कोविड-19 वैक्सीन के ग्लोबल लॉन्च की तैयारी में मॉडर्ना

वाशिंगटन, 30 अक्टूबर (आईएएनएस) अमेरिकी बायोटेक्नोलॉजी कंपनी मॉडर्ना ने घोषणा की कि वह अपने कोविड-19 वैक्सीन के वैश्विक लॉन्च की तैयारी कर रही है।समाचार...

Related news

समदड़ी प्रधान Pinky choudhary रहना चाहती हैं अपने पुराने पति के साथ, पर यह है बड़ा संकट

बाड़मेर। जिले के समदड़ी पंचायत समिति के निवर्तमान प्रधान पिंकी चौधरी अपने कथित प्रेमी और वर्तमान पति अशोक चौधरी से 2 महीने...

समदड़ी प्रधान पिंकी चौधरी को प्रेमी ने बनाया बंधक, फ़ोटो, वीडियो किये वायरल

बाड़मेर। जिले के समदड़ी पंचायत समिति से निवर्तमान प्रधान पिंकी चौधरी ने अशोक चौधरी नामक एक व्यक्ति, जिसको कथित तौर पर पिंकी...

Pinky Choudhary पहले प्रेमी के साथ भागी, अब अपने पति के साथ जाना चाहती है

बाड़मेर। जिले की समदड़ी पंचायत समिति (Samdadi) प्रधान पिंकी चौधरी (Pinky Choudhary) अपने प्रेमी के साथ भाग गई। उसके साथ शादी कर...

पिंकी चौधरी 2 महीने पहले धोखा देकर प्रेमी के साथ भागी, अब फिर चाहती है पति का प्यार

बाड़मेर। पंचायत समिति समदड़ी की निवर्तमान प्रधान पिंकी चौधरी 2 महीने पहले पति को धोखा देकर प्रेमी अशोक चौधरी के साथ भाग...
- Advertisement -