Prospectus and challenges in teachers education
Prospectus and challenges in teachers education

Jaipur news.

देश के निजी विश्वविद्यालयों, कॉलेजों में शिक्षकों के सामने आ रही समस्याओं और भविष्य की संभावनाओं के लिए जयपुर में 2 दिवसीय राष्ट्रीय सेमिनार का आयोजन किया जा रहा है।

मानसरोवर के टैगोर इंटरनेशनल स्कूल ऑडिटोरियम में 8 व 9 मार्च को होने वाले इस आयोजन को लेकर आल इंडिया असोसिएशन ऑफ प्राइवेट कॉलेजेज के पदाधिकारियों ने पिंक सिटी प्रेस क्लब में मीडिया से बात की।

आल इंडिया असोसिएशन ऑफ प्राइवेट कॉलेजेज के राष्ट्रीय अध्यक्ष अशोक व्यास ने पत्रकारों से बात करते हुए बताया कि ऑल शैक्षिक सम्मेलन का आयोजन ऑल इंडिया एसोसिएशन ऑफ प्राइवेट कॉलेजेस के द्वारा राष्ट्रीय अध्यापक शिक्षा परिषद के सम्मिलित प्रयासों से किया जा रहा है।

असोसिएशन के अध्यक्ष अशोक व्यास ने बताया कि इस सम्मेलन में अध्यापक शिक्षा से संबंधित विषय विशेषज्ञों को आमंत्रित किया गया है। देश के सभी क्षेत्रीय समितियों में इस प्रकार के सम्मेलनों का आयोजन किया जाना प्रस्तावित है, इस दिशा में यह सम्मेलन पहला प्रयास है।

उल्लेखनीय है कि संपूर्ण भारत में शिक्षा के शिक्षकों में से लगभग 92% अध्यापक शिक्षा क्षेत्रों में प्रशिक्षण कर रहे हैं।

देश में स्थित कुल 903 विश्वविद्यालय में केंद्रीय विश्वविद्यालय, राज्य विश्वविद्यालय, समकक्ष विश्वविद्यालय और निजी क्षेत्र के विश्वविद्यालय सम्मिलित हैं में से 226 विद्यालय अध्यापक शिक्षा के विभिन्न पाठ्यक्रमों संबंधित प्रदान कर रहे हैं। इस सम्मेलन में समिति के क्षेत्र से प्रतिष्ठित शिक्षा विशेषज्ञों को आमंत्रित किया गया है।

सम्मेलन के उद्देश्य निम्नलिखित-

  1. देश में अवस्थित अध्यापक शिक्षा की नियामक संस्था राष्ट्रीय अध्यापक शिक्षा परिषद, मानव संसाधन विकास एवं मंत्रालय राज्य सरकारों की शिक्षा विभाग और अध्यापक शिक्षा संस्थानों को संबल प्रदान करने वाले विश्वविद्यालयों से ऑल इंडिया एसोसिएशन और प्राइवेट कॉलेजेस द्वारा संबद्धता प्रदान करने वाले विश्वविद्यालयों से ऑल इंडिया एसोसिएशन प्राइवेट कॉलेजेस द्वारा सकारात्मक प्रभाव तथा परिणाम पर समन्वय स्थापित करना है।

  2. अध्यापक शिक्षा में गुणवत्ता पर सुधार लाने के लिए सीखने की प्रक्रिया शिक्षण प्रक्रिया तथा शिक्षा संस्थानों के प्रबंधन में आधुनिकतम ज्ञान और कौशल का समन्वय उपयोग करने के लिए प्रविष्टियां प्रविधियां विकसित करना, अध्यापक शिक्षा की राष्ट्रीय परिषद की क्षमता निर्माण हेतु समय विचारोप्रांत यथोचित निर्णय लेकर मानव संसाधन विकास मंत्रालय को शांति प्रदान करना, वर्तमान में निजी क्षेत्र के अध्यापक शिक्षा संस्थानों को अपने उत्तरदायित्व का निर्वहन करने में आ रही समस्याओं का समाधान करने के लिए सम्यक विचार करने की आवश्यकता है।

  3. समिति के सदस्य डॉ. श्याम सुंदर शेखावाटी ने बताया कि वर्तमान में निजी क्षेत्र के अध्यापक शिक्षा संस्थाओं को अपने उत्तरदायित्व का निर्वहन करने में आ रही समस्याओं का समाधान करने के लिए सम्यक विचार करने की आवश्यकता है।

  4. इस उद्देश्य के लिए गहन विचार विमर्श के उपरांत संस्तुतियों संबंधित शीर्ष संस्थानों को प्रेषित करना है। प्रेस वार्ता को ऑल इंडिया एसोसिएशन ऑफ प्राइवेट कॉलेजेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष अशोक व्यास, वरिष्ठ उपाध्याय एसपीएस संधू, प्रकाश मिश्रा, सुधीर कुमार राय और प्रोफेसर जेके जोशी ने संबोधित किया।

अधिक खबरों के लिए हमारी वेबसाइट www.nationaldunia.com पर विजिट करें। Facebook,Twitter पे फॉलो करें।