भाजपा के दिग्गज करेंगे कांग्रेस के पैराशूटर से मुकाबला

24
- नेशनल दुनिया पर विज्ञापन देने के लिए संपर्क करें 9828999333-
dr. rajvendra chaudhary jaipur-hospital

-पार्टी के कार्यकर्ताओं ने छोड़ा कांग्रेस प्रत्याशी का साथ

जयपुर।

राहुल गांधी के द्वारा पैराशूटर्स की डोरी काटे जाने के दावे को झूठलाते हुए राजस्थान में प्रदेश कांग्रेस पार्टी ने जमकर बाहरी उम्मीदवारों को टिकट दिया है।

जानकारी के मुताबिक राजस्थान में एक दर्जन सीटों पर कांग्रेस पार्टी ने पैराशूट उम्मीदवार उतारे हैं। जिनमें से एक उम्मीदवार विद्याधर नगर सीट पर सीताराम अग्रवाल भी बताए जाते हैं।

इसके चलते विद्याधर नगर में कांग्रेस के पुराने कार्यकर्ता पार्टी को छोड़कर बागी उम्मीदवार विक्रम सिंह शेखावत का साथ देते नजर आ रहे हैं।

इसके चलते पार्टी के लिए इस बार भी यह सीट हाथ से फिसलती हुई दिख रही है।

इधर, लगातार तीन बार विजय होने के बाद पहली बार भारतीय जनता पार्टी के विद्याधर नगर विधायक नरपत सिंह राजवी को थोड़ा कड़ा मुकाबला करना पड़ रहा है। लेकिन उनको लोग काफी सपोर्ट कर रहे हैं।

हालांकि, सीताराम अग्रवाल को टिकट मिलने के कारण उनको राहत मिली है, लेकिन लगातार जीतने के कारण उनके खिलाफ भी माहौल बनता दिख रहा है।

कांग्रेस कार्यकर्ताओं में चर्चा यह भी है कि पार्टी के उम्मीदवार सीताराम अग्रवाल पैसे के दम पर टिकट लेकर आए हैं, जबकि इसी तरह के आरोप बागी हुए उम्मीदवार विक्रम सिंह शेखावत ने भी लगाए हैं।

दरअसल, विक्रम सिंह शेखावत 2008 और 2013 में कांग्रेस पार्टी के टिकट पर विद्याधर नगर सीट से चुनाव लड़ चुके हैं।

हालांकि दोनों ही बार उनको नरपत सिंह राजवी के सामने हार का मुंह देखना पड़ा। लेकिन अपने दमदार कार्यकर्ताओं के साथ तीसरी बार भी वे मैदान में डटे हुए हैं।

अपनी नरम छवि और कार्यकर्ताओं के साथ सरल व्यवहार के चलते नरपत सिंह राजवी जहां बीजेपी के परंपरागत वोट लेने में सफल होते दिख रहे हैं।

दूसरी तरफ बीजेपी के पक्ष में रहने वाले वैश्य वर्ग के वोट में सेंधमारी के माध्यम से सीताराम अग्रवाल को बुरी तरह से डैमेज करते नजर आ रहे हैं।

हालांकि, विद्याधर नगर सीट पर वैश्य वोट सबसे अधिक हैं, लेकिन उनके लिए मुसीबत का कारण पवन गोयल भी बन सकते हैं।

पवन गोयल बीते 20 बरस से इस इलाके में कार्यरत हैं। उन्होंने हालांकि किसी भी पार्टी से टिकट के लिए दावेदारी नहीं की थी, लेकिन उनके द्वारा जनता के साथ खड़े रहने और कंधे से कंधा मिलाकर समस्याओं से जूझने के चलते वोटर्स का रुख उनके तरफ भी काफी सकारात्मक नजर आ रहा है।

उनपर अभी तक किसी एक वर्ग का ठप्पा भी नहीं लगा है। इसका फायदा उनको चुनाव में मिलना निश्चित है।

कांग्रेस पार्टी के उम्मीदवार सीताराम अग्रवाल के द्वारा अपनी पार्टी से पैसे के दम पर टिकट ले जाने के आरोपों के अलावा पिछले दिनों टिकट की दावेदारी के वक्त मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के पास भी टिकट के लिए लॉबिंग करने की बातें विद्याधर नगर में कार्यकर्ताओं के बीच आम हो गई है।

उल्लेखनीय है कि पार्षद के चुनाव में अपने दामाद, जो कि भाजपा के टिकट पर पार्षद का चुनाव लड़ रहे थे। उनके लिए वोट मांगने वाले सीताराम अग्रवाल को यहां पर लोग ऐसी ही दृष्टि से देखते हैं।

कांग्रेसी के कई कार्यकर्ता, जो कि विक्रम सिंह शेखावत के साथ काम कर रहे हैं, वही लोग यहां तक आरोप लगा रहे हैं कि अग्रवाल ने पैसे के दम पर टिकट खरीदा है।

विद्याधर नगर में वैसे तो चतुर्षकोणीय मुकाबला होता नजर आ रहा है, लेकिन सहज भाव से ही लगातार कार्यकर्ताओं के बीच रहने और कांग्रेस के उम्मीदवार सीताराम अग्रवाल पर तरह-तरह के आरोप लगने के बाद नरपत सिंह राजवी एक बार फिर सीधा विक्रम सिंह शेखावत के साथ चुनावी मुकाबला करते दिखते हैं।

सीताराम अग्रवाल को स्थानीय वॉटर्स, यहां का नहीं मानते हुए बाहरी मानते हैं, जबकि वह भी बीते लंबे समय से विद्याधर नगर के ही निवासी हैं।

लेकिन उनकी ‘अमीर आदमी’ वाली छवि और उद्योगपति होने, आम आदमी से नहीं मिल पाने की सरलता के कारण लोगों का नजरिया उनकी तरफ सकारात्मक नहीं है।

बहरहाल, विद्याधर नगर में एक बार फिर रोचक मुकाबला देखने को मिल रहा है।

खबरों के लिए फेसबुक, ट्वीटर और यू ट्यूब पर हमें फॉलो करें। सरकारी दबाव से मुक्त रखने के लिए आप हमें paytm N. 9828999333 पर अर्थिक मदद भी कर सकते हैं।