nationaldunia

नई दिल्ली। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक मोहन भागवत ने बीजेपी और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के विरोधियों को कड़ा जवाब दिया है। राजधानी दिल्ली में मौजूद मोहन भागवत ने साफ कहा है कि नागपुर से देश की सरकार नहीं चलती।

उन्होंने कहा कि आरएसएस तभी सलाह देता है जब उनसे मांगी जाती है। भागवत ने ये बयान ‘भविष्य का भारत: राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ का दृष्टिकोण’ विषय पर तीन दिवसीय चर्चा सत्र के दूसरे दिन दिया है।

मोहन भागवत ने कहा है, ‘ये जो कयास लगता है कि नागपुर से फोन जाता है। सलाह दी जाती है कि क्या करना है? तो सब गलत है, अगर उनको सलाह चाहिए। तभी सलाह दी जाती है।’ उन्होंने आगे कहा, ‘उनकी राजनीति पर हमारा कोई प्रभाव नहीं है और उनकी सरकार पर भी हमारा कोई प्रभाव नहीं है, वो स्वयंसेवक हैं।

उनका अपना विचार है। ऐसे स्वतंत्रता औऱ स्वायत्तता से सरकार चलती है। संघ का मानना है कि संविधान की परिकल्पना के अनुसार सत्ता का केन्द्र बने रहना चाहिए और यदि ऐसा नहीं होता है तो हमारा मानना है कि यह गलत है।’

-विज्ञापन -

मोहन भागवत ने कहा, ‘हम राष्ट्रीय मुद्दों पर अपना विचार ज़रूर रखते हैं। जो शासन में हैं, वो चाहते हैं तो हमसे हमारा विचार पूछते हैं। अगर हम सक्षम हैं तो अपनी राय देते भी हैं, लेकिन हम अपनी तरफ से कुछ थोपते नहीं हैं।’ उन्होंने कहा: ’संघ ने जन्म से ही तय किया था कि राजनीति से उसका कोई लेना देना नहीं रहेगा।’

अधिक खबरों के लिए हमारी वेबसाइट www.nationaldunia.com पर विजिट करें। Facebook,Twitter पे फॉलो करें।