satish punia
satish punia

—11 साल बाद भाजपा मुख्यालय में होगा ऐसा भव्य आयोजन
जयपुर।
भारतीय जनता पार्टी के नवनियुक्त प्रदेशाध्यक्ष डॉ. सतीश पूनिया की ताजपोशी मंगलवार, यानी विजयदशमी के अवसर पर की जा रही है। 11 साल बाद हो रहे इस तरह के भव्य आयोजन के मौके पर पार्टी कार्यालय में कई रिकॉर्ड धवस्त होने की तैयारी हो गई है।

पार्टी कार्यालय में डॉ. पूनिया के पदभार ग्रहण करने का आयोजन भाजपा के लिये दूसरा अवसर लेकर आया है, जब इस तरह का भव्य आयोजन होगा। इससे पहले साल 2008 में जब ओम माथुर को अध्यक्ष बनाया गया था, तब एयरपोर्ट से लेकर पार्टी कार्यालय तब भाजपा कार्यकर्ताओं को हुजूम उमड़ पड़ा था।

इसके साथ ही ओम माथुर के पदभार ग्रहण करने के लिये पार्टी कार्यालय में जोरदार आयोजन किया गया था। तब भाजपा मुख्यालय पर हुये आयोजन में पार्टी के अधिकांश विधायकों, सांसदों और पदाधिकारियों के अलावा जिलों के सभी पदाधिकारियों को बुलाया गया था।

किंतु इस बार इसको और अधिक भव्य किये जाने की तैयार हो चुकी है। गौरतलब है कि डॉ. पूनिया एबीवीपी से आरएसएस होते हुये भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष की कुर्सी तक पहुंचे हैं, तो लाजमी है कि उनकी पहुंच भी प्रत्येक जिला, ब्लॉक और गई गांवों में अंदर तक भी है, जहां पर भाजपा अपने पैर पसार चुकी है।

जिस तरह की बातें सामने आ रही हैं, उसपर यकीन किया जाये तो अपने लंबे अनुभव और प्रवासों के चलते डॉ. पूनिया का राज्य के प्रत्येक जिले की हरएक तहसील और वहां पर बने ब्लॉक्स के पदाधिकारयों से लेकर छोटे—छोटे कार्याकर्ताओं तक सीधा संपर्क है।

ऐसे में डॉ. पूनिया के प्रति कार्यकर्ताओं का लगाव स्वत: ही उनको भाजपा मुख्यालय तक खींच लायेगा। जबकि पार्टी ने भी अपने अध्यक्ष के कार्यभार ग्रहण के आयोजन को अधिक भव्य बनाने के लिये कमर कस ली है।

जानकारी के अनुसार इस कार्यक्रम में पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे से लेकर भाजपा का प्रत्येक सांसद, सभी विधायक, पूर्व मंत्री, पूर्व सांसद, पूर्व विधायक, वर्तमान और पूर्व पार्टी पदाधिकारियों समेत बड़े पैमाने पर छोटे—बड़े कार्यकर्ता शामिल होने जा रहे हैं।

भाजपा पदाधिकारियों के अनुसार विजयदशमी के अवसर पर होने वाले पदभार ग्रहण के अवसर पर पार्टी मुख्यालय पर कम से कम 10 हजार लोग एकत्रित होंगे, जिससे न केवल पार्टी की ताकत का अंदाजा लगेगा, बल्कि डॉ. पूनिया संगठनात्मक कौशल का भी परिचय होगा।

उल्लेखनीय है कि 84 दिन तक रिक्त रहे अध्यक्ष पद पर जब 14 सितंबर को डॉ. सतीश पूनिया के अध्यक्ष नियुक्त किया गया था, तब से लेकर अब तक वो ठहरे नहीं हैं, बल्कि जिस तरह से पहले प्रदेश के दौरों पर रहते थे, ठीक वैसे ही संगठन को मजबूती प्रदान करने के लिये लगातार दौरे कर रहे हैं। इस दौरान डॉ. पूनिया करीब चौथाई राजस्थान को टच कर चुके हैं।