Krishna poonia rajyavardhan singh rathore lok sabha elections 2019 jaipur rural
Krishna poonia rajyavardhan singh rathore lok sabha elections 2019 jaipur rural

-जयपुर शहर, जयपुर ग्रामीण, भीलवाड़ा, झालावाड़ और अजमेर के टिकटों पर फिर से मंथन।

जयपुर। लोकसभा चुनाव 2019 को लेकर भले ही कांग्रेस पार्टी राजस्थान में अपने सभी 25 उम्मीदवार तय कर चुकी हो, लेकिन इनमें से पांच प्रत्याशियों के घोषित टिकट पर संकट के बादल मंड़रा रहे हैं।

कांग्रेस सूत्रों के अनुसार आज सीएम अशोक गहलोत, प्रभारी अविनाश पांड़े और पीसीसी चीफ सचिन पायलट पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी के साथ दिल्ली में इन 5 टिकटों पर फिर से मंथन में जुट गए हैं।

बताया जा रहा है कि जयपुर शहर से ज्योति खंड़ेलवाल, जयपुर ग्रामीण से कृष्णा पूनिया, भीलवाड़ा से रामपाल शर्मा, झालावाड़ से प्रमोद शर्मा और अजमेर से रिजु झुंझुनवाला के मिले चुके टिकट को लेकर पुनर्विचार किया जा रहा है। इनको लेकर पार्टी में ही बगावती सुर फूट पड़े हैं।

आज दिल्ली में चल रही कांग्रेस की हाई लेवल मीटिंग में इन सीटों पर फिर से विचार कर टिकट बदले जा सकते हैं। सूत्रों की मानें तो झालावाड़ा का टिकट अशोक गहलोत और वसुंधरा राजे बीच सियासी सांठगांठ के चलते कमजोर उम्मीदवार को मिला है, जिससे कांग्रेस के कार्यकर्ता नाराज हैं।

जबकि अजमेर लोकसभा के टिकट को खुद कांग्रेसी पैसे में बिका हुआ बता रहे हैं। यहां पर टैक्सटाइल कारोबारी और राज्य की पूर्व मंत्री बीना काक के जवार्इं रिजु झुंझुनवाला को पार्टी ने उम्मीदवारा बनाया है। उनके टिकट पर भी कांग्रेसी कार्यकर्ता चिढ़ गए हैं।

भीलवाड़ा में रामपाल शर्मा को प्रत्याशी बनाया गया है, लेकिन उनका जनाधार नहीं होने के कारण सीपी जोशी विरोधी गुट ने राहुल गांधी से शिकायत की है।

बताया यह भी जा रहा है कि सीपी जोशी खुद आलाकमान से भिड़कर यह टिकट दिलाने में कामयाब हुए थे। यहां पर पार्टी सीपी जोशी को उतार सकती है।

इसी तरह से जयपुर शहर की सीट पर कांग्रेस की उम्मीदवार पूर्व मेयर ज्योति खंड़ेलवाल के टिकट पर बीते दिनों एक टीवी चैनल द्वारा किए गए स्टिंग आॅपरेशन के कारण संकट खड़ा हो गया है।

यहां पर पार्टी जातीय समीकरणों को फिर से जांचने में जुटी है। सूत्रों के अनुसार महेश जोशी और अमीन कागजी के रुप में विरोधी गुट पर सक्रिय हैं।

जयपुर ग्रामीण की टिकट विधायक कृष्णा पूनिया को दी गई है, जो जातीय समीकरणों की उम्मीदवार बताई जा रही हैं। लेकिन कांग्रेस के सूत्र बताते हैं कि कृष्णा पूनिया खुद ही यहां पर चुनाव लड़ने की इच्छुक नहीं हैं। इसकी जानकारी आलाकमान को दे दी गई है।

अब देखना दिलचस्प होगा कि क्या पार्टी यह पांच टिकट बदलकर अपने कार्यकर्ताओं को खुश करने में कामयाब होती है, या पहले लिए गए अपने फैसले पर कायम रहती है। बहरहाल, अभी तक भी भाजपा के पांच उम्मीदवार घोषित नहीं किए गए हैं।

अधिक खबरों के लिए हमारी वेबसाइट www.nationaldunia.com पर विजिट करें। Facebook,Twitter पे फॉलो करें।