जयपुर।
राजस्थान विधानसभा का बजट सत्र आज शुरू हो गया है। किंतु उसके साथ ही राज्य की पत्रकारिता के मुख पर ताला लगाने वाले फरमान के खिलाफ पत्रकार ही अध्यक्ष सीपी जोशी के कक्ष के बाहर धरने पर बैठ गये।

आज सुबह 11 बजे विधानसभा का बजट सत्र शुरू हुआ। बजट सत्र के पहले दिन सरकार ने दो विधेयक सदन के पटल पर रखे, उसके बाद पत्रकार सीधे विधानसभाध्यक्ष कक्ष के बाहर गए और वहीं पर धरने पर बैठ गये।

बता दें​ कि विधानसभा के द्वारा इस बार पत्रकारों के लिए सदन की कार्यवाही कवरेज करने के लिए जारी किये गए मीडिया पास में बैरिकेट्स लगा दिए हैं।

जारी किये गए मीडिया पास में अलग से मोहर लगाई गई है, जिसमें पत्रकारों को पत्रकार दीर्घा और पत्रकार कक्ष के अलावा सदन में कहीं भी आने—जाने की अनुमति से रोका गया है।

बताया जा रहा है कि ऐसा पत्रकारों की विधानसभा कमेटी की अनुशंषा पर किया गया है, किंतु सामने आया है कि इस तरह की अनुशंसा पत्रकारों की समिति ने की ही नहीं है।

विधानसभाध्यक्ष के इस तुगलकी फरमान के खिलाफ पत्रकार उतर गए हैं। बताया जा रहा है कि यदि इस फरमान को वापस नहीं लिया गया तो विधानसभा कवेरज का ही बहिष्कार कर दिया जाएगा।

बहरहाल, विधानसभाध्यक्ष सीपी जोशी से पत्रकारों की वार्ता नहीं हुई है। खबर लिखे जाने तक विभिन्न संस्थानों से विधानसभा की कार्यवाही कवरेज करने वाले पत्रकार धरने पर बैठे थे।