फलहारी बाबा को उम्र कैद की सजा, एक लाख का जुर्माना भी  

13
- Advertisement - dr. rajvendra chaudhary

फलहारी बाबा को उम्र कैद की सजा, एक लाख का जुर्माना भी

– राजस्थान में अलवर की फास्ट ट्रेक कोर्ट ने सुनाया फैसला
जयपुर।

दुष्कर्म करने वाले बाबाओं की सूची में एक और को उम्र कैद की सजा हो गई। राजस्थान में अलवर की अपर जिला न्यायाधीश ने फलहारी बाबा नामक एक दुष्कर्मी को मरने तक उम्र कैद की सजा सुनाई है। इसके साथ ही कोर्ट ने एक लाख रुपए का जुर्माना भी लगाया है।

अलवर जिला अपर लोक अभियोजक संख्या एक योगेंद्र सिंह खटाना के मुताबिक 11 जनवरी 2018 को इस प्रकरण सुनवाई के लिए न्यायालय अपर जिला एवं सेशन न्यायाधीश को मिला था।

22 जनवरी 2018 को आरोपी कौशलेंद्र प्रपन्नाचार्य उर्फ फलहारी बाबा पर दुष्कर्म के आरोप तय किए गए थे। इसके 8 माह में सुनवाई पूरी करते हुए बुधवार को जज राजेन्द्र शर्मा ने मामले में फैसला सुनाया है।

इस मामले में अदालत ने 30 अभियोजन साक्षी, 7 बचाव पक्ष के गवाहों के बयान सुने थे। प्रकरण में 78 दस्तावेज व 22 आर्टिकल पब्लिश करवाए गए हैं। एक दिन पहले हुई सुनवाई के दौरान बचाव पक्ष की ओर से एडवोकेट शर्मा ने आरोपी फलहारी बाबा के पक्ष में दलीलें पेश कीं।

इसके बाद पीड़िता के वकील अनिल वशिष्ठ व यूपीओ योगेंद्र सिंह खटाना ने बचाव पक्ष की ओर से दी गई तमाम दलीलों का विरोध करते हुए पीड़िता के पक्ष में अपने तर्क दिए।

आपको बता दें कि छत्तीसगढ़ की एक 21 वर्षीय युवती ने फलहारी बाबा पर उसका यौन शोषण का आरोप लगाया था। इस मामले में उसकी ओर से बिलासपुर महिला थाने में जीरो एफआईआर दर्ज करवाई गई थी। अलवर के अरावली थाने में 20 सितंबर, 2017 में एफआईआर दर्ज की गई थी।

फलहारी बाबा को 23 सितंबर 2017 को गिरफ्तार कर अदालत के समक्ष पेश किया गया। उसके बाद सुनवाई करते हुए अदालत ने फलहारी को न्यायिक अभिरक्षा में भेजे दिया था। गिरफ्तारी के बाद से आरोपी फलाहारी बाबा जेल में था।