दीपावली पर शीर्ष कोर्ट के आदेशों का निकला दिवाला

10
- नेशनल दुनिया पर विज्ञापन देने के लिए संपर्क करें 9828999333-
dr. rajvendra chaudhary jaipur-hospital

नई दिल्ली।

पूरी दिल्ली में दिवाली की हवा खतरनाक हो गई है। चारों तरफ धुएं की धुंध देखी जा सकती है। आज जारी एयर क्वॉलिटी इंडेक्स में दिल्ली की हवा ‘खतरनाक’ हालात में पहुंच गई है।

पटाखों को लेकर सुप्रीम कोर्ट की गाइडलाइन का यहां पर जमकर उल्लंघन जा रहा है। बुधवार को शाम से ही सुप्रीम कोर्ट के आदेश के खिलाफ तय समय से पहले और बाद में भी दिल्ली के साथ ही एनसीआर में लोगों ने जमकर पटाखे फोड़े।

एक्यूआई) के मुताबिक आनंद विहार में प्रदूषण का लेवल 999, अमेरिकी राजदूतावास, जो कि चाणक्यपुरी में है, वहां पर 459 और मेजर ध्यानचंद नेशनल स्टेडियम में 999 एक्यूआर रहा।

इसी तरह से लोधी रोड इलाके में PM2.5 और PM10 का स्तर 500 रहा। एक दिन पहले भी दिल्ली की हवा ‘बेहद खराब’ श्रेणी में दर्ज की गई। राजधानी के कई इलाके में लोगों ने रात 8 से 10 बजे के बीच पटाखा फोड़ने के लिए सुप्रीम कोर्ट द्वारा तय समय-सीमा का उल्लंघन किया गया।

इंडिया गेट के आसपास PM 2.5 का स्तर सामान्य से 30 गुना ज्यादा और PM 10 का स्तर 20 गुना ज्यादा दर्ज किया गया। यह VVIP इलाका है, जहां राष्ट्रपति भवन, संसद और कई VVIP लोगों के आवास हैं।

वजीरपुर में PM2.5 का स्तर 18 गुना और PM 10, 12 गुना ज्यादा दर्ज किया गया। इसी तरह जहांगीरपुरी में PM2.5, 17 गुना और PM 10 12 गुना ज्यादा दर्ज किया गया। इसी प्रकार आरकेपुरम में PM2.5 अभी भी 11 गुना ज्यादा और PM 10, 8 गुना ज्यादा बना हुआ है।

बुधवार रात 10 बजे AQI 296 दर्ज किया गया। केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के अनुसार शाम 7 बजे AQI 281 था। रात 8 बजे यह बढ़कर 291 और रात 9 बजे यह 294 हो गया। हालांकि, केंद्र की ओर से चलाए गए सिस्टम ऑफ एयर क्वालिटी फोरकास्टिंग एंड रिसर्च ने समग्र AQI 319 दर्ज किया जो ‘बेहद खराब’ की श्रेणी में आता है।

सुप्रीम कोर्ट ने पुलिस से इस बात को तय करने को कहा था कि प्रतिबंधित पटाखों की बिक्री नहीं हो। किसी भी उल्लंघन की दशा में संबंधित थाना के SHO को व्यक्तिगत रूप से जिम्मेदार ठहराया जाएगा। यह कोर्ट की अवमानना होगी। कोर्ट के आदेश के बावजूद राष्ट्रीय राजधानी के कई इलाकों से उल्लंघन किए जाने की खबरें मिली हैं।

प्रदूषण निगरानी केंद्रों के ऑनलाइन बोर्ड ने ‘खराब’ और ‘बेहद खराब’ हवा की क्वॉलिटी का संकेत दिया। रात 8 बजे के करीब PM 2.5 और PM 10 के स्तर में तेजी से वृद्धि हुई। CPCB के आंकड़ों के अनुसार PM 2.5 और PM 10 का 24 घंटे का औसत क्रमश: 164 और 294 माइक्रोग्राम प्रति क्यूबिक मीटर रहा।

गुरुवार को हवा की क्वॉलिटी ‘खराब’ श्रेणी में रहने का अनुमान जताया है। इस साल 2017 के मुकाबले कम हानिकारक पटाखे छोड़े गए। सफर ने कहा था कि प्रदूषण का स्तर गुरुवार को सुबह 11 बजे और रात 3 बजे के बीच चरम पर रहेगा।

खबरों के लिए फेसबुक और ट्वीटरऔर यू ट्यूब पर हमें फॉलो करें। सरकारी दबाव से मुक्त रखने के लिए आप हमें paytm N. 9828999333 पर अर्थिक मदद भी कर सकते हैं।