32 C
Jaipur
शुक्रवार, सितम्बर 18, 2020

खालिदा जिया और उसका बेटा मुझे मारना चाहते थे : हसीना

- Advertisement -
- Advertisement -

ढाका, 21 अगस्त (आईएएनएस)। बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना ने शुक्रवार को कहा कि बीएनपी नेता खालिदा जिया ओर उनके बड़े बेटे तारीक रहमान ढाका में 2004 को हुए ग्रेनेड हमले में उन्हें मारना चाहते थे।

हसीना का ये बयान 21 अगस्त 2004 को हुए हमले की 16वीं बरसीं के अवसर पर लोगों को संबोधित करते हुए आया है। हमला ढाका के बंगबंधु ऐवन्यू में आवामी लीग द्वारा आयोजित आतंकवादी-रोधी रैली में किया गया था।

हमले में 24 लोगों की मौत हो गई थी, जिसमें मोहिला आवामी लीग की तत्कालीन अध्यक्ष और दिवंगत राष्ट्रपति जिल्लुर रहमान की पत्नी इवी भी शामिल थीं। हमले में 500 से ज्यादा लोग घायल हो गए थे।

उन्होंने कहा, खालिदा जिया और उसका बड़ा बेटा तारिक रहमान बंगबंधु ऐवन्यू में ग्रेनेड हमले में मुझे मारना चाहते थे। यह रैली सिलहट में तत्कालीन ब्रिटिश उच्चायोग में बम हमले और देश में अन्य 500 से ज्यादा जगहों पर हुए हमलों के विरोध में आयोजित की जा रही थी।

उन्होंने कहा, मैं उनका मुख्य टारगेट थी।

हसीना ने कहा, बम हमले के पहले, उन्होंने कहा था कि आवामी लीग 100 सालों के लिए सत्ता में आने में सक्षम नहीं होगी।

प्रधानमंत्री ने आरोप लगाते हुए कहा कि हत्याएं करवाना उनकी आदत है, क्योंकि वे देश की आजादी और लिबरेशन वार स्पिरिट में विश्वास नहीं करते हैं।

उन्होंने कहा कि सत्ता उनके लिए भ्रष्टाचार के जरिए पैसे कमाने का औजार है।

2004 के जघन्य हमले को याद करते हुए, हसीना ने कहा कि तत्कालीन बीएनपी-जमात सरकार ने आतंकवादियों को एकत्रित किया और इस तरह के हमले के लिए प्रशिक्षण दिया और साथ ही आतंकवादियों को विदेश भाग जाने की सुविधा मुहैया कराई।

उन्होंने कहा, तत्कालीन बीएनपी-जमात सरकार को लगा कि मैं ग्रेनेड हमले में मर जाऊंगी, लेकिन जब उन्हें पता चला कि मैं बच गई, उन्होंने आतंकवादियों को यहां से भागने की इजाजत दी।

हमले के बाद, पुलिस ने आंसू गैस के गोले छोड़े और आवामी लीग के नेताओं और कार्यकर्ताओं को बचाने के बदले उनपर लाठियां बरसाईं।

हसीना ने कहा कि यहां तक कि बीएनपी-जमात समर्थित डॉक्टरों ने ढाका मेडिकल कॉलेज अस्पताल में घायलों का इलाज नहीं किया और साथ ही किसी पीड़ित को बंगबंधु शेख मुजीबर मेडिकल यूनिवर्सिटी में जाने की इजाजत नहीं दी गई, क्योंकि उसे बंद कर दिया गया था।

हमले में तत्कालीन विपक्षी नेता हसीना बाल-बाल बच गईं थीं, लेकिन इससे उनके सुनने की क्षमता में असर पड़ा था।

शुक्रवार को इसके अलावा 1971, 1975 और 2004 में मारे गए लोगों की याद में एक मिनट का मौन रखा गया।

आवामी लीग के महासचिव उबैदुल कादर ने बैठक में स्वागत भाषण दिया।

–आईएएनएस

आरएचए/एएनएम

National Dunia से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर लाइक और Twitter, YouTube पर फॉलो करें.

- Advertisement -
खालिदा जिया और उसका बेटा मुझे मारना चाहते थे : हसीना 2
Ram Gopal Jathttps://nationaldunia.com
नेशनल दुनिआ संपादक .

Latest news

करार की औपचारिकता के लिए बेल लंदन और थियागो लीवरपूल पहुंचे

लंदन, 18 सितम्बर (आईएएनएस)। गारेथ बेल शुक्रवार को टॉटेनहम हॉट्सपर के साथ लोन पर आधारित करार की औपचारिकता पूरी करने के लिए लंदन पहुंच...
- Advertisement -

बीएफआई कॉन्टेक्ट ट्रेनिंग की शुरूआत के लिए तैयार, साई से कर रही है चर्चा

नई दिल्ली, 18 सितंबर (आईएएनएस)। भारतीय मुक्केबाजी महासंघ (बीएफआई) भारतीय खेल प्राधिकरण (साई) से नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ स्पोर्ट (एनआईएस) में सीमित तरीके से कॉन्टेक्ट...

मप्र में कोरोना मरीज 1 लाख के पार

भोपाल 18 सितंबर (आईएएनएस)। मध्य प्रदेश में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या एक लाख को पार पहुंच गई है। वहीं मरने वाले मरीजों...

अनुराग ठाकुर ने संसद में नेहरू पर की टिप्पणी पर खेद जताया

नई दिल्ली, 18 सितम्बर (आईएएनएस)। केंद्रीय वित्त राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर के विवादास्पद बयान के बाद लोकसभा की कार्यवाही शुक्रवार को चार बार स्थगित...

Related news

पिंकी चौधरी भागने वाली लड़कियों की रोल मॉडल बनी, चार लड़कियों ने ली प्रेरणा और प्रेमियों के साथ भाग गईं

बाड़मेर/टोंक। पिछले महीने बाड़मेर के समदड़ी पंचायत समिति की प्रधान पिंकी चौधरी के घर से भागने और आपने प्रेमी अशोक चौधरी के...

पिंकी प्रधान आशिक की तीसरी पत्नी बनने से पहले एक साल लिव इन रिलेशनशिप में रही!

बाड़मेर। 'पिंकी प्रधान' उर्फ समदड़ी पंचायत समिति प्रधान पिंकी चौधरी अपने आशिक अशोक चौधरी की तीसरी पत्नी बनने से पहले एक साल...

बाड़मेर: लड़की भगा ले गया शिक्षक, मिलते ही घरवालों ने किया ऐसा हाल

बाड़मेर। राजस्थान के सीमावर्ती जिले बाड़मेर में एक स्कूल के अध्यापक पर जानलेवा हमले और नाक व दोनों कान काटने की घटना सामने...

भारतीय सेना ने पूर्वी लद्दाख में लंबे समय के लिए जरूर सामग्री स्टॉक की

नई दिल्ली, 15 सितंबर (आईएएनएस)। पूर्वी लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर भारत और चीन के बीच गतिरोध बना हुआ है। इस तनावपूर्ण...
- Advertisement -