Nationaldunia

कोलकाता।

रविवार का दिन केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो, यानी सीबीआई के लिए एक बुरे सपने की तरह रहा। कोलकाता की कमिश्नर राजीव कुमार को पूछताछ के लिए गई सीबीआई की टीम को ही पश्चिम बंगाल की पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया।

इसके बाद राजीव कुमार के घर खुद पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पहुंची और उच्च अधिकारियों के साथ बैठक की। बैठक खबर लिखे जाने तक जारी है।

ममता बनर्जी के खास और सांसद डेरेक ओ ब्रायन ने कहा है कि भारतीय जनता पार्टी की केंद्र की सरकार जाने वाली है, इसलिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा बुरी तरह से बौखला गई है, जिसके चलते संवैधानिक संस्थाओं का दुरुपयोग कर रही है।

जानकारी में आया है कि कोलकाता के कमिश्नर राजीव कुमार उस टीम को लीड कर रहे थे, जो एसआईटी चिटफंड घोटाले के मामले में गठित की गई थी। उनके ऊपर कई आरोप हैं, जबकि ममता बनर्जी ने राजीव कुमार को दुनिया का सबसे ईमानदार और बहादुर अफसर बताया है।

सीबीआई का कहना है कि कोलकाता के कमिश्नर राजीव कुमार सपोर्ट नहीं कर रहे हैं। राजीव कुमार बार-बार बुलाने के बावजूद हाजिर नहीं हो रहे हैं, इसलिए सीबीआई के द्वारा यह रेड डाली गई थी।

इधर, कमिशन राजेश कुमार के घर मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के पहुंचने के बाद यह ड्रामा बहुत हाई प्रोफाइल हो गया। कोलकाता स्थित सीबीआई के ऑफिस पर भी कोलकाता पुलिस द्वारा कब्जा करने की सूचना है।

आपको बता दें कि पिछले दिनों ही ममता बनर्जी ने ऐलान किया था कि यदि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के द्वारा सीबीआई का दुरुपयोग किया गया और सीबीआई की टीम पश्चिम बंगाल में भेजी गई तो यहां से वापस नहीं जाएगी। उन्होंने धमकी भरे लहजे में कहा था कि मोदी सीबीआई की टीम भेजेंगे, तो उसको हम पश्चिम बंगाल में घुसने नहीं देंगे।

Leave a Reply