KNee replacement surgery

-एक बार फिर मरीज 12 घंटे बाद ही अपनी पुरानी रफ्तार से दौड़ने में कामयाब।

दिनेश कड़वा।
कृष्णा हॉस्पिटल में रविवार को जिले में पहली बार दोनों घुटनों का एक साथ सफल प्रत्यारोपण किया गया।

ऑपरेशन के पश्चात मरीज पूर्णतया स्वस्थ है तथा 12 घंटे बाद ही मरीज ने स्वयं चलना फिरना प्रारम्भ कर दिया।

मरीज मलकू देवी उम्र 60 वर्ष निवासी जसराना कुचामन सिटी पिछले काफी समय से घुटनों की ओस्टीयो आर्थराइटिस से पीड़ित थी, जिसकी वजह से मरीज चलने में पूर्णतया असमर्थ थी।

मरीज ने अस्पताल में चिकित्सक व मशूहर जोड़ प्रत्यारोपण रोग विशेषज्ञ डॉ. रनत रामजस विश्नोई को दिखाया, जिन्होंने दोनों घुटने बदलवाने (जॉइंट रिप्लेसमेंट ) की सलाह दी। ऑपरेशन कुचामन में ही कृष्णा हॉस्पिटल (गावड़ीया हॉस्पिटल ) में करने की निश्चय किया।

चूँकि ऑपरेशन काफी जटिल था तथा दोनों जोड़ एक साथ बदलने थे अतः पूरी सावधानी बरतते हुये अस्पताल के आधुनिक मोडुलर ऑपरेशन थियटर में इस ऑपरेशन को किया गया।

ऑपरेशन में ढाई घंटे का समय लगा अस्पताल के निदेशक डॉ. बी. एल.गावड़ीया ने बताया की नागौर में चिकित्सा क्षेत्र में यह अपनी तरह का पहला ऑपरेशन किया गया है।

यह ऑपरेशन कर कृष्णा हॉस्पिटल ने चिकित्सा इतिहास में अपनी अलग जगह बनायी है। सामान्यतः इस तरह के जोड़ प्रत्यारोपण छोटे अस्पतालों में करना संभव नहीं होता है।

ऑपरेशन का खर्चा अत्यधिक होता है, जो कि जोड़ प्रत्यारोपण ऑपरेशन चिकित्सा जगत में एक चमत्कार की तरह है।

चूँकि जो मरीज बिना ऑपरेशन से पहले एक या दो कदम भी चल नहीं पाता, वह ऑपरेशन के बाद किसी सहायता के बिना मात्र 24 घंटे बाद चलने लगता है।

अधिक खबरों के लिए हमारी वेबसाइट www.nationaldunia.com पर विजिट करें। Facebook,Twitter पे फॉलो करें।