-आने वाले पांच वर्षों में 14 शहरों में 7000 store तैयार करने का

जयपुर।

देश में पारंपरिक off-line किराना दुकानों को online किराना और बड़े प्रारूप वाले आधुनिक retailers platform से जोड़ने की दृष्टि लेकर चल रहे जयपुर स्थित एक किराना retail agrigetor kirana king ने आने वाले पांच साल में देश के 14 प्रमुख शहरों में अपने model को दोहराने के लिए पूरी तैयारी कर ली है।

कंपनी ने pinkcity जयपुर में पहले से ही 85 स्टोर तैयार किए हैं और यह अगले पांच वर्षों में 14 शहरों में 7,000 से अधिक स्टोरों तक पहुंचने के उद्देश्य से अन्य शहरों में विस्तार करने की तैयारी में है।

किराना किंग के founder and cheif educative officer अनूप कुमार खंडेलवाल ने कहा, ‘online platform और बड़े प्रारूप वाले आधुनिक रिटेल छोटे किराना स्टोर्स को टक्कर दे रहे हैं, जिससे प्रतिस्पर्धा बढ़ रही है।

फिर भी hyper local offline किराना स्टोर्स आज भी उतने ही उपयोगी बने रह सकते हैं, जितने कि वे कल थे।

बस, जरूरत इस बात की है कि वे सामूहिक रूप से विशाल होने और नेटवर्किंग की शक्ति को अपनाने के साथ आधुनिक retail managment रणनीति, technology और बुनियादी ढांचे को अपनाने की तरफ कदम बढाएं।

Kirana king ऐसी तमाम सहायता देेने में मदद करते हुए एक dynamic वैकल्पिक प्लेटफार्म देता है जो इन्हें बाजार में पेश चुनौतियों में बढ़त दिलवा सकता है।‘‘

किराना किंग, स्टोर के मालिक की अपनी पहचान और कमाई से जुड़े हितों को बरकरार रखते हुए off-line पारंपरिक किराना स्टोर्स के बदलाव में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

किराना किंग बुनियादी ढांचे, प्रौद्योगिकी और आपूर्ति शृंखला प्रबंधन में निवेश करता है।

खंडेलवाल कहते हैं, ’हम दुकान के मालिकों के बीच अपनी दुकान को लेकर गर्व की भावना पैदा करने के साथ उनका मुनाफा बढ़ाने पर ध्यान देते हैं ताकि उनकी अपने पारिवारिक व्यवसाय में रुचि बनी रहे।’

एक रिपोर्ट के अनुसार, भारत में 1.2 करोड़ से अधिक किराना स्टोर हैं जो अभी भी पारंपरिक व्यवसाय के तौर-तरीकों का पालन करते हैं।

पारंपरिक रिटेल सिस्टम को मानकीकरण, digitalization, केंद्रीकरण और समाजीकरण की धारा में लाकर kirana king एक ऐसा मजबूत off-line बाजार बनाने की कोशिश कर रहा है, जहां बड़े पैमाने और पहुंच के साथ सौदेबाजी की शक्ति हासिल की जा सकती है।

किराना किंग का अपना distribution center है और स्टोर्स को टेक्नोलाॅजी सपोर्टेड सप्लाई chain management system से जोड़ने का काम कर रहा है।

सामूहिक प्रचार और बिक्री से जुड़ी पहल, लोगों की स्टोर्स में आमद को बढ़ावा देने की रणनीति का हिस्सा बनी रहेगी।