Jaipur

राजस्थान के पिछले 52 साल के इतिहास में वर्तमान राज्यपाल कल्याण सिंह अपना कार्यकाल पूरा करने वाले पहले राज्यपाल बन गए हैं।

कल्याण सिंह सोमवार को अपना 5 साल का कार्यकाल पूरा कर रहे हैं। उनसे पहले 1967 में तत्कालीन राज्यपाल संपूर्णानंद ने अपना 5 वर्ष का कार्यकाल पूरा किया था।

इन 52 साल के इतिहास में राजस्थान में कुल 40 राज्यपाल बने। जिनमें से एक भी 5 साल का अपना कार्यकाल पूरा नहीं कर पाया।

कुछ राज्यपाल बीच में ही इस्तीफा दे गए तो कईयों को हटा दिया गया, और तो और बीते 21 साल में चार राज्यपालों का पद पर रहते हुए निधन हो गया।

राजस्थान के पिछले 52 साल के इतिहास की बात की जाए तो 40 राज्यपालों की नियुक्ति में 17 राज्यपाल ऐसे थे, जिनको राजस्थान का अतिरिक्त चार्ज दिया गया था।

23 राज्यपालों को 5 साल के लिए नियुक्त किया गया, जिनमें कल्याण सिंह भी एक हैं। पहली बार 30 मार्च 1949 को राज प्रमुख के रूप में सवाई मानसिंह को नियुक्त किया गया था, उनका कार्यकाल 31 अक्टूबर 1956 तक रहा।

इसके बाद गुरमुख सिंह निहाल को एक नवंबर 1956 से 15 अप्रैल 1962 तक कार्यकाल दिया गया, उन्होंने भी अपना कार्यकाल पूरा किया।

इसके बाद में 1962 से लेकर 1967 तक डॉक्टर संपूर्णानंद राज्यपाल बने आखरी राज्यपाल थे, जिन्होंने अपना 5 साल का कार्यकाल पूरा किया था।

पिछले 21 साल की बात की जाए तो राजस्थान में नियुक्त 4 राज्यपाल होने पद पर रहते हुए ही दम तोड़ दिया।

जिनमें से सरदार दरबरा सिंह, निर्मल चंद जैन, एसके सिंह और प्रभा राव थे। इन्होंने पद पर रहते हुए ही अंतिम सांस ली।

इसके बाद इस तरह का मिथक बन गया है कि राजस्थान में जो भी राज्यपाल नियुक्त होता है, वे राजभवन में कार्यकाल पूरा नहीं करता है, या तो वह खुद या उसके परिवार जन में से किसी एक की मौत होने के कारण उसको पद छोड़ना पड़ जाता है।

पिछले राज्यपाल के रूप में मार्गेट अल्वा के पति का उनके राज्यपाल रहते निधन हो गया था।

राजस्थान में जन्मी और महाराष्ट्र में ब्याई गई प्रतिभा पाटील राज्यपाल रहते हुए ऐसी पहली महिला और पुरुष दोनों में, राज्यपाल थीं जो पद पर रहते हुए राष्ट्रपति बनीं थीं।

सभी राज्यपालों की बात की जाए तो कल्याण सिंह को छोड़कर 22 राज्यपाल अपना कार्यकाल पूरा नहीं कर पाए। बलिराम भगत के रूप में राज्यपाल का कार्यकाल 4 साल 10 महीने रहा।

जबकि अंशुमान सिंह 4 साल 8 महीने तक राज्यपाल रहे। जोगेंद्र सिंह 4 साल और 7 महीने राज्यपाल रहे। इसके साथ ही रघुकुल तिलक 4 साल और 3 महीने तक सर्वाधिक समय तक राज्यपाल रहे।

कुछ महीने पहले ही वर्तमान राज्यपाल कल्याण सिंह को एक्सटेंशन मिला है। वह 5 साल से अधिक राज्यपाल रहने वाले पहले गवर्नर हो गए हैं।