jaishri periwal school
jaishri periwal school

जयपुर।
शहर की मशहूर निजी स्कूल पर परिजनों ने फीस, बुक्स, वर्कशीट, कपड़ों ओर जूतों के नाम पर लूट मचाने का आरोप लगाया है। इसको लेकर आज परिजनों का स्कूल प्रबंधन के खिलाफ गुस्सा फूट पड़ा। परिजनों का आरोप है कि स्कूल फीस के अलावा ही अन्य सामान पर बाजार से दोगुनी दरें वसूली कर रही हैं।

स्कूल के बाहर प्रदर्शन करने वाले परिजनों ने बताया कि चित्रकूट में पेरिवाल ग्रुप आॅफ स्कूल्स द्वारा नए सत्र में स्कूल ने सभी शुल्क नियमों का धत्ता बताकर बढ़ा दिए हैं। आरोप है कि स्कूल फीस एक्ट 2016 को धत्ता बताते हुए फीस के नाम पर लूट मचाने का रास्ता खोल दिया है।

परिजनों ने यह भी आरोप लगाया है कि स्कूल के द्वारा शिक्षण शुल्क के अलावा ट्रांसपोर्टेशन और अन्य विधिक चार्जेज भी बढ़ा दिए हैं। इसके अतिरिक्त स्कूल अप्रत्यक्ष रूप से अनियमित व्यापारिक गतिविधियों में भी लिप्त है, जिसके लिए स्कूल के द्वारा स्कूल वर्ल्ड व स्वाक्ति के नाम से पुस्तकों व स्कूल ड्रेस और जूतों की दुकान चलाई जा रही है।

अभिभावकों को उसी दुकान से सभी स्टेशनरी, बुक्स, और अन्य सामान खरीदने के लिए बाध्य किया जाता है। विक्रय किए हुए सामान की कीमतें मनमाने तरीके से निर्धारित है, जिसके कारण अभिभावकों को भारी आर्थिक बोझ उठाना पड़ रहा है। इस दुकान का जीएसटी रजिस्ट्रेशन रुपेंद्र पेरिवाल एचयूएफ के नाम से हैं, जो कि ग्रुप के पार्टनर भी हैं। इस दुकान के द्वारा विक्रय के जीएसटी पेड बिल भी जारी नहीं किया जा रहा है। इससे चोरी की संभावना बन रही है।

अभिभावकों का आरोप है कि जयश्री पेरिवाल आॅफ स्कूल्स द्वारा राज्य के स्कूल फीस एक्ट 2016 का भी खुला उल्लघंन किया जा रहा है। स्कूल द्वारा नियमानुसार पैरेंटस टीचर्स एसोसिएशन का गठन भी नहीं किया गया है, इसके गठन के लिए मनमानें तरीके से अपने चहेतों को मैंबर बनाकर समिति को पंगु बनाने की मनममानी की जा रही है।

परिजनों का आरोप है कि स्कूल द्वारा खेलेआम धमकी दी जा रही है कि जो भी पैरेंट्स स्कूल फीस नहीं दे सकते हैं, वह टीसी ले सकते हैं। इसी ग्रुप के जयपुर शहर की दूसरी शाखा में बच्चों को स्थानातंरण पर भी मनमाने रूपत से पुन: प्रवेश के 40 हजार रुपए भी अनाधिकृत रूप से वसूले जा रहे हैं।

अभिभावकों ने प्रदर्शन कर बड़ी संख्या में अभिभावकों ने विद्यालय पहुंचकर डायरेक्टर/प्रिंसिपल को ज्ञापन देने का प्रयास किया, जिसको स्कूल मैनेजमेंट ने कई दिनों तक जयपुर में ना होने का बहाना देते हुए किसी प्रकार की वार्ता से इनकार कर दिया।

परिजनों ने बताया गया है कि इस बाबत राज्य सरकार के संबंधित विभाग के अधिकारियों को अवगत करवाकर स्कूल के विरुद्ध तत्काल कड़ी कार्यवाही करने की मांग की है। स्कूल द्वारा नियम विरुद्ध बढ़ाए गए समस्त शुल्क और स्कूल फीस की बढ़ोतर वापस लेने के लिए बाध्य किया जाना चाहिए।

इस तरह बढ़ाए हैं शुल्क

सामान स्कूल मार्केट अंतर

डायरी 325 25 300

फोल्डर 175 65 110

बुक्स 2700 1800 900

कॉपी 765 459 306

आर्ट क्राफ्ट 1000 400 600

लाइफ स्किल 200 000 200

मैगजीन 650 000 650

वर्कशॉप 1800 700 1100

आईटी सोर्स 500 000 500

ड्राइंग 110 50 60

टी-शर्ट 1140 700 440

लॉअर 640 360 280

शूज 2500 1700 800