टिकट नहीं देने के कारण भाजपा-कांग्रेस से जैन समाज में भारी रोष

728
- नेशनल दुनिया पर विज्ञापन देने के लिए संपर्क करें 9828999333-
dr. rajvendra chaudhary jaipur-hospital

जयपुर।

आगामी विधानसभा चुनाव को लेकर जयपुर जैन समाज ने भारी रोष व्यक्त करते हुए भाजपा और कांग्रेस दोनों राष्ट्रीय दलों को खुली चेतावनी देते हुए आगाह किया है कि अगर जयपुर की एक भी सीट पर समाज का प्रतिनिधित्त्व नहीं मिला तो दोनों दलों का बहिष्कार किया जाएगा।

पदयात्रा संघ संयोजक सुभाष जैन ने बताया कि करीबन पांच लाख की आबादी जयपुर शहर सहित सम्पूर्ण जयपुर जिले में आती है, और जयपुर जिले में कुल 16 विधानसभा सीटे आती हैं, जिसमें से एक भी सीट पर जैन समाज का एक भी प्रतिनिधि को विधानसभा चुनाव में प्रतिनिधित्व नहीं नही दिया।

पिछले 20 वर्षों से जयपुर शहर से 1 सीट देने की मांग जैन समाज कर रहा है, किंतु भाजपा और काँग्रेस दोनों ही दल संगठन का लॉलीपॉप देकर चुप कर देती या फिर आश्वासन देकर गुमराह कर देती है।

किंतु इस बार जैन समाज चुप नहीं बैठेगा और अपना हक लेकर रहेगा। अगर हक नहीं मिलता है, तो दोनों दलों का बहिष्कार खुले मंच पर आकर करेगा।

राजस्थान जैन सभा अध्यक्ष कमलबाबू जैन ने बताया कि भाजपा व कांग्रेस सहित प्रमुख राजनैतिक दलों ने 4 लाख से भी अधिक आबादी वाले जैन समाज को इन चुनावों में प्रत्याशी बनाने से किनारे कर समाज पर बहुत बड़ा कुठाराघात किया है।

जबकि दोनों दलों सहित अन्य दलों में जैन समाज के व्यक्ति सक्रिय रूप से पार्टी का कार्य कर रहे हैं। भाजपा में संजय जैन जयपुर शहर जिला अध्यक्ष के पद पर काफी सफलतम भाजपाई अध्यक्ष साबित हो रहे हैं, जो सदन में जाते है तो वहां भी भाजपा और समाज का नाम रोशन करेंगे।

किन्तु भाजपा जातिवाद को बढ़ावा देते हुए प्रतिभावान व्यक्ति और समाज के हक को मार रही है। यह प्रतिभा की हत्या नहीं बल्कि समाज की हत्या है। जैन समाज की मांग है कि वह संजय जैन को किसी भी सीट से प्रत्याशी घोषित करे, और कांग्रेस आशा काला या संजय बापना को प्रत्याशी घोषित कर समाज के साथ न्याय करें, अन्यथा समाज भाजपा और कांग्रेस का बहिष्कार करेगा।

अखिल भारतीय दिगम्बर जैन युवा एकता संघ प्रदेश अध्यक्ष प्रमोद बाकलीवाल ने कहा कि भाजपा हो या कांग्रेस दोनों ही दलों ने समाज के हक को दरकिनार कर केवल वोट बैंक की राजनीति पर उतारू है।

अगर दोनों ही दलों ने समाज के साथ न्याय नही किया तो समाज इन दोनों दलों के साथ भी न्याय नही करेगा। शुक्रवार को पूरे जयपुर जैन समाज के प्रत्येक घरो में यही चर्चा रही कि क्या जयपुर जैन समाज केवल वोटर है या इन राजनीतिक दलों का गुलाम है, जो हर बार आश्वासनों का झुनझुना पकड़ाकर वोट हथिया तो लेते हैं, लेकिन कभी समाज को प्रतिनिधित्त्व नहीं देते।

राजस्थान जैन युवा महासभा अध्यक्ष प्रदीप जैन लाला ने बताया कि समाज के गणमान्य श्रेष्ठिजनों तथा विभिन्न संस्थाओं के पदाधिकारियों ने अपनी नाराजगी जताते हुए दोनों दलों से मांग की है कि जयपुर में दो स्थानों से जैन समाज के प्रतिनिधि को उम्मीदवार बनाया जावे, अन्यथा समाज अन्य विकल्पों पर विचार करने को आवश्यक कदम उठाने को मजबूर होगा।

उल्लेखनीय है कि जैन समाज शुरू से ही भाजपा व कांग्रेस के साथ रहा है। राजस्थान जैन सभा, राजस्थान जैन युवा महासभा, दिगम्बर जैन महासमिति, जैन सोश्यल ग्रुप्स इन्टरनेशनल फैडरेशन नार्दन रीजन, दिगम्बर जैन सोशल ग्रुप फेडरेशन, अखिल भारतवर्षीय दिगम्बर जैन परिषद् राजस्थान, अखिल भारतवर्षीय दिगम्बर जैन युवा परिषद्, श्रीभारतवर्षीय दिगम्बर जैन महासभा, जैन राजनैतिक चेतना मंच, अखिल भारतीय दिगम्बर जैन युवा एकता संघ, सामूहिक जिनेन्द्र आराधना संस्था, राजस्थान जैन आर्गेनाईजेशन, वीर सेवक मण्डल सहित कई महिला एवं युवा मण्डलों के पदाधिकारियों ने शुक्रवार को आवश्यक बैठक कर निर्णय लिया है कि उचित प्रतिनिधित्व नहीं देने पर दोनों दलों का चुनाव में विरोध किया जावेगा।

खबरों के लिए फेसबुक, ट्वीटर और यू ट्यूब पर हमें फॉलो करें। सरकारी दबाव से मुक्त रखने के लिए आप हमें paytm N. 9828999333 पर अर्थिक मदद भी कर सकते हैं।