PSLV C45 (ISRO)
PSLV C45

चेन्नई।
भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (isro) ने आज सुबह 9:27 बजे फिर इतिहास रच दिया। ISRO ने श्रीहरिकोटा के एस धवन स्पेस सेंटर से 29 नैनो Satellite लॉन्च उनको अलग—अलग कक्षा में स्थापित करने का रिकॉर्ड बनाया है।

इन 29 में से भारत का 1 सैटेलाइट एमिसेट, 24 अमेरिका के हैं जबकि 2 लिथुआनिया व 1-1 Satellite स्पेन और स्विट्जरलैंड के हैं। इसरो का मिशन पहली बार एकसाथ तीन कक्षाओं के लिए भेजा किया गया है। लॉन्चिंग PSLV-C45 रॉकेट की मदद से की गई।

एमिसेट का इस्तेमाल इलेक्‍ट्रोमैग्‍नेटिक स्‍पेक्‍ट्रम को नापने के लिए होगा। इससे किसी भी देश के रडार पर पैनी नजर रखी जा सकेगी। साथ ही उसकी लोकेशन का भी पता रहेगा। इन उपग्रहों में एमिसेट का वजन 436 किलो था, जबकि अन्य 28 उपग्रहों का कुल वजन 220 किलोग्राम है।

PSLV ने 749 किमी की ऊंचाई पर एमिसेट को स्थापित किया है। चौथे चरण में लगे सोलर पावर इंजन को करीब 504 किमी की ऊंचाई पर भेजा और यहीं पर बाकी सभी 28 विदेशी उपग्रह स्थापित किए हैं। इस चरण में ही रॉकेट को 485 किमी हाइट पर 3 प्रायोगिक पेलोड की सहायता से चंद्रयान-2 मिशन से जुड़े खास प्रयोग किए जा सकेंगे।

इससे पहले 15 फरवरी 2017 को भारत ने एक साथ 104 उपग्रह लॉन्च करने का वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाया था। इसरो ने केवल 30 मिनट में रॉकेट से दुनिया के 7 देशों के 104 उपग्रह एक साथ लॉन्च किए थे। उससे पहले तक यह रिकॉर्ड रूस के नाम था। रुस ने साल 2014 को एकसाथ 37 Satellite लॉन्च किए थे।

अधिक खबरों के लिए हमारी वेबसाइट www.nationaldunia.com पर विजिट करें। Facebook,Twitter पे फॉलो करें।