Jaipur

इंडियन स्पेस रिसर्च ऑर्गेनाइजेशन, यानी इसरो (ISRO) के द्वारा एक दिन पहले ही घोषणा की गई थी कि chandrayaan-2 के साथ चंद्रमा पर लैंड करने वाला लेंडर विक्रम से संपर्क टूट गया है।

चंद्रमा पर उतरने से 2.1 किलोमीटर पीछे ही संपर्क टूटने के कारण इस अभियान को 95% ही सफल बताया गया।

किंतु सारी निराशा को दरकिनार करते हुए इसरो के वैज्ञानिक लगातार विक्रम से संपर्क साधने का प्रयास करते रहे करीब 36 घंटे बाद इसरो के वैज्ञानिकों को बड़ी सफलता हाथ लगी है।

बताया जा रहा है कि ऑर्बिटर से करीब 500 मीटर दूर, यानी लक्ष्य के करीब 500 मीटर दूर विक्रम की लैंडिंग हुई है।

ऑर्बिटर के माध्यम से हाई रिजर्वेशन की तस्वीरें भेजी गई है, और जल्द ही विक्रम से संपर्क हो सकता है।

इसरो के प्रमुख के सिवान ने इस बात की जानकारी देते हुए बताया कि हो सकता है जल्द ही देश के लिए बड़ी खुशखबरी सामने आए।

यदि ऐसा होता है तो chandrayaan-2 के अभियान को पूरी तरह सफल माना जाएगा।