-शास्त्रीय-कव्वाली-ग़ज़ल की जुगलबंदी

जयपुर।

रविवार को जयपुर शहर के एक रेस्टोरेंट में इश्क की अर्जियां एल्बम लॉन्च किया गया। कार्यक्रम में एलबम की लॉन्चिंग से पहले पीयूष भाटिया और विजय जेसवानी ने लाइव परफॉर्मेंस दी।

संगीतकार और गायक पीयूष भाटिया ने बताया कि इसके टाइटल सांग “इश्क़ की अर्ज़ियाँ” की खास बात है यह है कि पहली बार ग़ज़ल, कव्वाली और शास्त्रीय संगीत को एक साथ गीत में पिरोया गया है।

वहीं, शहर के युवा गीतकार और सिनेमेटोग्राफर विशाल गुप्ता ने बताया कि इस गीत के फिल्मांकन का ज्यादातर हिस्सा एक साधारण स्मार्टफोन के जरिए शूट किया गया है।

उन्होंने बताया कि इस पूरे गीत को कम बजट और कड़ी मेहनत से पूरा किया गया। कार्यक्रम के विशेष अतिथि प्रवीण नाहटा, विश्वविख्यात शास्रीय गायक गिरीन्द्र तलेगांवकर और ललित कला अकादमी के अध्यक्ष डॉ. अश्विन एम दलवी भी मौजूद रहे।

जैसलमेर के रहने वाले पीयूष भाटिया गत 15 वर्षों से संगीत के क्षेत्र से जुड़े हैं, और कई टैलेंट हंट कार्यक्रमों में भाग लेकर प्रसिद्धि पा चुके हैं।

जयपुर की गायिका सुष्मिता झा, जो कि राजस्थान यूनिवर्सिटी से गायन में स्वर्ण पदक विजेता हैं, ने सहज ही इस एल्बम से जुड़ना स्वीकार किया।

इस गीत में गायिका सोनू कंवर के गाए गए शास्त्रीय अलाप और सरगम इस एल्बम के टीजर द्वारा पहले ही लोकप्रियता पा चुके हैं।

इस गीत में हीरो का किरदार निभाने वाले मॉडल दीपक शर्मा, पत्रकार होने के साथ साथ एक लेखक और कवि भी हैं।

वहीं, नायिका का किरदार निभाने वाली गीतांजलि चौहान, एक आर जे और मॉडल हैं।

इस गीत के निर्देशन और फिल्मांकन का जिम्मा निभाने वाले विशाल गुप्ता, पेशे से एक हॉस्पिटल में पैरामेडिकल इंचार्ज हैं।

लेकिन, उनके कविता और कहानी लेखन के साथ साथ फोटोग्राफी के हुनर ने इस गीत को फिल्माने की प्रेरणा दी।

अधिक खबरों के लिए हमारी वेबसाइट www.nationaldunia.com पर विजिट करें। Facebook,Twitter पे फॉलो करें।