www.nationaldunia.com
www.nationaldunia.com

नई दिल्ली।

मई 2014 में नरेंद्र दामोदरदास मोदी ने जब हिंदूस्तान के प्रधानमंत्री की कुर्सी संभाली थी, तब उन्होंने कहा था कि वह जनता को अपने पांच साल के कार्यकाल का हिसाब 2019 में देंगे। मोदी ने इन पांच सालों में करीब पांच दर्जन बड़ी योजनाएं शुरू कीं।

पीएम मोदी के द्वारा शुरू की गई तमाम योजनाओं ने उनको वोट देने वाले लोगों को अपना फैसला जायज ठहराने का काम किया, किंतु कालेधन को सफेद करने के लिए नोटबंदी करने वाली एतिहासिक स्कीम ने मोदी के खिलाफ विपक्ष को एक मुद्दा भी दे दिया। एक देश एक कर वाले जीएसटी को भले ही दुनियाभर में केवल भारत ने लागू करने में सफलता पाई हो, लेकिन इसको भी विपक्ष हथियार बनाने का प्रयास किया। मगर विपक्ष की इस कोशिश को मोदी सरकार ने विफल कर दिया।

पीएम मोदी सरकार के द्वारा देश के विकास के लिए किए गए तमाम प्रयासों, विदेशों में भारत का मान बढ़ाने के बाद भी 4 साल बाद लगने लगा था कि पीएम मोदी को दुबारा सत्ता आना थोड़ा मुश्किल हो सकता है। इस बीच विपक्ष की एकता के तौर पर महागठंधन बनाने की कोशिश ने मोदी को चाहने वालों को निराश किया। लेकिन 12 फरवरी को जम्मू के पुलवामा जिले में सीआरपीफ के काफिले पर हमला हुआ, जिसमें देश के 44 सपूत शहीद हो गए।

इसके बाद मोदी सरकार पर बदला लेने का भारी दबाव बन गया। जो मोदी सरकार देश की सुरक्षा और एक के बदले दस सिर लाने का दावा करती थी, उसकी साख ही दांव पर लग गई। लेकिन भारत के वायुवीरों द्वारा अगले 12 दिन में ही देश को झूमने का मौका दे दिया। मोदी सरकार के खुले निर्देश पर भारत की वायुसेना ने पाकिस्तान में घुकसर पड़ोसी मुल्क की हेंकड़ी निकाल दी।

बस फिर क्या था, मोदी सरकार का जो ग्राफ नीचे जाने लगा था, वह अचानक से फिर सातवें आसमान पर पहुंच गया। विपक्ष ने सेना द्वारा की गई इस एयर स्ट्राक के सहारे मोदी सरकार पर सेना का राजनीतिकरण करने का आरोप लगाया, लेकिन देश की आवाम ने विपक्ष के इस आरोप को सिरे से खारिज कर दिया।

अब, जबकि करीब आधी से ज्यादा लोकसभा सीटों पर मतदान का कार्य पूर्ण हो चुका है, तब ऐसा लगने लगा है कि मोदी समर्थकों की मंशा के मुताबिक एक बार फिर से केंद्र में मोदी सरकार का सपना साकार होने जा रहा है। विपक्ष, जो कभी महागठंधन कर मोदी को सत्ता से हटाने का सपना देख रहा था, वह भी अब तितर भीतर हो चका है।

चुनाव के बीच जिस तरह की ग्राउंड रिपोर्ट सामने आ रही है, उसके बाद यह कहना अतिश्योक्ति नहीं होगा कि 23 मई के बाद देश में मोदी सरकार फिर से पांच साल के लिए सत्ता में काबिज होने जा रही है।

दुनिया के तमाम देशों और विकसित देशों के राष्ट्राध्यक्षों ने नरेंद्र मोदी का लोहा माना है, इससे भी भारत की ताकत का अहसास हो रहा है। मोदी की विदेश नीति के चलते पड़ोसी मुल्क पाकिस्तान आज जिस बदहाली के दौर से गुजर रहा है और आतंकी मौलाना मसूद अजहर को यूएन से बैन करवाकर प्रधानमंत्री मोदी ने विश्व में हिंदूस्तान की फिर से धाक जमाई है।

मोदी सरकार की नीतियों के बाद अब जिस रफ्तार से भारत आगे बढ़ रहा है, उससे ऐसा लग रहा है कि हिंदूस्तान फिर से विश्व गुरू बनने की ओर बढ़ रहा है। दुनिया में 6ठी आर्थिक महाशक्ति बन चुका भारत अब विश्व की महाशक्ति बनने की ओर कदम बढ़ा चुका है।

अधिक खबरों के लिए हमारी वेबसाइट www.nationaldunia.com पर विजिट करें। Facebook,Twitter पे फॉलो करें।