—भाजपा को सर्वाधिक नुकसान

जयपुर।
राजस्थान में ऐसे में कांग्रेस जहां 28 बागी नेताओं को 6 साल के लिए पार्टी से बाहर कर चुकी है, वहीं बीजेपी ने 13 बागियों को पार्टी से निकाल दिया है।

राजस्थान में 135 ऐसी सीटें हैं, जहां पर लड़ाई केवल बीजेपी और कांग्रेस के बीच हुआ है। 35 सीटों पर त्रिकोणीय मुकाबला देखने को मिला है।

25 ऐसी सीटें हैं, जहां चतुष्कोणीय मुकाबला भी दिखा है। कांग्रेस ने गठबंधन में शामिल पार्टियों को 5 सीटें दी थीं।

बीजेपी के बागी

  1. हेमसिंह भडाना
    विधानसभा सीट- थानागाजी
    राजे सरकार में मोटर गैराज मंत्री रहे हैं।
  2. राजकुमार रिणवा
    विधानसभा सीट- रतनगढ़
    राजस्थान सरकार में देवस्थान मंत्री।

3.धन सिंह रावत
विधानसभा सीट- बांसवाड़ा
प्रभाव- पंचायती राज राज्य मंत्री।

  1. सुरेंद्र गोयल
    विधानसभा सीट- जैतारण
    प्रभाव- जन स्वास्थ्य और अभियांत्रिकी मंत्री।
  2. कमसा मेघवाल
    विधनसभा सीट— भोपालगढ़
    प्रभाव— राज्यमंत्री, एससी वोटर्स में प्रभाव।
  3. ओम प्रकाश हुड़ला
    विधानसभा सीट- महुआ
    प्रभाव- संसदीय सचिव।

कांग्रेस के प्रमुख बागी नेता—

  1. महदेव सिंह खंडेला
    विधानसभा सीट- खंडेला
    प्रभाव- पूर्व केंद्रीय मंत्री। पांच बार के विधायक। एक बार सांसद और केंद्र में मंत्री रहे।
  2. बाबू लाल नागर
    विधानसभा सीट- दूदू
    प्रभाव- पूर्व खाद्य आपूर्ति मंत्री। एक बार के मंत्री। रेप केस के आरोपी हैं।
  3. नाथूराम सिनोदिया
    विधानसभा सीट- किशनगढ़
    प्रभाव- सिनोदिया कांग्रेस के वर्तमान आधिकारिक प्रत्याशी के सलाहकार रह चुके हैं।
  4. रामकेश मीणा
    विधानसभा सीट- गंगापुर सिटी
    प्रभाव- पूर्व संसदीय सचिव। मजबूत आदिवासी चेहरा।
  5. सीएल प्रेमी
    विधानसभा सीट- केशवरायपाटन
    प्रभाव- पूर्व विधायक।
  6. सीएस बेद
    विधानसभा सीट—तारानगर
    प्रभाव—पूर्व मंत्री, विधायक।

अधिक खबरों के लिए हमारी वेबसाइट www.nationaldunia.com पर विजिट करें। Facebook,Twitter पे फॉलो करें।