Jaipur

राजस्थान में शिक्षा का सबसे बड़ा मंदिर, यानी राजस्थान विश्वविद्यालय icici बैंक का showrrom बन गया है। यहां पर प्रशासनिक भवन के पीछे स्थानीय icici bank की ब्रांच द्वारा चौपहिया और दुपहिया वाहनों को बेचने के लिए स्पॉट कर showroom की तरह गाड़ियां बेचने का काम किया जा रहा है।

सबसे गंभीर बात यह है कि इस वाहन प्रदर्शनी के लिए bank ने विवि प्रशासन से अनुमति भी नहीं ली है। तमाम तरह की चर्चा के बाद विवि के सुरक्षा प्रहरियों ने आपत्ति की है।

जब विवि की गार्ड टीम के सिक्युरिटी ऑफिसर ने बैंक की केनोपी हटाने को कहा तो बैंक मैनेजर ने जवाब दिया कि उन्होंने इसके लिए वित्त एवं लेखा विभाग से अनुमति ली है।

जबकि अनुमति देने के लिए कुलसचिव कार्यालय को इस बारे में जानकारी ही नहीं है। सुरक्षा प्रहरियों को विवि के रजिस्ट्रार ने बैंक की केनोपी हटाने के निर्देश दिए हैं।

कुलपति सचिवालय के सामने की तरफ यह सबकुछ हो रहा है, किन्तु दोपहर 2:30 बजे तक यहां पर बैंक ने अपनी प्रदर्शनी लगाई है। खबर लिखे जाने तक भी बैंक की दोपहिया और चौपहिया वाहनों के अलावा केनोपी लगाकर प्रचार जारी था।

यह पहला मौका है, कब किसी निजी संस्था के द्वारा विवि परिसर के भीतर प्रचार किया गया है। अपुष्ट सूत्रों के मुताबिक इस बाबत विवि के वित्त विभाग द्वारा किराया भी वसूला गया है।

विवि परिसर में इस तरह की घटना को लेकर कुलसचिव प्रह्लाद सिंह से बात नहीं हो पाई है।