IAS dr samit sharma
IAS dr samit sharma

दिनेश कडवा@कुचामनसिटी।

नागौर जिले के पूर्व जिला कलक्टर व वर्तमान में राजस्थान सरकार में चिकित्सा विभाग के अतिरिक्त शासन सचिव तथा एनआरएचएम के डायरेक्टर डॉ. समित शर्मा सोमवार को पिछले 8 वर्षाें बाद अचानक कुचामन पहुंचे।

उनके पूर्व निर्धारित कार्यक्रम से पहले ही दोपहर 12ः30 बजे शहर के राजकिय चिकित्साल कुचामन सिटी पहुंचकर सभी वार्डों का औचक निरीक्षण किया।

आईएएस डॉ. समित शर्मा ने शिशु वार्ड में निरीक्षण के बाद खुशी जाहिर की तथा पूरे नागौर जिले के चिकित्सालयों को छोडकर राजस्थान में सबसे अच्छे वार्ड की विशेषता बताई।

शिशु वार्ड से प्रभावित होकर डॉ. समित शर्मा ने इस वार्ड को क्रमोन्त करवाने की बात कही। इस मौके पर डॉ समित शर्मा ने चिकित्सालयों के सभी वार्डों, दवा केन्द्र, सोनोग्राफी रूम, प्रसुति वार्ड, आपातकालिन कक्ष का भी निरीक्षण किया।

चिकित्साकर्मियों की ली बैठक, कहा आप अपने काम के प्रति जिम्मेदार बनो

एनआरएचएम के डायरेक्टर डॉ. समित शर्मा कुचामन पहुंचे, जहां उन्होंने राजकिय चिकित्सालय में औचक निरीक्षण के बाद कई खामियां निकाली। इस मौके पर पीएमओ डॉ. रत्नु से साथ समस्त स्टाॅफ के साथ राजकिय चिकित्सालय में मरीजों के स्वास्थ्य जांच को लेकर जो भी समस्याएं आ रही है उस बारे में बैठक ली।

बैठक में डॉ शर्मा ने सभी चिकित्सको की क्लाश ली और एक एक डॉक्टर से उनकी समस्याओं पर खुलकर सवाल-जवाब किए।

शर्मा ने अचानक कार से उतरकर हॉस्पिटल रोड पर कायदों को धत्ता बताते हुए चल रहे छोटे छोटे क्लिनिकों की जांच पडताल की तो भारी खामियां पाई गई। इस मामले को लेकर पीएमओ डॉ. रत्नु को ध्यान दिलाते हुए उन्होंने कहा कि आपकी देखरेख में ये खुलेआम चिकित्सालय क्षैत्र के आसपास क्या चल रहा है।

डॉ. शर्मा ने इस मौके पर कुछ सरकारी चिकित्सकों को भी बताया की सरकार आपको डेढ से 2 लाख रूपये प्रति महिना तन्खाह दे रही है, उसके बावजूद आप चिकित्सालय में आने वाले रोगियों की जांच निजी क्लिनिक पर कर रहे हैं।

दवा केन्द्र का किया औचक निरीक्षण

कुचामन राजकिय चिकित्सालय में राज्य सरकार द्वारा दी जा रही निःशुल्क दवा केन्द्र का भी डॉ. समित शर्मा ने औचक निरीक्षण किया, जिसको लेकर वहां पर काम कर रहे कर्मचारीयों के होश उड़ गये।

डॉ. शर्मा की बात का मौके पर उपस्थित कर्मचारी जवाब नही दे पाये। जिसपर उन्होंने कर्मचारियों को कड़ी फटकार लगाई। इससे पूर्व डॉ शर्मा ने बैठक के दौरान सभी डॉक्टरों को बताया की “जब मैं यहां पर नागौर से जिला कलक्टर हुआ करता था, तब ऐसी व्यवस्थाएं नहीं थीं, आज चिकित्सालय के बाहर काफी हालात खराब है।”

निःशुल्क दवा के बावजूद भी मरीजों को यहा लूटा जा रहा है

डॉ शर्मा ने हालात देखकर कहा कि मरीजों की समय पर देखभाल नहीं हो रही है। यह सिस्टम जल्द से जल्द सुधार लें, नहीं तो फिर मंहगा पड़ेगा।

बल्ड बैंक खोलने का किया इशारा

डॉ. समित शर्मा ने मौके पर एक बार फिर कुचामन विकास समिति अध्यक्ष ओमप्रकाश काबरा ने ब्लड बैंक की बात उठाई तो बताया कि आपके यहां ज्यादातर आॅपरेशन निजी चिकित्सालयों में हो रहे हैं।

जिसके कारण ब्लड बैंक की जो नियम शर्तें हैं, वो पूरी नहीं हो रही है उसके अभाव में यहां पर समय लग रहा है। उसके बावजूद भी उन्होंने जल्द से जल्द कुचामन में ब्लड बैंक खोलने की बात कही।

अधिक खबरों के लिए हमारी वेबसाइट www.nationaldunia.com पर विजिट करें। Facebook,Twitter पे फॉलो करें।